gdfgerwgt34t24tfdv

हरमनप्रीत कौर स्मृति मंधाना को पीछे छोड़कर भारत की ओर से सबसे ज्यादा टी20 रन बनाने वाली खिलाड़ी बनीं

about |_3.1

हरमनप्रीत कौर अब स्मृति मंधाना को पछाड़कर भारत की ओर से महिला टी20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सर्वाधिक रन बनाने वाली खिलाड़ी बन गई हैं। यह उपलब्धि 21 जुलाई को दांबुला में यूएई के खिलाफ भारत के महिला एशिया कप टी-20 मैच के दौरान हासिल की गई। यूएई ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया, स्मृति मंधाना 13 रन बनाकर आउट हो गईं।

भारतीय कैप्शन और अन्य का प्रदर्शन

शेफाली वर्मा ने आक्रामक खेल दिखाया और आउट होने से पहले 18 गेंदों पर 37 रन बनाए। हरमनप्रीत कौर को स्मृति के 3,378 रनों के रिकॉर्ड को तोड़ने के लिए केवल 30 रनों की जरूरत थी।

भारतीय कप्तान ने शानदार प्रदर्शन करते हुए 47 गेंदों पर सात चौकों और एक छक्के की मदद से 66 रन बनाए। जेमिमाह रोड्रिग्स और ऋचा घोष के साथ मजबूत साझेदारी बनाने के बाद वह अंतिम ओवर में रन आउट हो गईं।

हरमनप्रीत के अब तक 171 टी20 मैचों में 3,415 रन हो गए हैं, जिसमें 28.22 की औसत और 107.35 की स्ट्राइक रेट शामिल है। वह अभी अपने डिप्टी से 37 रन आगे हैं।

ऋचा घोष ने भी बल्ले से कमाल दिखाया और 29 गेंदों पर 12 चौकों और एक छक्के की मदद से 64 रन बनाए। वह नाबाद रहीं और भारत ने 20 ओवर में 201/5 का चुनौतीपूर्ण स्कोर बनाया, जो विश्व टी20 में भारत का पहला 200 से ज़्यादा का स्कोर था। इससे पहले, उनका सर्वोच्च स्कोर मुंबई के ब्रेबोर्न स्टेडियम में इंग्लैंड के खिलाफ़ 198/4 था।

जीत का मौका

हालाँकि, 202 रन के लक्ष्य का पीछा करना यूएई की अनुभवहीन बल्लेबाजी लाइनअप के लिए एक कठिन काम होगा। सात बार के एशिया कप चैंपियन भारत के पास अपने पहले मैच में पाकिस्तान को सात विकेट से हराने के बाद लगातार दो मैच जीतने का मौका है। इसके विपरीत, यूएई को नेपाल के खिलाफ अपने पहले मैच में हार का सामना करना पड़ा।

about |_4.1

ओलंपिक ईस्पोर्ट्स गेम्स सऊदी अरब में आयोजित किए जाएंगे: आईओसी

about |_6.1

अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति (आईओसी) ने 12 जुलाई को घोषणा की कि उसने सऊदी अरब में 2025 के पहले ओलंपिक ईस्पोर्ट्स गेम्स की मेजबानी के लिए सऊदी अरब की राष्ट्रीय ओलंपिक समिति (एनओसी) के साथ साझेदारी की है। यह महत्वपूर्ण कदम आईओसी की हाल की घोषणा के बाद उठाया गया है जिसमें कहा गया है कि आईओसी कार्यकारी बोर्ड (ईबी) ने ओलंपिक ईस्पोर्ट्स गेम्स की स्थापना की है। यह प्रस्ताव आईओसी सत्र में रखा जाएगा, जो 2024 पेरिस ओलंपिक खेलों की पूर्व संध्या पर आयोजित किया जाएगा।

ओलंपिक ईस्पोर्ट्स गेम्स के बारे में

आईओसी और सऊदी एनओसी के बीच साझेदारी की अवधि 12 वर्ष होगी, जिसमें ओलंपिक ईस्पोर्ट्स गेम्स नियमित रूप से आयोजित किए जाएंगे। सऊदी अरब के खेल मंत्री और ओलंपिक एवं पैरालंपिक समिति के अध्यक्ष एचआरएच प्रिंस अब्दुलअजीज बिन तुर्की अल फैसल ने कहा, “सऊदी अरब आईओसी के साथ साझेदारी करने और अंतर्राष्ट्रीय खेलों के लिए एक बिल्कुल नए युग का स्वागत करने में मदद करने की संभावना से बेहद उत्साहित है।” हमारा मानना ​​है कि ओलंपिक खेलों में भाग लेना किसी भी एथलीट के लिए सबसे बड़ा सम्मान है। और हमें ओलंपिक इतिहास में एक नया अध्याय लिखने में सहयोग करने पर गर्व है, जिसमें दुनिया भर के लाखों एथलीटों के लिए नए सपने और नई महत्वाकांक्षाएँ प्रेरित करने की क्षमता है।

