Monday, 9 May 2022

सीआरएस रिपोर्ट: भारत में साल 2020 के दौरान मृत्यु दर में 6.2 प्रतिशत की वृद्धि हुई

सीआरएस रिपोर्ट: भारत में साल 2020 के दौरान मृत्यु दर में 6.2 प्रतिशत की वृद्धि हुई

केंद्र सरकार ने जन्म और मृत्यु रिपोर्ट के आधार पर नागरिक पंजीकरण प्रणाली (Civil Registration System - CRS) रिपोर्ट 2020 ज़ारी की है। आंकड़ों के अनुसार, वर्ष 2019 में पंजीकृत जन्मों की संख्या 2.48 करोड़ से घटकर 2020 में 2.42 करोड़ हो गई, जो कि 2.40 प्रतिशत की कमी है। साल 2020 का नागरिक पंजीकरण प्रणाली (सीआरएस) द्वारा ज़ारी किये गये डेटा के अनुसार, 2020 में देश में 81.2 लाख लोगों की मौत हुई और यह आंकड़ा साल 2019 (76.4 लाख पंजीकृत मौत) की तुलना में 6.2 प्रतिशत अधिक है।


Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams



प्रमुख बिंदु (Key Points):


  • सभी पंजीकृत मौतों में पुरुषों की संख्या 60.2 प्रतिशत है, जबकि महिलाओं की संख्या 39.8 प्रतिशत है।
  • महाराष्ट्र, बिहार, गुजरात, पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, राजस्थान, असम और हरियाणा उन राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में शामिल हैं, जिन्होंने साल 2019 से 2020 तक मौतों में वृद्धि में महत्वपूर्ण योगदान दिया है।
  • नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉ. वी. के. पॉल के अनुसार, अध्ययन में शामिल जन्म और मृत्यु की संख्या देश भर में लगभग 3 लाख पंजीकरण इकाइयों से एकत्र किए गए तथ्यात्मक आंकड़े हैं।
  • सीआरएस जन्म और मृत्यु को रिकॉर्ड करने की एक प्रणाली है जो सार्वभौमिक, निरंतर, अनिवार्य और स्थायी (Universal, continuous, mandatory, and permanent) है।
  • जन्म और मृत्यु पंजीकरण अधिनियम (Registration of Birth and Death Act - RBD), 1969 जन्म और मृत्यु के पंजीकरण को नियंत्रित करता है।
  • इन संख्याओं में कोविड-19 के और मौत के अन्य कारण शामिल हैं।


Find More Ranks and Reports Here


India ranked 21st in Chainalysis 2021 Cryptocurrency Gains by Country_80.1

Post a Comment

Whatsapp Button works on Mobile Device only

Start typing and press Enter to search