Home   »   2024 में रिटायर होंगे 68 राज्यसभा...

2024 में रिटायर होंगे 68 राज्यसभा सदस्य: 9 केंद्रीय मंत्रियों का कार्यकाल पूरा होगा

2024 में रिटायर होंगे 68 राज्यसभा सदस्य: 9 केंद्रीय मंत्रियों का कार्यकाल पूरा होगा |_30.1

2024 में राज्यसभा से 68 सांसद रिटायर होने वाले हैं। इसमें 9 केंद्रीय मंत्री हैं। सबसे पहले दिल्ली में तीन सीट खाली होंगी। यहां AAP नेता संजय सिंह, नारायण दास गुप्ता और सुशील कुमार गुप्ता 27 जनवरी को अपना कार्यकाल पूरा करेंगे।

दिल्ली की खाली सीटों के लिए चुनाव की तैयारी शुरु हो गई है। सिक्किम में एकमात्र राज्यसभा सीट के लिए भी नॉमिनेशन जल्द शुरु हो जाएगा। यहां SDF सदस्य हिशे लाचुंगपा का 23 फरवरी को कार्यकाल पूरा होगा।

वहीं रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव, शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान, पर्यावरण मंत्री भूपेन्द्र यादव, स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मडाविया और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह सहित 57 नेता अप्रैल में अपना कार्यकाल पूरा करेंगे।

 

उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा 10 सीटें खाली होंगी

उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा 10 सीटें खाली होंगी। इसके बाद महाराष्ट्र और बिहार में 6-6, मध्य प्रदेश और पश्चिम बंगाल में 5-5, कर्नाटक और गुजरात में 4-4, ओडिशा, तेलंगाना, केरल और आंध्र प्रदेश प्रत्येक में 3-3 सीटें खाली होंगी।

झारखंड और राजस्थान में 2-2 और उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा और छत्तीसगढ़ चारों जगह एक-एक सीट खाली होगी। दिल्ली में 3 और सिक्किम में एक सीट खाली होगी। उधर चार मनोनीत सदस्य जुलाई में रिटायर हो रहे हैं।

हिमाचल प्रदेश से राज्यसभा के लिए दोबारा नामांकन के लिए भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा को अपने गृह राज्य से बाहर सीट तलाशनी होगी क्योंकि वहां कांग्रेस सत्ता में है। इसके अलावा कांग्रेस कर्नाटक और तेलंगाना से भी अपने उम्मीदवारों को राज्यसभा भेजने की तैयारी में है। क्योंकि कांग्रेस शासित कर्नाटक में चार और तेलंगाना में तीन राज्यसभा सीटें खाली होंगी।

 

चार मनोनीत सांसद भी सेवानिवृत्त होंगे

चार मनोनीत सदस्य भी जुलाई में सेवानिवृत्त होंगे। सेवानिवृत्त होने वाले मनोनीत सदस्यों में भाजपा के महेश जेठमलानी, सोनल मानसिंह, राम शकल और राकेश सिन्हा शामिल हैं।

 

2024 में रिटायर होंगे 68 राज्यसभा सदस्य: 9 केंद्रीय मंत्रियों का कार्यकाल पूरा होगा |_40.1

FAQs

राज्यसभा में कौन कौन से सदस्य आते हैं?

राज्य सभा के सदस्यों की अधिकतम संख्या 250 है, जिसमें से 238 सदस्य निर्वाचित और 12 सदस्य भारत के राष्ट्रपति द्वारा नाम - निर्देशित किए जाते हैं।