Home   »   विलय के बाद, एसबीआई का एकमात्र...

विलय के बाद, एसबीआई का एकमात्र संस्था के रूप में कार्य शुरू

विलय के बाद, एसबीआई का एकमात्र संस्था के रूप में कार्य शुरू |_50.1
देश के सबसे बड़े ऋणदाता भारतीय स्टेट बैंक ने 1 अप्रैल 2017 से भारतीय महिला बैंक के अलावा अपने पांच सहयोगी बैंकों के विलय के बाद एकीकृत इकाई के रूप में कार्य करना शुरू कर दिया है. एसबीआई के साथ विलय करने वाले पांच सहयोगी बैंक स्टेट बैंक ऑफ मैसूर (एसबीएम), स्टेट बैंक ऑफ पटियाला (एसबीपी) और स्टेट बैंक ऑफ त्रावणकोर (एसबीटी) , स्टेट बैंक ऑफ बिकानेर एंड जयपुर (एसबीबीजे), स्टेट बैंक ऑफ हैदराबाद (एसबीएच) है, विलय के साथ, एसबीआई परिसंपत्तियों के मामले में वैश्विक स्तर पर शीर्ष 50 बैंकों की लीग में शामिल हो गया है



 
बैंक का देश भर में करीब 24,000 शाखाओं के एक शाखा नेटवर्क के साथ कुल ग्राहक आधार 37 करोड़ है और लगभग 59,000 एटीएम तक इसकी पहुंच है. विलय की गयी इकाई में अब 26 लाख करोड़ रुपये से अधिक का जमा आधार है और 18.50 लाख करोड़ रुपये का एडवांसमेंट स्तर है.


    उपरोक्त समाचार से परीक्षा उपयोगी तथ्य :
    • स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की स्थापना 1 जुलाई 1955 को हुई थी.
    • पांच सहयोगी बैंक और भारतीय महिला बैंक भारतीय स्टेट बैंक का हिस्सा बन गए हैं.
    • भारतीय स्टेट बैंक देश का सबसे बड़ा ऋणदाता है.
    • एसबीआई की अध्यक्ष श्रीमती अरुंधति भट्टाचार्य हैं.
    • एसबीआई का मुख्यालय मुंबई, महाराष्ट्र में है.
    • संपत्ति के मामले में एसबीआई विश्व स्तर पर शीर्ष 50 बैंकों की लीग में शामिल हो गया है।
    If you have any other takeaways, do share with us in the comment section

    स्रोत- द इकोनॉमिक टाइम्स
    Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

    TOPICS:

    Leave a comment

    Your email address will not be published. Required fields are marked *