Saturday, 11 July 2020

बोइंग ने वायुसेना को अपाचे और चिनूक हेलीकॉप्टरों को डिलीवरी की पूरी

बोइंग ने वायुसेना को अपाचे और चिनूक हेलीकॉप्टरों को डिलीवरी की पूरी

बोइंग इंडिया ने भारतीय वायु सेना (IAF) को हिंडन एयर फोर्स स्टेशन पर आखरी बचे पांच AH-64E अपाचे लड़ाकू हेलीकॉप्टरों की डिलीवरी कर दी है। इसके साथ ही, बोइंग ने भारतीय  (IAF) को सभी 22 नए AH-64E अपाचे की डिलीवरी पूरी कर ली है। अपाचे हेलीकॉप्टरों की तैनाती लद्दाख में चीन के साथ चल रहे विवाद के चलते लेह एयरबेस में सैन्य स्थिति मजबूत करने के लिए की गई है। इसके अलावा बोइंग ने 15 CH-47F(I) चिनूक के भारी-भरकम हेलीकॉप्टरों को भी भारतीय वायुसेना को सौंप दिया है।


भारत और अमरीका के बीच समझौता:
  • वायु सेना को सितंबर 2019 में अपाचे हेलीकॉप्टरों की पहली खैप मिली थी, जिन्हें पंजाब के पठानकोट एयर फोर्स स्टेशन बेस पर तैनात किया गया था.
  • भारत ने सितंबर 2015 में अमेरिकी सरकार के विदेशी सैन्य बिक्री कार्यक्रम के जरिए बोइंग से 22 अपाचे हेलीकॉप्टरों और 15 चिनूक हेलीकॉप्टरों खरीदने के लिए 3 अरब डॉलर का अनुबंध किया था.
 
अपाचे और चिनूक हेलीकाप्टरों की अस्सेम्ब्लिंग यूनिट:
  • हैदराबाद स्थित बोइंग का संयुक्त उपक्रम, टाटा बोइंग एयरोस्पेस लिमिटेड, अमेरिकी सेना और अंतर्राष्ट्रीय ग्राहकों दोनों के लिए AH-64 अपाचे हेलीकॉप्टर के लिए एयरो-संरचनाओं का निर्माण कर रहा है।
  • भारत में बोइंग के आपूर्तिकर्ता चिनूक के लिए जरुरी सिस्टम और पुर्जों का निर्माण कर रहे हैं, जिसमें टाटा एडवांस्ड सिस्टम्स द्वारा क्राउन और टेलकॉन असेंबली और डायनामेटिक टेक्नोलॉजीज द्वारा रैंप और आफ्टर पायलोन शामिल हैं।
उपरोक्त समाचारों से आने-वाली परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण तथ्य-
  • बोइंग का मुख्यालय: शिकागो, अमेरिका.
  • बोइंग स्थापना: 15 जुलाई 1916.
  • बोइंग के अध्यक्ष और मुख्य कार्यकारी अधिकारी: डेविड एल. Calhoun.

Post a comment

Whatsapp Button works on Mobile Device only

Start typing and press Enter to search