Saturday, 15 May 2021

WHO ने भारतीय कोरोनावायरस संस्करण को "ग्लोबल वैरिएंट ऑफ़ कंसर्न" के रूप में वर्गीकृत किया

WHO ने भारतीय कोरोनावायरस संस्करण को "ग्लोबल वैरिएंट ऑफ़ कंसर्न" के रूप में वर्गीकृत किया


विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भारत में पाए जाने वाले एक कोरोनावायरस वैरिएंट को वैश्विक "वैरिएंट ऑफ़ कंसर्न (variant of concern)" के रूप में वर्गीकृत किया है. इस वैरिएंट को B.1.617 नाम दिया गया है. विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, यह वैरिएंट पहले से ही 30 से अधिक देशों में फैल चुका है. यह अन्य वैरिएंट की तुलना में अधिक ट्रांसमिसिबल है. ​इस वैरिएंट को "डबल म्यूटेंट वैरिएंट (double mutant variant)" भी कहा जाता है. यह पहली बार यूनाइटेड किंगडम के स्वास्थ्य अधिकारियों द्वारा पहचाना गया था.

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

B.1.617 वैरिएंट के बारे में:

  • B.1.617 वैरिएंट WHO द्वारा वर्गीकृत कोरोनावायरस का चौथा वैरिएंट है. इसके दो उत्परिवर्तन हैं, जिन्हें E484Q और L452R कहा जाता है.
  • वायरस स्वयं को परिवर्तित करके एक या अधिक वैरिएंट बनाते हैं. वायरस खुद को बदलते हैं ताकि वे इंसानों के साथ रह सकें.
  • दुनिया भर के वैज्ञानिक अभी भी B.1.617 वैरिएंट के खिलाफ टीके की प्रभावशीलता का अध्ययन कर रहे हैं.

सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण टेकअवे:

  • WHO की स्थापना 7 अप्रैल 1948 को की गई थी.
  • WHO संयुक्त राष्ट्र की एक विशेष एजेंसी है जो अंतरराष्ट्रीय सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए जिम्मेदार है.
  • WHO का मुख्यालय जिनेवा, स्विट्जरलैंड में है.
  • WHO के वर्तमान अध्यक्ष डॉ टेड्रोस अधानोम घेब्रेयसस हैं.

Find More International News

Post a Comment

Whatsapp Button works on Mobile Device only

Start typing and press Enter to search