खेल का महत्वपूर्ण विकास

यह साझेदारी ऐसे समय में हुई है जब सऊदी अरब में खेलों का समग्र विकास हो रहा है और यह विज़न 2030 के तहत देश के सामाजिक और आर्थिक परिवर्तन से प्रेरित है। 2018 से, किंगडम को कुछ सबसे बड़े वैश्विक खेल आयोजनों का आयोजन करने का काम सौंपा गया है, जिसमें पुरुष और महिला एथलीटों के लिए 100 से अधिक अंतर्राष्ट्रीय आयोजन शामिल हैं, जिनमें ईस्पोर्ट्स, फ़ुटबॉल, मोटरस्पोर्ट्स, टेनिस, घुड़सवारी और गोल्फ़ शामिल हैं, जो 2.6 मिलियन से अधिक खेल प्रशंसकों को आकर्षित करते हैं।

खेल भागीदारी स्तर

परिणामस्वरूप, खेल सऊदी अरब में शौकिया से लेकर अभिजात वर्ग तक हर स्तर पर रोज़मर्रा की ज़िंदगी का एक हिस्सा बन गया है। 2015 से कुल मिलाकर खेल भागीदारी का स्तर तीन गुना से ज़्यादा बढ़कर देश की आबादी का लगभग 50 प्रतिशत हो गया है। इस दौरान खेल महासंघों की संख्या भी तीन गुना बढ़कर 32 से 98 हो गई है, जिसमें सऊदी ईस्पोर्ट्स फेडरेशन इस वृद्धि का एक उदाहरण है। सऊदी की 67 प्रतिशत आबादी खुद को गेमर मानती है, और पूर्णकालिक करियर बनाने वाले प्रो ईस्पोर्ट्स खिलाड़ियों की संख्या लगातार बढ़ रही है, जो वर्तमान में 100 है।

महिलाओं के खेल में तेज़ी से वृद्धि

विशेष रूप से महिलाओं के खेल में तेज़ी से वृद्धि देखी गई है, और किंगडम के 23 मिलियन गेमर्स में से लगभग आधी महिलाएँ हैं। अब 330,000 से ज़्यादा पंजीकृत महिला एथलीट हैं और लगभग 40 महिला राष्ट्रीय टीमें अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रतिस्पर्धा कर रही हैं। जमीनी स्तर पर खेल भी फल-फूल रहे हैं, तथा खेल सभी लड़कियों के लिए स्कूली पाठ्यक्रम का अभिन्न अंग बन गए हैं, जैसा कि प्रत्येक सप्ताह स्कूल फुटबॉल लीग में खेल रही 70,000 स्कूली लड़कियों से स्पष्ट होता है। खेल खेलने के अलावा, विनियमों में सुधार से यह सुनिश्चित हो गया है कि सभी खेल महासंघों के बोर्ड में महिलाओं का प्रतिनिधित्व हो, तथा अब 100 से अधिक महिलाओं की नियुक्ति हो चुकी है, जिनमें सात महिला महासंघ अध्यक्ष भी शामिल हैं।

about |_4.1

 

भारत का राष्ट्रीय ध्वज दिवस 2024: तिरंगे का सम्मान

about |_9.1

भारत का राष्ट्रीय ध्वज दिवस 22 जुलाई, 1947 को संविधान सभा द्वारा भारतीय राष्ट्रीय ध्वज को अपनाने की याद में मनाया जाता है, जो 15 अगस्त, 1947 को देश को ब्रिटिश शासन से स्वतंत्रता मिलने से कुछ ही दिन पहले हुआ था। सरकारी वेबसाइट नो इंडिया के अनुसार, यह दिन बहुत महत्व रखता है क्योंकि यह भारत की एकता, अखंडता और संप्रभुता के प्रतीक का सम्मान करता है।

ध्वज का डिज़ाइन और प्रतीकात्मकता

भारतीय राष्ट्रीय ध्वज, जिसे “तिरंगा” के नाम से जाना जाता है, में समान चौड़ाई की तीन क्षैतिज पट्टियाँ होती हैं। सबसे ऊपर की पट्टी केसरिया रंग की है, जो साहस और बलिदान का प्रतीक है। बीच की पट्टी सफ़ेद रंग की है, जो शांति और सत्य का प्रतीक है, जिसके बीच में गहरे नीले रंग का अशोक चक्र है, जो कानून के शाश्वत चक्र का प्रतीक है। नीचे की पट्टी हरे रंग की है, जो विकास और शुभता को दर्शाती है। ध्वज का अनुपात 2:3 के अनुपात में है, और अशोक चक्र में 24 तीलियाँ हैं, जो निरंतर प्रगति का प्रतिनिधित्व करती हैं। यह डिज़ाइन गहरे प्रतीकात्मकता को दर्शाता है, जो भारतीय राष्ट्र के मूल्यों और आकांक्षाओं को दर्शाता है।

