Home   »   विश्व ब्रेल दिवस 2024: इतिहास और...

विश्व ब्रेल दिवस 2024: इतिहास और महत्व

विश्व ब्रेल दिवस 2024: इतिहास और महत्व |_30.1

हर साल 4 जनवरी को विश्व ब्रेल दिवस के रूप में मनाया जाता है। यह दिन वैश्विक स्तर पर दृष्टिबाधितों के लिए बेहद अहम दिन है। इस दिन को लुईस ब्रेल नाम के शख्स के जन्मदिन के मौके पर मनाते हैं। लुईस ब्रेल एक आविष्कारक थे, जिन्होंने ब्रेल लिपि का आविष्कार किया था। ब्रेल लिपि आंखों से देख न पाने वाले लोगों की भाषा है, जिसका उपयोग वे लिखने पढ़ने के लिए करते हैं।

विश्व ब्रेल दिवस की कैसे हुई थी शुरुआत?

संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा 6 नवंबर 2018 को एक प्रस्ताव पारित किया गया था, जिसमें हर साल 4 जनवरी को ब्रेल लिपि की खोज करने वाले लुइस ब्रेल के जन्मदिन यानि 4 जनवरी को वर्ल्ड ब्रेल दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया गया। पहली बार इस दिन को 4 जनवरी 2019 को मनाया गया था। नेत्रहीन लोगों के लिए ब्रेल लिपि एक बहुत बड़ी खोज साबित हुई और इसकी मदद से ऐसे लोग भी पढ़ाई से महरूम नहीं हैं।

विश्व ब्रेल दिवस की थीम

हर साल ब्रेल दिवस को एक नई थीम के साथ सेलिब्रेट किया जाता है। इस साल की थीम है ‘Empowering Through Inclusion and Delivery’

 

ब्रेल लिपि का आविष्कार कैसे हुआ?

लुइस ब्रेल के पिता साइमन रेले ब्रेल, शाही घोड़ों के लिए काठी एवं जीन बनाने का काम करते थे। परिवार की आर्थिक स्थिति अच्छी न होने की वजह से 3 साल की उम्र से ही लुइस भी इस काम में अपने पिता का हाथ बटांने लगे। एक दिन काम करते हुए उनकी एक आंख में चाकू घुस गया था जिससे उन्हें एक हाथ से दिखना बंद हो गया। धीरे-धीरे उनकी दूसरी आंख में भी परेशानी बढ़ने लगी और इसके चलते दूसरी आंखों की रोशनी भी चली गई। 8 साल की उम्र में ही लुइस अंधे हो गए।

 

विश्व ब्रेल दिवस 2024: इतिहास और महत्व |_40.1

FAQs

विश्व हिंदी दिवस कब मनाया जाता है?

विश्व हिन्दी दिवस प्रति वर्ष 10 जनवरी को मनाया जाता है।