Tuesday, 6 July 2021

आदिवासी आय बढ़ाने के लिए KVIC परियोजना 'बोल्ड'

आदिवासी आय बढ़ाने के लिए KVIC परियोजना 'बोल्ड'

 


KVIC (खादी और ग्रामोद्योग आयोग -Khadi and Village Industries Commission) ने शुष्क और अर्ध-शुष्क भूमि क्षेत्रों में बांस आधारित हरे पैच बनाने के लिए प्रोजेक्ट BOLD (ड्राफ्ट में भूमि पर बांस ओएसिस - Bamboo Oasis on Lands in Draught) लॉन्च किया है, जो अपनी तरह का पहला अभ्यास है. यह भारत में अपनी तरह का पहला अभ्यास है, जो राजस्थान के उदयपुर में आदिवासी गांव निचला मंडवा से शुरू किया गया था. इस परियोजना के तहत, विशेष बांस प्रजातियों के 5000 पौधे यानि बंबुसा टुल्डा और बंबुसा पॉलीमोर्फा को लगभग 16 एकड़ में खाली ग्राम पंचायत भूमि में लगाया गया है.


Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams


बांस क्यों चुनें?

  • बांस बहुत तेजी से बढ़ता है और 3 साल के भीतर काटा जा सकता है.
  • वे पानी के संरक्षण और भूमि से पानी के वाष्पीकरण को कम करने के लिए प्रसिद्ध हैं, जिससे यह शुष्क क्षेत्रों में बढ़ने के लिए एकदम सही है.


बांस क्या है?

ये वुडी बारहमासी सदाबहार पौधों का एक समूह है. हालांकि यह एक पेड़ की तरह दिखाई देता है, टैक्सोनॉमिक रूप से, यह घास है. भारत में, उत्तर-पूर्वी राज्य देश के कुल बांस उत्पादन का लगभग 70% हिस्सा उगाते हैं.


सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण टेकअवे:

  • KVIC की स्थापना: 1956;
  • KVIC का मुख्यालय: मुंबई;
  • KVIC का अध्यक्ष: विनय कुमार सक्सेना.

Post a Comment

Whatsapp Button works on Mobile Device only

Start typing and press Enter to search