Friday, 19 February 2021

RBI ने निवासियों को LRS के तहत IFSCs को प्रेषण करने की अनुमति दी

RBI ने निवासियों को LRS के तहत IFSCs को प्रेषण करने की अनुमति दी

 


भारतीय रिज़र्व बैंक ने देश में अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्रों (International Financial Services Centres-IFSCs) को उदारीकृत प्रेषण योजना (Liberalised Remittance Scheme -LRS) के तहत निवासी व्यक्तियों को प्रेषण बनाने की अनुमति दी है. भारतीय रिजर्व बैंक के निर्णय का उद्देश्य IFSCs में वित्तीय बाजारों को गहरा करना और निवासी व्यक्तियों को अपने पोर्टफोलियो में विविधता लाने का अवसर प्रदान करना है. आरबीआई ने LRS पर मौजूदा दिशानिर्देशों की समीक्षा की है और विशेष आर्थिक क्षेत्र अधिनियम, 2005 के तहत भारत में स्थापित LRS से IFSCs के तहत निवासी व्यक्तियों को प्रेषण बनाने की अनुमति देने का निर्णय लिया है.


Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams


प्रेषण केवल IFSC में  प्रतिभूतियों में निवेश करने के लिए किया जाएगा, जो कि भारत में रहने वाली संस्थाओं/कंपनियों (IFSC के बाहर) द्वारा जारी किए गए हैं. खाते में इसकी प्राप्ति की तारीख से 15 दिनों तक की अवधि के लिए खाते में कोई भी राशि बेकार पड़ी है जिसे तुरंत भारत में निवेशक के घरेलू INR खाते में वापस लाया जा सकता है.


सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण तथ्य:

  • RBI के 25 वें गवर्नर: शक्तिकांत दास; मुख्यालय: मुंबई; स्थापना: 1 अप्रैल 1935, कोलकाता.
  • भारत का पहला IFSC: गुजरात इंटरनेशनल फाइनेंस टेक-सिटी. 


Find More Banking News Here

Post a comment

Whatsapp Button works on Mobile Device only

Start typing and press Enter to search