ऐतिहासिक संदर्भ

ध्वज का डिज़ाइन भारत की स्वतंत्रता से कुछ सप्ताह पहले ही अपनाया गया था, इसे पहले के संस्करण को बदलने के लिए चुना गया था। एक महत्वपूर्ण बदलाव यह था कि चरखे या “चरखे” की जगह अशोक चक्र को रखा गया। स्वतंत्रता संग्राम के दौरान चरखा आत्मनिर्भरता और प्रतिरोध का एक शक्तिशाली प्रतीक रहा था। इस बदलाव का सुझाव बदरुद्दीन तैयबजी ने दिया था और महात्मा गांधी ने इसका समर्थन किया था, जो संघर्ष के प्रतीकों से शासन और प्रगति के प्रतीकों में बदलाव का प्रतीक था।

भारतीय ध्वज संहिता

2002 में, भारतीय ध्वज संहिता को संशोधित किया गया था ताकि नागरिकों को किसी भी दिन राष्ट्रीय ध्वज प्रदर्शित करने और उसका उपयोग करने की अनुमति मिल सके, न कि केवल राष्ट्रीय दिवसों पर, जैसा कि पहले अनिवार्य था। इस परिवर्तन का उद्देश्य नागरिकों और उनके राष्ट्रीय प्रतीक के बीच गहरा संबंध विकसित करना था। हालाँकि, संहिता इस बात पर ज़ोर देती है कि ध्वज का हमेशा सम्मान और गरिमा के साथ व्यवहार किया जाना चाहिए।

महत्व और पालन

राष्ट्रीय ध्वज दिवस केवल ध्वज का सम्मान करने का दिन नहीं है; यह भारत के स्वतंत्रता संग्राम से जुड़े मूल्यों और बलिदानों पर चिंतन करने का अवसर भी है। स्कूल, सरकारी संस्थान और विभिन्न संगठन अक्सर इस राष्ट्रीय प्रतीक को श्रद्धांजलि देने और नागरिकों को इसके महत्व के बारे में शिक्षित करने के लिए समारोह आयोजित करते हैं।

इन समारोहों में आम तौर पर ध्वजारोहण समारोह, देशभक्ति के गीत और ध्वज के इतिहास और महत्व के बारे में शैक्षिक कार्यक्रम शामिल होते हैं। ऐसे आयोजन सभी उम्र के नागरिकों में राष्ट्रीय गौरव और एकता की भावना पैदा करने में मदद करते हैं।

यह दिन भारतीयों की सामूहिक पहचान और ध्वज में निहित आदर्शों की याद दिलाता है। यह देश की समृद्ध विरासत, विविध संस्कृति और प्रगति और एकता की दिशा में चल रही यात्रा का प्रतिनिधित्व करता है। तिरंगे का सम्मान करके, भारतीय लोकतंत्र, धर्मनिरपेक्षता और सामाजिक न्याय के सिद्धांतों के प्रति अपनी प्रतिबद्धता की पुष्टि करते हैं जो उनके राष्ट्र की नींव बनाते हैं।

शिक्षा सप्ताह 2024: NEP 2020 के 4 साल पूरे होने का जश्न

about |_11.1

स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग राष्ट्रीय शिक्षा नीति (NEP) 2020 की चौथी वर्षगांठ मनाने के लिए 22 जुलाई से 28 जुलाई, 2024 तक शिक्षा सप्ताह मना रहा है। सप्ताह भर चलने वाला यह कार्यक्रम सहयोग को बढ़ावा देने और NEP 2020 द्वारा शुरू किए गए शैक्षिक सुधारों पर प्रकाश डालने पर केंद्रित है।

इवेंट ओवरव्यू

तिथियाँ: 22 जुलाई – 28 जुलाई, 2024
उद्देश्य: सहयोग को बढ़ावा देना और NEP 2020 सुधारों के प्रभाव को प्रदर्शित करना
प्रतिभागी: शिक्षक, छात्र और शैक्षिक हितधारक

दैनिक विषय-वस्तु और गतिविधियाँ

दिन 1 – सोमवार, 22 जुलाई, 2024: शिक्षण-अधिगम सामग्री (टीएलएम) दिवस

शिक्षक कक्षा में स्थानीय संदर्भों पर आधारित शिक्षण-अधिगम सामग्री का प्रदर्शन और उपयोग करेंगे।

