Thursday, 14 January 2021

RBI ने डिजिटल ऋण में होने वाली धोखाधड़ी को रोकने के लिए छह सदस्यीय कार्य दल का किया गठन

RBI ने डिजिटल ऋण में होने वाली धोखाधड़ी को रोकने के लिए छह सदस्यीय कार्य दल का किया गठन

 

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने डिजिटल ऋण देने में धोखाधड़ी के बढ़ते मामलों के कारण डाटा सुरक्षा, निजता,गोपनीयता, और उपभोक्ता संरक्षण सुनिश्चित करने के लिए विनियमित वित्तीय क्षेत्र के साथ-साथ अनियमित खिलाड़ियों द्वारा डिजिटल ऋण देने की गतिविधियों के सभी पहलुओं का अध्ययन करने के लिए एक कार्य दल (working group) का गठन किया है। समूह ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म और मोबाइल ऐप के माध्यम से ऋण देने सहित डिजिटल उधार देने को विनियमित करने के लिए सुझाव देगा। समूह डिजिटल उधार गतिविधियों का मूल्यांकन करेगा और RBI विनियमित संस्थाओं में आउटसोर्स डिजिटल ऋण गतिविधियों की पैठ और मानकों का आकलन करेगा।



WARRIOR 4.0 | Banking Awareness Batch for SBI, RRB, RBI and IBPS Exams | Bilingual | Live Class


छह सदस्यीय पैनल में निम्नलिखित चार आरबीआई आंतरिक और दो बाहरी सदस्य शामिल हैं:

    1. जयंत कुमार दाश, कार्यकारी निदेशक, आरबीआई (अध्यक्ष)
    2. अजय कुमार चौधरी, मुख्य महाप्रबंधक, पर्यवेक्षण विभाग (सदस्य)
    3. पी. वासुदेवन, मुख्य महाप्रबंधक, भुगतान और निपटान प्रणाली विभाग, आरबीआई (सदस्य)
    4. मनोरंजन मिश्रा, मुख्य महाप्रबंधक, विनियमन विभाग (सदस्य सचिव)
    5. विक्रम मेहता, सह-संस्थापक, मोनेक्सो फिनटेक (बाहरी सदस्य)
    6. राहुल ससी, साइबर सुरक्षा विशेषज्ञ और CloudSEK के संस्थापक (बाहरी सदस्य)

    Post a comment

    Whatsapp Button works on Mobile Device only

    Start typing and press Enter to search