Friday, 11 February 2022

आरबीआई ने 2,50,000 करोड़ रुपये की निवेश सीमा के साथ स्वैच्छिक रिटेंशन मार्ग को फिर से खोल दिया

आरबीआई ने 2,50,000 करोड़ रुपये की निवेश सीमा के साथ स्वैच्छिक रिटेंशन मार्ग को फिर से खोल दिया

 


भारतीय रिजर्व बैंक ने 2019 में 1,50,000 करोड़ रुपये की निवेश सीमा के साथ विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (Foreign Portfolio Investors - FPI) द्वारा ऋण में निवेश के लिए स्वैच्छिक रिटेंशन मार्ग (Voluntary Retention Route - VRR) की शुरुआत की थी। इसमें से अब तक तीन चरणों में लगभग 1,49,995 करोड़ रुपये का लाभ उठाया जा चुका है। अब आरबीआई ने वीआरआर में निवेश की यह सीमा 1,50,000 करोड़ रुपये से बढ़ाकर 2,50,000 करोड़ रुपये कर दी है।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

 हिन्दू रिव्यू जनवरी 2022, Download Monthly Hindu Review PDF in Hindi


बढ़ी हुई निवेश सीमा निम्नलिखित विवरण के अनुसार 01 अप्रैल, 2022 से आवंटन के लिए खुली होगी:

  • वीआरआर के तहत निवेश की सीमा को बढ़ाकर 2,50,000 करोड़ रुपये कर दिया गया है।
  • नए आवंटन के लिए उपलब्ध निवेश सीमा तदनुसार 1,04,800 करोड़ रुपये होगी (मौजूदा आवंटन और समायोजन का शुद्ध); और वीआरआर-संयुक्त श्रेणी के तहत आवंटित किया जाएगा।
  • न्यूनतम प्रतिधारण अवधि तीन वर्ष होगी।
  • निवेश सीमा 'ऑन टैप (on tap)' उपलब्ध होगी और 'पहले आओ, पहले पाओ (first-come, first-served)' के आधार पर आवंटित की जाएगी।
  • सीमा पूरी तरह से आवंटित होने तक 'टैप' को खुला रखा जाएगा।
  • एफपीआई अपने संबंधित अभिरक्षकों के माध्यम से भारतीय समाशोधन निगम लिमिटेड (सीसीआईएल) को निवेश सीमा के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।
  • सीसीआईएल आवेदन प्रक्रिया और आवंटन के परिचालन विवरण को अलग से सूचित करेगा।

सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण टेकअवे:

  • आरबीआई के 25वें गवर्नर: शक्तिकांत दास; मुख्यालय: मुंबई; स्थापित: 1 अप्रैल 1935, कोलकाता।


Find More Banking News Here

RBI Monetary Repo rate : Repo rate unchanged for the 9th consecutive time_90.1

Post a Comment

Whatsapp Button works on Mobile Device only

Start typing and press Enter to search