दिन 2 – मंगलवार, 23 जुलाई, 2024: आधारभूत साक्षरता और संख्यात्मकता (FLN) दिवस

निपुण/FLN मिशन के सफल कार्यान्वयन के समर्थन हेतु जागरूकता गतिविधियां आयोजित की जाएंगी।

दिन 3 – बुधवार, 24 जुलाई, 2024: खेल दिवस
प्रतियोगिताएं खेल विभाग, युवा मामले, एनएसएस और सामुदायिक सदस्यों के सहयोग से आयोजित की जाएंगी।

दिन 4 – गुरुवार, 25 जुलाई, 2024: सांस्कृतिक दिवस
छात्रों में एकता और विविधता की भावना को बढ़ावा देने के लिए कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे।

दिन 5 – शुक्रवार, 26 जुलाई, 2024: कौशल और डिजिटल पहल दिवस

बदलते रोजगार बाजार, नई कौशल आवश्यकताओं और कक्षा के अनुभवों को बेहतर बनाने के लिए डिजिटल पहलों को समझने पर ध्यान केंद्रित करना।

दिन 6 – शनिवार, 27 जुलाई 2024: ईको क्लब और स्कूल पोषण दिवस
नई ईको क्लबों की स्थापना और #Plant4Mother पहल के तहत एक पौधारोपण अभियान आयोजित किया जाएगा।

दिन 7 – रविवार, 28 जुलाई 2024: सामुदायिक सहभागिता दिवस
गतिविधियों में स्थानीय समुदायों के साथ सहयोग बढ़ाने और सामाजिक-भावनात्मक कल्याण का समर्थन करने के लिए तिथि भोजन और विद्यांजलि शामिल हैं।

उद्देश्य और दिशानिर्देश

वस्‍तुनिष्‍ठ

NEP 2020 की उपलब्धियों का सम्मान करते हुए छात्रों और शिक्षकों को ज्ञान और अवसरों से सशक्त बनाना।

स्कूलों के लिए दिशानिर्देश

  • TLM सामग्री के साथ प्रदर्शनियों की मेज़बानी करें, संगीत और साहित्यिक प्रदर्शनों का आयोजन करें।
  • राज्य दिशानिर्देशों के अनुसार ग्रेड-वार गतिविधियों की तैयारी करें।
  • घटनाओं का डेटा संकलित करें और जिला उप निदेशक को प्रस्तुत करें।

about |_4.1

चीन ने बनाई दुनिया की पहली हाई-स्पीड कार्बन फाइबर ट्रेन

about |_14.1

चीन ने हाल ही में हाई-स्पीड रेल टेक्नोलॉजी में एक अभूतपूर्व प्रगति का प्रदर्शन किया है। जो इस क्षेत्र में वैश्विक नेता के रूप में उसकी स्थिति को मजबूत करता है। इंटरेस्टिंग इंजीनियरिंग के अनुसार, देश ने इतिहास की पहली पूरी तरह से कार्बन फाइबर से बनी यात्री ट्रेन से पर्दा उठया है। मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, चूंकि यह ट्रेन पारंपरिक ट्रेनों की तुलना तुलनात्मक रूप से हल्की है, इसलिए यह प्रदूषण को काफी कम करने में मदद करेगी।

प्रदर्शन से समझौता किए बिना कम वजन और ऊर्जा वाले परिवहन वाहनों का निर्माण रेल परिवहन प्रौद्योगिकी का मुख्य मकसद है। इस फोकस को बनाए रखने पर एक स्वच्छ, कम कार्बन भविष्य निर्भर करता है। साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट में प्रकाशित एक रिपोर्ट में, नई ट्रेन के पीछे की कंपनी, किंगदाओ सिफांग ने चीनी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म वीचैट पर इस बिंदु पर जोर दिया। फैक्ट्री परीक्षण खत्म होने के बाद, इस साल के आखिर में एक तटीय शहर में इस नए कार्बन फाइबर ट्रेन के परिचालन का शुभारंभ होगा।

पर्यावरण के अनुकूल ट्रेन

रिपोर्ट के अनुसार, यह एडवांस्ड ट्रेन 87 मील प्रति घंटे (140 किमी प्रति घंटे) की टॉप स्पीड तक पहुंच सकती है। किंगदाओ सिफांग के अनुसार, ऐसी उम्मीद है कि एक सामान्य स्टील ट्रेन की तुलना में यह ट्रेन 7 प्रतिशत कम ऊर्जा की खपत करेगी। यह टिकाऊ परिवहन में एक उल्लेखनीय प्रगति है क्योंकि ऊर्जा इस्तेमाल में कमी बड़े पर्यावरणीय मकसदों के अनुरूप है।

