Wednesday, 17 June 2020

वर्ल्ड डे टू कॉमेबैट डिजर्टिफिकेशन एंड ड्रॉट: 17 जून

वर्ल्ड डे टू कॉमेबैट डिजर्टिफिकेशन एंड ड्रॉट: 17 जून


हर साल 17 जून को वर्ल्ड डे टू कॉमेबैट डिजर्टिफिकेशन एंड ड्रॉट मनाया जाता है। यह दिन हर साल मरुस्थलीकरण और सूखे के प्रभावों से निपटने के लिए जरुरी सहयोग के बारे में लोगों में जागरूकता फैलाने के लिए मनाया जाता है। वर्ल्ड डे टू कॉमेबैट डिजर्टिफिकेशन एंड ड्रॉट हर किसी को याद दिलाने के लिए एक अनूठा अवसर है कि मरुस्थलीकरण को अक्सर प्रभावी ढंग से निपटाया जा सकता है, और इसका समाधान संभव हैं, जो वर्तमान उद्देश्य के लिए महत्वपूर्ण उपकरण हैं जो कम से कम स्तरों में मजबूत सामुदायिक भागीदारी और सहयोग में निहित हैं।




वर्ल्ड डे टू कॉम्बैट डेजर्टिफिकेशन एंड ड्रॉट 2020 का विषय: Food. Feed.Fibre. - the links between consumption and land. इस साल “Food. Feed. Fibre.” नारे के साथ एक अभियान चलाया जा रहा है। जो अपने व्यक्तिगत प्रभाव को कम करने का मार्ग सुझाएगा। इस वर्ष कोरिया वन सेवा द्वारा आयोजित की ग्लोबल ओब्सेरवांस इवेंट, पूरे दिन के कार्यक्रम के साथ ऑनलाइन होगा, जिसमें रोमांचक घटनाओं और अंतर्राष्ट्रीय प्रतिभाओं का प्रसार होगा।

World Day to Combat Desertification and Drought: इतिहास

संयुक्त राष्ट्र महासभा ने वर्ष 1994 में, 17 जून को "वर्ल्ड डे टू कॉमेबैट डिजर्टिफिकेशन एंड ड्रॉट" के रूप में घोषित किया था। मरुस्थलीकरण से मुकाबला करने का विश्व दिवस हर किसी को याद दिलाने के लिए एक अनूठा अवसर हो सकता है कि मरुस्थलीकरण को अक्सर प्रभावी ढंग से निपटाया जाता है, जिसका समाधान संभव हैं, जो वर्तमान उद्देश्य के लिए महत्वपूर्ण उपकरण हैं जो कम से कम स्तरों में मजबूत सामुदायिक भागीदारी और सहयोग में निहित हैं।

उपरोक्त समाचारों से आने-वाली परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण तथ्य-
  • केंद्रीय पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री: प्रकाश जावड़ेकर.

Post a comment

Whatsapp Button works on Mobile Device only

Start typing and press Enter to search