Wednesday, 29 September 2021

RBI ने WMA की सीमा 50,000 करोड़ रुपये की

RBI ने WMA की सीमा 50,000 करोड़ रुपये की

 


भारतीय रिजर्व बैंक ने वित्तीय वर्ष 2021-22 की दूसरी छमाही यानी अक्टूबर 2021 से मार्च 2022 तक वेज एंड मीन्स एडवांस (Ways and Means Advances - WMA) की सीमा 50,000 करोड़ रुपये कर दी है। जब भारत सरकार WMA सीमा के 75 प्रतिशत का उपयोग करती है, तो रिज़र्व बैंक बाज़ार ऋणों के नए प्रवाह को गति प्रदान कर सकता है। रिज़र्व बैंक मौजूदा परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए, भारत सरकार के परामर्श से किसी भी समय सीमा को संशोधित करने का लचीलापन रखता है।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

IBPS RRB क्लर्क मेन्स और SBI क्लर्क मेन्स 2021 परीक्षाओं के लिए करेंट अफेयर्स GA पॉवर कैप्सूल: Download PDF

WMA/ओवरड्राफ्ट पर ब्याज दर होगी:

  • WMA के लिए: रेपो दर
  • ओवरड्राफ्ट के लिए: रेपो रेट से दो प्रतिशत अधिक

सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण टेकअवे:

  • आरबीआई के 25वें गवर्नर: शक्तिकांत दास; मुख्यालय: मुंबई; स्थापित: 1 अप्रैल 1935, कोलकाता।


Find More Banking News Here

RBI fixes minimum ticket size to issue securitisation notes_90.1

Post a Comment

Whatsapp Button works on Mobile Device only

Start typing and press Enter to search