कम शोर प्रदूषण पैदा

हाई-स्पीड रेल को पहले ही लंबी दूरी के परिवहन के सबसे पर्यावरण के अनुकूल रूप के रूप में स्वीकार किया जा चुका है। यह ट्रेन कम शोर प्रदूषण पैदा करता है, सड़कों की तुलना में बहुत कम जमीन का इस्तेमाल करता है। वाहनों या हवाई जहाजों की तुलना में प्रति यात्री कम वायु प्रदूषण पैदा करता है।

चीन में हाई-स्पीड रेल नेटवर्क

दुनिया चीन के विशाल हाई-स्पीड रेल नेटवर्क की ओर देखती है, जो वर्तमान में लगभग 28,000 मील को कवर करता है। 125 मील प्रति घंटे (202 किमी प्रति घंटे) की टॉप स्पीड के साथ, ये ट्रेनें पूरे विशाल देश में तीव्र, किफायती और प्रभावी यात्रा उपलब्ध कराती हैं।

पीआर श्रीजेश ने पेरिस ओलंपिक 2024 के बाद संन्यास की घोषणा की

about |_16.1

खेल में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले भारतीय हॉकी गोलकीपर पीआर श्रीजेश ने घोषणा की है कि वह पेरिस ओलंपिक 2024 के बाद अंतरराष्ट्रीय हॉकी से संन्यास ले लेंगे। यह निर्णय एक गौरवपूर्ण करियर की समाप्ति को चिह्नित करता है, जिसमें महत्वपूर्ण उपलब्धियाँ और टीम पर स्थायी प्रभाव शामिल है।

सफलता और नेतृत्व की विरासत

2006 में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पदार्पण करने वाले श्रीजेश ने भारतीय हॉकी के पुनरुत्थान में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। उनके करियर में उतार-चढ़ाव आए हैं, जिसमें बीजिंग 2008 ओलंपिक के लिए टीम का क्वालीफाई न कर पाना और लंदन 2012 में निराशाजनक प्रदर्शन शामिल है। हालांकि, उनके नेतृत्व और दृढ़ता ने बाद के आयोजनों में भारत के प्रभावशाली प्रदर्शन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। श्रीजेश ने रियो 2016 में टीम की कप्तानी की और टोक्यो 2021 में कांस्य पदक हासिल करने में अहम भूमिका निभाई।

यादगार उपलब्धियां और पुरस्कार

अपने पूरे करियर के दौरान, श्रीजेश ने 2014 और 2023 एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक और 2014 और 2022 में राष्ट्रमंडल खेलों में रजत पदक सहित कई पुरस्कार अर्जित किए। उन्हें 2021 में मेजर ध्यानचंद खेल रत्न और 2017 में पद्म श्री से सम्मानित किया गया। श्रीजेश ने 2021 और 2022 में लगातार एफआईएच गोलकीपर ऑफ द ईयर पुरस्कार भी जीते और भारत की चार एशियाई चैंपियंस ट्रॉफी जीत का हिस्सा रहे हैं।

एक मार्गदर्शक और प्रेरक

अपने साथियों को प्रेरित करने और उनका हौसला बढ़ाने की अपनी क्षमता के लिए जाने जाने वाले श्रीजेश टीम के भीतर एक प्रिय व्यक्ति रहे हैं। उनके समर्पण, जुनून और नेतृत्व ने भारतीय हॉकी के लिए एक उच्च मानक स्थापित किया है। उनके साथी और कोच दोनों ही टीम की सफलता और मनोबल में उनके योगदान को पहचानते हैं। हॉकी इंडिया के अध्यक्ष दिलीप टिर्की ने श्रीजेश की अनुकरणीय भूमिका की प्रशंसा की और उम्मीद जताई कि उनका अंतिम ओलंपिक अभियान टीम को प्रेरित करेगा।

पेरिस 2024: एक अंतिम लक्ष्य

श्रीजेश अपने अंतिम ओलंपिक की तैयारी कर रहे हैं, वहीं भारतीय टीम उनकी विरासत का सम्मान करने के लिए दृढ़ संकल्पित है। कप्तान हरमनप्रीत सिंह सहित खिलाड़ियों ने पेरिस में पदक जीतने की प्रबल इच्छा व्यक्त की है, उन्होंने अपना अभियान श्रीजेश को समर्पित किया है। लक्ष्य 52 वर्षों में पहली बार पोडियम फिनिश हासिल करना और श्रीजेश के अंतिम टूर्नामेंट को यादगार बनाना है।

about |_4.1

अभिनव बिंद्रा को IOC द्वारा प्रतिष्ठित ओलंपिक ऑर्डर से किया जाएगा सम्मानित

about |_19.1

अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति (IOC) ने भारत के पहले व्यक्तिगत ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता अभिनव बिंद्रा को प्रतिष्ठित ओलंपिक ऑर्डर से सम्मानित किया है। यह सम्मान औपचारिक रूप से पेरिस ओलंपिक के समापन से एक दिन पहले 10 अगस्त, 2024 को पेरिस में 142वें IOC सत्र के दौरान प्रदान किया जाएगा। ओलंपिक ऑर्डर, IOC का सर्वोच्च पुरस्कार है, जो ओलंपिक आंदोलन के प्रति विशिष्ट योगदान को मान्यता देता है।

