Tuesday, 10 May 2022

अपनी ताकत बढ़ाने के लिए भारतीय नौसेना बना रही है GISAT-2 उपग्रह ख़रीदने की योजना

अपनी ताकत बढ़ाने के लिए भारतीय नौसेना बना रही है GISAT-2 उपग्रह ख़रीदने की योजना

भारतीय नौसेना ने अपने आधुनिकीकरण और नेटवर्क-केंद्रित युद्ध और संचार कार्यक्रम के हिस्से के रूप में इस वित्तीय वर्ष में एक विशेष पृथ्वी इमेजिंग उपग्रह जियो इमेजिंग सैटेलाइट -2 (Geo Imaging Satellite/GISAT-2) ख़रीदने की योजना बनाई है। इस उपग्रह से हिंद महासागर क्षेत्र में नौसेना की परिचालन क्षमताओं में सुधार होने की संभावना है, जो चीन के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए रणनीतिक और भू-राजनीतिक रूप से महत्वपूर्ण है।


Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams



प्रमुख बिंदु (KEY POINTS):


  • रक्षा मंत्रालय की ज़ानकारी के अनुसार, 21 नियोजित ख़रीदों में से एक GISAT-2 है, जिसमें कई दीर्घकालिक ख़रीद शामिल हैं। इसके अलावा, नौसेना की क्षमताओं का विकास/आधुनिकीकरण अगले दशक के लिए दीर्घकालिक उद्देश्यों के अनुरूप किया जा रहा है।
  • 2022-23 के बजट अनुमानों के तहत, नौसेना को आधुनिकीकरण के लिए 45,250 करोड़ रुपये मिलेंगे। 10% वार्षिक वृद्धि दर के साथ, 2026-27 तक उन्नयन के लिए इसे 2.7 लाख करोड़ रुपये से अधिक प्राप्त होने की उम्मीद है।
  • रक्षा मंत्रालय के अनुसार, नौसेना की कुल प्रतिबद्ध देनदारियां 1.20 लाख करोड़ रुपये हैं, और अगले पांच वर्षों में अनुबंध निष्कर्ष के लिए 1.9 लाख करोड़ रुपये और 2.5 लाख करोड़ रुपये से अधिक की आधुनिकीकरण योजनाओं को आगे बढ़ाया जा रहा है (वार्षिक अधिग्रहण योजना के भाग A और B के तहत)।
  • GISAT-2 के अलावा नौसेना इन्हें ख़रीदने की योजना बनाई है: अगली पीढ़ी के मिसाइल वैसेल, फ्लीट सपोर्ट शिप (FSS), उच्च और मध्यम ऊंचाई लंबी सहनशक्ति दूर से संचालित विमान प्रणाली, बहु-भूमिका वाहक वहन लड़ाकू (multi-role carrier borne fighters), स्वदेशी विमान वाहक -2 (indigenous aircraft carrier-2); अगली पीढ़ी के फास्ट अटैक क्राफ्ट (next-generation fast attack craft); अगली पीढ़ी के कार्वेट (next-generation corvettes), विध्वंसक  (destroyers), फास्ट इंटरसेप्टर क्राफ्ट (ast interceptor craft), और सर्वेक्षण पोत (survey vessel); राष्ट्रीय अस्पताल जहाज (national hospital ship); इलेक्ट्रॉनिक वारफेयर सिस्टम (electronic warfare system); अतिरिक्त बड़े मानवरहित पानी के नीचे वाहन (extra-large unmanned underwater vehicle); जहाज रोधी मिसाइलें (anti-ship missiles)।
  • जबकि रक्षा मंत्रालय ने इस वित्तीय वर्ष में अधिग्रहण के लिए GISAT-2 को नामित किया है, उपग्रह के विकास और लॉन्च की तारीखें अभी निर्धारित नहीं की गई हैं। जब उपग्रह अधिग्रहण की बात आती है, तो नौसेना सशस्त्र बलों के बीच सबसे आगे रही है।



जीआईएसएटी परिवार में उपग्रह (Satellites in the GISAT family):         


  • GISAT-2 को नियमित अंतराल पर ज़रूरत के अनुसार के विशाल क्षेत्रों की निकट-वास्तविक समय की तस्वीरें देने के लिए डिज़ाइन किया जाएगा, जो नौसेना को न केवल निगरानी में बल्कि संचालन योजना में भी सहायता करेगा। उपग्रह, जो एक भूस्थिर कक्षा (जीईओ) से संचालित होगा, क्लाउड-मुक्त स्थितियों में निकट-वास्तविक समय के अवलोकन की भी अनुमति देगा।
  • जीआईएसएटी-2, 2+टन श्रेणी का उपग्रह, जीआईएसएटी-1 की तरह ही संशोधित  I-2k सैटेलाइट बस पर बनाया जाएगा। पिछले साल अगस्त में, इसरो जीआईएसएटी -1 को कक्षा में लॉन्च करने में विफल रहा, जब जीएसएलवी-एमके 2 को ले जाने वाले क्रायोजेनिक ऊपरी चरण (cryogenic upper stage) में किसी समस्या का सामना करना पड़ा, जिससे मिशन विफल हो गया। मिशन अगस्त 2021, अंतरिक्ष एजेंसी का उपग्रह लॉन्च करने का तीसरा प्रयास था; पहले दो विभिन्न कारणों से विफल रहे।



सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण टेकअवे:

  • रक्षा मंत्री: श्री राजनाथ सिंह
  • भारतीय नौसेना प्रमुख: एडमिरल आर. हरि कुमार



Find More News Related to Defence


Air Marshal Sanjeev Kapoor Takes Charge as DG (Inspection and Safety)_90.1

Post a Comment

Whatsapp Button works on Mobile Device only

Start typing and press Enter to search