Thursday, 14 October 2021

केंद्र ने PFC लिमिटेड को "महारत्न" का दर्जा दिया

केंद्र ने PFC लिमिटेड को "महारत्न" का दर्जा दिया

 


भारत सरकार ने राज्य के स्वामित्व वाली पावर फाइनेंस कॉरपोरेशन लिमिटेड (Power Finance Corporation Ltd - PFC) को 'महारत्न (Maharatna)' का दर्जा दिया है। नया दर्जा पीएफसी को अधिक परिचालन और वित्तीय स्वायत्तता देगा। पीएफसी को 1986 में विद्युत मंत्रालय के स्वामित्व में एक भारतीय वित्तीय संस्थान के रूप में शामिल किया गया था। यह भारत की सबसे बड़ी इंफ्रास्ट्रक्चर फाइनेंस कंपनी है, जो विशेष रूप से पावर सेक्टर को समर्पित है।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

IBPS RRB क्लर्क मेन्स और SBI क्लर्क मेन्स 2021 परीक्षाओं के लिए करेंट अफेयर्स GA पॉवर कैप्सूल: Download PDF

पीएफसी को 'महारत्न' का दर्जा देने से वित्तीय निर्णय लेने के दौरान पीएफसी बोर्ड को बढ़ी हुई शक्तियां प्रदान होंगी। ‘महारत्न’ सीपीएसई का बोर्ड वित्तीय संयुक्त उद्यम और पूर्ण सब्सिडियरी इकाइयों को लेकर इक्विटी निवेश का फैसला कर सकता है साथ ही देश और विदेश में विलय और अधिग्रहण का निर्णय कर सकता है  हालांकि, इसके लिये सीमा संबंधित कंपनी के नेटवर्थ के 15 प्रतिशत तक सीमित है, यह एक परियोजना में अधिकतम 5,000 करोड़ रुपये तक हो सकता है. बोर्ड कर्मियों और मानव संसाधन प्रबंधन और प्रशिक्षण से संबंधित योजनाओं की संरचना और कार्यान्वयन भी कर सकता है। वे प्रौद्योगिकी संयुक्त उद्यम या दूसरों के बीच अन्य रणनीतिक गठबंधन में भी प्रवेश कर सकते हैं।

सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण टेकअवे:

  • पावर फाइनेंस कॉर्पोरेशन लिमिटेड मुख्यालय: नई दिल्ली;
  • पावर फाइनेंस कॉर्पोरेशन लिमिटेड की स्थापना: 16 जुलाई 1986;
  • पावर फाइनेंस कॉर्पोरेशन लिमिटेड के अध्यक्ष और एमडी: रविंदर सिंह ढिल्लन ।

Post a Comment

Whatsapp Button works on Mobile Device only

Start typing and press Enter to search