प्रमुख उपलब्धियां

ओलंपिक स्वर्ण पदक

बिंद्रा ने 2008 बीजिंग ओलंपिक में पुरुषों की 10 मीटर एयर राइफल स्पर्धा जीती और व्यक्तिगत ओलंपिक स्वर्ण जीतने वाले पहले भारतीय बने।

IOC एथलीट आयोग

2018 से बिंद्रा IOC एथलीट आयोग के सदस्य हैं।

पुरस्कार विवरण

पुरस्कार प्रस्तुति

पेरिस में 142वें आईओसी सत्र में बिंद्रा को ओलंपिक ऑर्डर प्रदान किया जाएगा।

पुरस्कार का महत्व

यह सम्मान ओलंपिक आंदोलन में उल्लेखनीय योगदान के लिए दिया जाता है, जो खेल में असाधारण योग्यता या ओलंपिक कारण के लिए महत्वपूर्ण सेवाओं को मान्यता देता है।

प्रतिक्रियाएँ और श्रद्धांजलि

खेल मंत्री का बयान

युवा मामले एवं खेल मंत्री डॉ. मनसुख मंडाविया ने बिंद्रा को बधाई दी और कहा कि उनकी उपलब्धि से राष्ट्रीय गौरव की भावना जागृत हुई है तथा भावी पीढ़ी के खिलाड़ियों को प्रेरणा मिली है।

IOC मान्यता

यह पुरस्कार ओलंपिक आदर्शों और खेल विकास में बिंद्रा की असाधारण सेवा और योगदान को मान्यता देता है।

about |_4.1

पीएम मोदी ने यूनेस्को को 10 लाख डॉलर देने की घोषणा की

about |_22.1

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वैश्विक स्तर पर, खास तौर पर ग्लोबल साउथ में विरासत संरक्षण को बढ़ावा देने के लिए यूनेस्को विश्व विरासत केंद्र को भारत की ओर से दस लाख डॉलर के योगदान की घोषणा की। यह घोषणा नई दिल्ली में भारत मंडपम में विश्व विरासत समिति के 46वें सत्र के उद्घाटन के दौरान की गई।

वैश्विक विरासत संरक्षण के लिए भारत की प्रतिबद्धता

भारत वैश्विक धरोहरों के संरक्षण के लिए प्रतिबद्ध है, न केवल देश के भीतर बल्कि वैश्विक दक्षिण में भी सहायता प्रदान करता है। प्रधानमंत्री मोदी ने कंबोडिया में अंगकोर वाट, वियतनाम में चाम मंदिर और म्यांमार में बागान स्तूप जैसे विरासत स्थलों के संरक्षण में भारत की सहायता पर प्रकाश डाला। एक मिलियन डॉलर के अनुदान का उपयोग क्षमता निर्माण, तकनीकी सहायता और विश्व धरोहर स्थलों के संरक्षण के लिए किया जाएगा।

विश्व धरोहर प्रबंधन में प्रमाणपत्र कार्यक्रम

भारत में युवा पेशेवरों को विरासत संरक्षण में प्रशिक्षित करने के लिए विश्व विरासत प्रबंधन में एक नया प्रमाणपत्र कार्यक्रम शुरू किया गया है। इस कार्यक्रम का उद्देश्य सांस्कृतिक विरासत को संरक्षित करने के लिए समर्पित व्यक्तियों के कौशल और ज्ञान को बढ़ाना है।

वैश्विक सहयोग के लिए अपील

प्रधानमंत्री मोदी ने दुनिया भर में विरासत के संरक्षण को आगे बढ़ाने के लिए सामूहिक प्रयासों का आह्वान किया। उन्होंने मानव कल्याण को बढ़ावा देने और आधुनिक विकास के संदर्भ में विरासत के मूल्य को पहचानने में एकता के महत्व पर जोर दिया।

भारत का विजन: विकास और विरासत

पिछले दशक में भारत ने अपनी विरासत का सम्मान करते हुए आधुनिक विकास में महत्वपूर्ण प्रगति की है। प्रमुख परियोजनाओं में काशी में विश्वनाथ कॉरिडोर, अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण और नालंदा विश्वविद्यालय का आधुनिक परिसर शामिल हैं। आयुर्वेद के उदाहरण के रूप में भारत की वैज्ञानिक विरासत दुनिया को लाभान्वित कर रही है।

