Tuesday, 14 December 2021

मृदुला रमेश द्वारा लिखित "वाटरशेड: हाउ वी डिस्ट्रॉयड इंडियाज वाटर एंड हाउ वी कैन सेव इट"

मृदुला रमेश द्वारा लिखित "वाटरशेड: हाउ वी डिस्ट्रॉयड इंडियाज वाटर एंड हाउ वी कैन सेव इट"

 


सुंदरम क्लाइमेट इंस्टीट्यूट की संस्थापक मृदुला रमेश (Mriduala Ramesh), जो पानी और अपशिष्ट समाधान पर काम करती है और क्लीनटेक स्टार्ट-अप में एंजेल निवेशक है, ने "वाटरशेड: हाउ वी डिस्ट्रॉयड इंडियाज वॉटर एंड हाउ वी कैन सेव इट (Watershed: How We Destroyed India’s Water And How We Can Save It)" नामक एक नई किताब लिखी है। मृदुला रमेश "द क्लाइमेट सॉल्यूशन (The Climate Solution)" की लेखिका हैं और वह नियमित रूप से जलवायु मुद्दों पर लिखती हैं। वह वर्ल्ड वाइल्डलाइफ फंड (WWF), भारत के बोर्ड ऑफ ट्रस्टीज की सदस्य और नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, आंध्र प्रदेश (AP) में बोर्ड ऑफ गवर्नर्स की चेयरपर्सन भी हैं।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

हिन्दू रिव्यू नवम्बर 2021, Download Monthly Hindu Review PDF in Hindi


Find More Books and Authors Here

Bala Krishna Madhur's autobiography titled 'At Home In The Universe' released_90.1

Post a Comment

Whatsapp Button works on Mobile Device only

Start typing and press Enter to search