Home   »   विश्व हीमोफीलिया दिवस : जानिए लक्षण...

विश्व हीमोफीलिया दिवस : जानिए लक्षण और कारण

विश्व हीमोफीलिया दिवस : जानिए लक्षण और कारण |_30.1

विश्व हीमोफीलिया दिवस 2023

वर्ल्ड हीमोफिलिया डे हर साल 17 अप्रैल को मनाया जाता है ताकि फ्रैंक श्नाबल के जन्म जयंती को सम्मानित किया जा सके, जिन्होंने वर्ल्ड फेडरेशन ऑफ हीमोफिलिया की स्थापना की थी। इस दिन का उद्देश्य हीमोफिलिया और अन्य रक्तस्राव विकारों के बारे में जागरूकता बढ़ाना और जानकारी प्रदान करना है। हीमोफिलिया एक दुर्लभ चिकित्सा स्थिति है जिसमें रक्त कुछ विशिष्ट क्लोटिंग फैक्टरों की कमी के कारण सही ढंग से क्लॉट नहीं होता है। इससे लंबे समय तक रक्तस्राव होता है, जो कुछ स्थितियों में खतरनाक और जानलेवा हो सकता है।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

विश्व हीमोफीलिया दिवस 2023: थीम

वर्ल्ड हीमोफिलिया डे के लिए 2023 का थीम “Access for All: Partnership, Policy, Progress – Engaging Governments to Integrate Inherited Bleeding Disorders into National Policy” है। यह थीम विभिन्न हितधारकों के बीच साझेदारी और सहयोग के महत्व को उजागर करती है, जिसमें सरकारें भी शामिल हैं, हीमोफिलिया और अन्य विरासती रक्तस्राव विकारों वाले व्यक्तियों के लिए उचित देखभाल और उपचार की पहुंच सुनिश्चित करने के लिए। इस थीम ने इन बीमारियों को राष्ट्रीय नीतियों में शामिल करने की आवश्यकता पर भी जोर दिया है ताकि इन विकारों का निदान, उपचार और प्रबंधन सुधारा जा सके।

विश्व हीमोफीलिया दिवस: इतिहास

विश्व हीमोफिलिया दिवस हर साल 17 अप्रैल को मनाया जाता है ताकि विश्व हीमोफिलिया संघ के संस्थापक फ्रैंक शनाबेल को उनके जन्मदिन पर सम्मानित किया जा सके। विश्व हीमोफिलिया संघ लोगों को विश्व भर में लाल रंग में रौशनी जलाने के लिए प्रोत्साहित करता है, जो हीमोफिलिया से प्रभावित लोगों के साथ सौहार्द का प्रतीक है। विश्व हीमोफिलिया दिवस का प्रारंभिक लक्ष्य 1989 में हीमोफिलिया से प्रभावित लोगों के लिए बेहतर निदान और सुलभ देखभाल के लिए आवाज उठाना था। यह अवसर व्यक्तियों और केयरगीवरों के बीच हीमोफिलिया और अन्य रक्त संबंधी विकारों के बारे में जागरूकता पैदा करने का उद्देश्य रखता है।

हीमोफिलिया क्या है?

हीमोफिलिया एक असामान्य चिकित्सा स्थिति है जिसमें खून विशिष्ट क्लॉटिंग फैक्टर की कमी के कारण सही ढंग से क्लॉट नहीं कर पाता है। यह लंबे समय तक खून बहने की समस्या का कारण बनता है, जो कुछ मामलों में जानलेवा खतरा पैदा कर सकता है। यद्यपि इस विकार का कोई ज्ञात इलाज नहीं है, लेकिन उपलब्ध उपचार से इस स्थिति को नियंत्रित और प्रबंधित किया जा सकता है।

हीमोफिलिया का क्या कारण है?

जब किसी व्यक्ति को अंतर्नल या बाहरी घाव से खून निकलता है, तब शरीर एक प्रतिक्रिया शुरू करता है जिसमें खून कोलेक्ट करने लगता है ताकि खून रुक जाए। क्लॉटिंग की प्रक्रिया में खून प्रोटीनों के साथ प्लेटलेट जैसी कोशिकाओं का संचार होता है। हालांकि, जब क्लॉटिंग फैक्टर में कमी होती है, तो हीमोफिलिया हो सकता है। हीमोफिलिया जन्म से हो सकता है (सहज) या जीवन के बाद भी विकसित हो सकता है।

लक्षण

हीमोफिलिया का प्राथमिक लक्षण असामान्य या अत्यधिक खून बहना या नाक या मुंह से खून निकलना है, यद्यपि स्थिति के साथ व्यक्ति के बीच लक्षणों की प्रस्तुति में अंतर हो सकता है। राष्ट्रीय विपद् संबंधी विसंगतियों संगठन (NORD) के अनुसार, हीमोफिलिया के संकेत और लक्षण निम्नलिखित हो सकते हैं:

  • मुंह और मसूढ़ों से खून बहना
  • बार-बार नाक से खून बहना
  • जोड़ों में खून बहना
  • सुन्नत कराने के बाद खून बहना
  • खूनी दस्त
  • मल में खून
  • टीकाकरण या अन्य इंजेक्शन के बाद खून बहना

Find More Important Days Here

विश्व हीमोफीलिया दिवस : जानिए लक्षण और कारण |_40.1

FAQs

वर्ल्ड हीमोफिलिया डे किसकी जन्म जयंती को सम्मानित करने के लिए मनाया जाता है ?

वर्ल्ड हीमोफिलिया डे हर साल 17 अप्रैल को मनाया जाता है ताकि फ्रैंक श्नाबल के जन्म जयंती को सम्मानित किया जा सके, जिन्होंने वर्ल्ड फेडरेशन ऑफ हीमोफिलिया की स्थापना की थी।