भारत की विरासत में इंजीनियरिंग उपलब्धियाँ

भारत की विरासत में उल्लेखनीय इंजीनियरिंग उपलब्धियाँ देखने को मिलती हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने 8वीं शताब्दी में 3500 मीटर की चुनौतीपूर्ण ऊँचाई पर निर्मित केदारनाथ मंदिर को प्राचीन इंजीनियरिंग उत्कृष्टता का उदाहरण बताया। उन्होंने दिल्ली में 2000 साल पुराने लौह स्तंभ का भी उल्लेख किया, जो जंग-रोधी बना हुआ है, जो उन्नत प्राचीन धातु विज्ञान का प्रदर्शन करता है।

एक नए यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल के लिए प्रस्ताव

पूर्वोत्तर भारत के एक ऐतिहासिक स्थल “मैदाम” को यूनेस्को की विश्व धरोहर सूची में शामिल करने का प्रस्ताव दिया गया है। अगर इसे स्वीकार कर लिया जाता है, तो यह भारत का 43वाँ विश्व धरोहर स्थल और पूर्वोत्तर भारत का पहला सांस्कृतिक विश्व धरोहर स्थल होगा। प्रधानमंत्री मोदी ने इसे देश के लिए गौरवपूर्ण उपलब्धि बताया।

about |_4.1

असम के चराइदेव मैदाम को यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल के लिए नामित किया गया

about |_25.1

चराइदेव मैदाम को सांस्कृतिक श्रेणी में पूर्वोत्तर भारत का पहला यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल बनने के लिए नामित किया गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 21-31 जुलाई को नई दिल्ली में आयोजित विश्व धरोहर समिति के 46वें सत्र में इस नामांकन की घोषणा की। यदि इसे स्वीकार कर लिया जाता है, तो चराइदेव मैदाम भारत का 43वाँ विश्व धरोहर स्थल होगा, जो काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान और मानस राष्ट्रीय उद्यान में शामिल हो जाएगा, जिन्हें प्राकृतिक श्रेणी में सूचीबद्ध किया गया है।

चराइदेव मैदाम का महत्व

भारत के असम में स्थित चराइदेव मैदाम, ऐतिहासिक और सांस्कृतिक दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण स्थल है। इन प्राचीन दफ़न टीलों का निर्माण अहोम राजाओं और कुलीनों के लिए 13वीं से 18वीं शताब्दी के बीच उनके शासनकाल के दौरान किया गया था। घास के टीलों जैसे दिखने वाले ये टीले अहोम समुदाय द्वारा पवित्र माने जाते हैं। प्रत्येक मैदाम एक अहोम शासक या गणमान्य व्यक्ति के विश्राम स्थल को दर्शाता है और माना जाता है कि यहाँ उनके अवशेषों के साथ-साथ मूल्यवान कलाकृतियाँ और खज़ाने रखे गए हैं। इस अनूठी दफ़न प्रथा में मृतक के अवशेषों को एक भूमिगत कक्ष में दफनाना शामिल था, जिसमें ऊपर का टीला एक स्मारक और सम्मान के प्रतीक के रूप में कार्य करता था। मैदाम असमिया पहचान और इतिहास में गहराई से निहित हैं, जो इस क्षेत्र की समृद्ध विरासत को प्रदर्शित करते हैं।

नामांकन एवं चयन प्रक्रिया

प्रधानमंत्री मोदी ने इस प्रतिष्ठित नामांकन के लिए भारत भर में 52 स्थलों में से ताई अहोम समुदाय के मैदाम को चुना। असम के मुख्यमंत्री डॉ. हिमंत बिस्वा सरमा ने इस प्रस्ताव का खुलासा किया। यह नामांकन विशेष रूप से महत्वपूर्ण है क्योंकि यह महान अहोम जनरल लाचित बरफुकन की 400वीं जयंती के साथ मेल खाता है, जिन्होंने मुगलों को हराया था। यदि चुना जाता है, तो चराइदेव में 90 शाही दफन टीले पूर्वोत्तर में प्रतिष्ठित दर्जा प्राप्त करने वाले एकमात्र सांस्कृतिक विरासत स्थल होंगे। यह नामांकन राज्य की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत को संरक्षित करने और उजागर करने के लिए असम सरकार की प्रतिबद्धता को दर्शाता है।

