Wednesday, 8 July 2020

श्यामा प्रसाद मुखर्जी के नाम पर रखा गया IARI झारखंड की नई बिल्डिंग का नाम

श्यामा प्रसाद मुखर्जी के नाम पर रखा गया IARI झारखंड की नई बिल्डिंग का नाम

झारखंड स्थित भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान (IARI) के नए प्रशासनिक और शैक्षणिक भवन का नाम भारतीय जनसंघ के संस्थापक स्वर्गीय डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी की 119 वीं जयंती के अवसर पर उनके नाम पर रखा गया है। श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने अपना पूरा जीवन देश की एकता और अखंडता के लिए समर्पित किया, उन्होंने एक राष्ट्र-एक कानून का आह्वान किया और कश्मीर में अपने जीवन का बलिदान दिया।



डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बारे में:
  • श्यामा प्रसाद मुखर्जी का जन्म 6 जुलाई 1901 को एक बंगाली परिवार में हुआ था। उनके पिता आशुतोष मुखर्जी कलकत्ता उच्च न्यायालय के न्यायाधीश थे.
  • उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा भवानीपुर के मित्रा संस्थान से 1906 में शुरू की थी.
  • उन्होंने मैट्रिक परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद प्रेसीडेंसी कॉलेज में दाखिला लिया था.
  • श्यामा प्रसाद मुखर्जी 33 वर्ष की आयु में 1934 में कलकत्ता विश्वविद्यालय के सबसे कम उम्र के कुलपति बने थे.
  • मुखर्जी के कुलपति कार्यकाल के दौरान, रवींद्रनाथ टैगोर ने पहली बार बंगाली में विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह को संबोधित किया, जिसमे सर्वोच्च परीक्षा के लिए भारतीय भाषा को एक विषय के रूप में पेश किया गया।
  • मुखर्जी ने 1946 में पूर्वी पाकिस्तान में हिंदू-बहुल क्षेत्रों को शामिल करने से रोकने के लिए बंगाल के विभाजन की मांग की.
  • तारकेश्वर में 15 अप्रैल, 1947 को महासभा द्वारा आयोजित एक बैठक ने उन्हें बंगाल के विभाजन को सुनिश्चित करने के लिए कदम उठाने के लिए अधिकृत किया.
  • श्यामा प्रसाद मुखर्जी की जम्मू और कश्मीर राज्य पुलिस द्वारा बिना परमिट के राज्य में प्रवेश करने के लिए 40 दिनों तक हिरासत में रखने के बाद रहस्यमय परिस्थितियों में जेल में मौत हो गई थी.


Post a comment

Whatsapp Button works on Mobile Device only

Start typing and press Enter to search