Home   »   वर्ल्ड प्रेस फ्रीडम इंडेक्स 2023: 180...

वर्ल्ड प्रेस फ्रीडम इंडेक्स 2023: 180 देशों में भारत 161वें स्थान पर

वर्ल्ड प्रेस फ्रीडम इंडेक्स 2023: 180 देशों में भारत 161वें स्थान पर |_30.1

वैश्विक मीडिया निगरानी संस्था रिपोर्टर्स विदाउट बॉर्डर्स (आरएसएफ) की ताजा रिपोर्ट के अनुसार, 2023 विश्व प्रेस स्वतंत्रता सूचकांक में भारत 180 देशों में से 161वें स्थान पर आ गया है। यह रिपोर्ट आरएसएफ द्वारा जारी की गई थी, और यह प्रेस स्वतंत्रता के लिए भारत की रैंकिंग में गिरावट का संकेत देती है।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

वर्तमान में देश में 100,000 से अधिक समाचार पत्र (36,000 साप्ताहिक सहित) और 380 टीवी समाचार चैनल काम कर रहे हैं। 1 जनवरी, 2023 से देश में एक पत्रकार की हत्या कर दी गई जबकि 10 पत्रकार सलाखों के पीछे हैं। इस साल की रिपोर्ट से पता चलता है कि पत्रकारों के साथ व्यवहार के लिए “संतोषजनक” माने जाने वाले देशों की संख्या थोड़ी बढ़ रही है, लेकिन ऐसी संख्या भी है जहां स्थिति “बहुत गंभीर” है।

विश्व प्रेस स्वतंत्रता सूचकांक क्या है?

विश्व प्रेस स्वतंत्रता सूचकांक पांच अलग-अलग कारकों पर आधारित है जिनका उपयोग स्कोर की गणना करने और देशों को रैंक करने के लिए किया जाता है। इन पांच उप-संकेतकों में राजनीतिक संकेतक, आर्थिक संकेतक, विधायी संकेतक, सामाजिक संकेतक और सुरक्षा संकेतक शामिल हैं। इन संकेतकों में से प्रत्येक के लिए स्कोर की गणना की जाती है और प्रेस स्वतंत्रता के संदर्भ में देशों की समग्र रैंकिंग निर्धारित करने के लिए उपयोग किया जाता है।

वर्ल्ड प्रेस फ्रीडम इंडेक्स 2023: 180 देशों में भारत 161वें स्थान पर |_40.1

सूची में शीर्ष 10 देश:

रैंक  देश 
1 नॉर्वे
2 आयरलैंड
3 डेनमार्क
4 स्वीडन
5 फिनलैंड
6 नीदरलैंड
7 लिथुआनिया
8 एस्टोनिया
9 पुर्तगाल
10 ईस्ट तिमोर

सूची में नीचे 10 देश:

रैंक  देश
171 बहरीन
172 क्यूबा
173 यानमार
174 इरिट्रिया
175 सिरिया
176 तुर्कमेनिस्तान
177 ईरान
178 वियतनाम
179 चीन
180 उत्तर कोरिया

 

Find More Ranks and Reports Here

वर्ल्ड प्रेस फ्रीडम इंडेक्स 2023: 180 देशों में भारत 161वें स्थान पर |_50.1

 

FAQs

विश्व प्रेस स्वतंत्रता सूचकांक क्या है ?

विश्व प्रेस स्वतंत्रता सूचकांक पांच अलग-अलग कारकों पर आधारित है जिनका उपयोग स्कोर की गणना करने और देशों को रैंक करने के लिए किया जाता है। इन पांच उप-संकेतकों में राजनीतिक संकेतक, आर्थिक संकेतक, विधायी संकेतक, सामाजिक संकेतक और सुरक्षा संकेतक शामिल हैं।