ऐतिहासिक और सांस्कृतिक संदर्भ

चराइदेव मैदाम, जिसे अक्सर “असम के पिरामिड” के रूप में जाना जाता है, 90 से अधिक शाही दफन टीलों का घर है। ये टीले केवल दफन स्थल नहीं हैं, बल्कि असम की सांस्कृतिक और ऐतिहासिक पहचान का अभिन्न अंग हैं। असम पर लगभग छह शताब्दियों तक शासन करने वाले अहोम ने एक ऐसी विरासत छोड़ी है जिसमें अद्वितीय दफन प्रथाएँ, वास्तुशिल्प चमत्कार और शिल्प कौशल की एक समृद्ध परंपरा शामिल है। UNESCO विश्व धरोहर का दर्जा पाने के लिए चराइदेव मैदाम का नामांकन इस स्थल के ऐतिहासिक महत्व और सांस्कृतिक समृद्धि को रेखांकित करता है, जिसका उद्देश्य असमिया विरासत के इस अनूठे पहलू को वैश्विक मान्यता दिलाना है।

about |_4.1

राष्ट्रीय प्रसारण दिवस 2024: 23 जुलाई

about |_28.1

हर वर्ष 23 जुलाई के दिन को भारत में राष्ट्रीय प्रसारण दिवस के रूप में मनाया जाता है। यह खास दिन देश में संगठित रेडियो प्रसारण के जन्म की याद दिलाता है, जिसे 1927 में भारतीय प्रसारण कंपनी (IBC) की स्थापना के रूप में जाना जाता है। यह दिन भारत के विकास, शैक्षिक पहुंच और सांस्कृतिक संरक्षण में प्रसारण द्वारा निभाई गई महत्वपूर्ण भूमिका पर प्रकाश डालता है।

भारत में प्रसारण का इतिहास

भारत में प्रसारण का इतिहास 20वीं सदी की शुरुआत से ही है। 23 जुलाई, 1927 को इंडियन ब्रॉडकास्टिंग कंपनी (IBC) ने बॉम्बे स्टेशन से पहला आधिकारिक रेडियो प्रसारण किया। इस ऐतिहासिक घटना ने भारत में रेडियो प्रसारण के जन्म को चिह्नित किया, जिसने समाचार, संगीत और मनोरंजन के लिए एक प्लेटफॉर्म दिया। यही कारण है कि आज के दिन ही राष्ट्रीय प्रसारण दिवस मनाते हैं।

भारतीय प्रसारण सेवा का गठन

इसके बाद 1930 में भारतीय प्रसारण सेवा (आईएसबीएस) का गठन किया गया, जिसका नाम 1936 में बदलकर ऑल इंडिया रेडियो (AIR) रखा गया।

रेडियो का विस्तार और प्रभाव

स्वतंत्रता के बाद, ऑल इंडिया रेडियो राष्ट्र निर्माण के लिए एक महत्वपूर्ण साधन बन गया। विभिन्न क्षेत्रीय स्टेशनों के शुभारंभ के साथ, AIR ने देश भर में अपनी पहुंच का विस्तार किया। नेटवर्क ने भारत की भाषाई विविधता को ध्यान में रखते हुए कई भाषाओं में प्रसारण किया। शैक्षिक कार्यक्रम, कृषि सलाह, स्वास्थ्य जागरूकता और मनोरंजन प्रसारण सामग्री का अभिन्न अंग बन गए। इसके सबसे प्रतिष्ठित कार्यक्रमों में से एक “विविध भारती” था, जिसे 1957 में लॉन्च किया गया था। इस प्रोग्राम ने म्यूजिक, नाटक और लोकप्रिय संस्कृति को आम जनता तक पहुंचाया।

डिजिटल युग में प्रसारण

21वीं सदी ने डिजिटल युग की शुरुआत की, जिसने प्रसारण प्रतिमान को मौलिक रूप से बदल दिया। डिजिटल इंडिया जैसी सरकारी पहलों ने डिजिटल क्रांति को और तेज कर दिया है, जिससे यह सुनिश्चित हुआ है कि दूरदराज के इलाकों में भी डिजिटल प्रसारण सेवाओं तक पहुंच हो। स्मार्टफोन और किफायती इंटरनेट के प्रसार ने सामग्री के उपभोग को लोकतांत्रिक बना दिया है, जिससे यह अधिक समावेशी और इंटरैक्टिव बन गया है।

आजादी से पहले और बाद का महत्व

दशकों से, रेडियो सबसे पुराने, सबसे लोकप्रिय और सबसे व्यापक रूप से उपभोग किए जाने वाले समाचार माध्यमों में से एक बना हुआ है। हर दौर में रेडियो प्रसारण का अपना अलग महत्व रहा है। आजादी से पहले नेताजी सुभाष चंद्र बोस के आजाद हिंद रेडियो और कांग्रेस रेडियो ने भारतीयों को अंग्रेजों के खिलाफ जगाने में मदद की। वहीं आजादी के बाद स्वतंत्र भारत के निर्माण के लिए रेडियो प्रसारण ने मील के पत्थर का काम किया। ब्रॉडकास्टिंग, प्राकृतिक आपदाओं के समय सूचना देने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

 

 

Recent Posts