Home   »   जिम्बाब्वे ने मुद्रास्फीति से निपटने के...

जिम्बाब्वे ने मुद्रास्फीति से निपटने के लिए सोने के सिक्कों को कानूनी निविदा के रूप में लॉन्च किया

जिम्बाब्वे ने मुद्रास्फीति से निपटने के लिए सोने के सिक्कों को कानूनी निविदा के रूप में लॉन्च किया |_30.1

ज़िम्बाब्वे ने देश की अस्थिर मुद्रा को और खराब करने वाली भगोड़ा मुद्रास्फीति को कम करने के लिए जनता को बेचे जाने वाले सोने के सिक्के लॉन्च किए हैं। स्थानीय मुद्रा में विश्वास बढ़ाने के लिए देश के केंद्रीय बैंक, जिम्बाब्वे के रिजर्व बैंक द्वारा अभूतपूर्व कदम की घोषणा की गई थी।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams


हिन्दू रिव्यू जून 2022, डाउनलोड करें मंथली करेंट अफेयर PDF (Download The Hindu Monthly Current Affair PDF in Hindi)

सोने के इन सिक्कों को “मोसी-ओ-तुन्या” (Mosi-oa-tunya) नाम दिया गया है। 22 कैरेट सोने के इन सिक्कों पर विक्टोरिया फॉल्स की तस्वीर बनी हुई है। सिक्कों की तरल संपत्ति की स्थिति होगी ताकि उन्हें आसानी से नकदी में परिवर्तित किया जा सके और स्थानीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर व्यापार किया जा सके। लॉन्च के समय एक सिक्के की कीमत 1,824 डॉलर थी।

मुख्य बिंदु

  • पिछले दस वर्षों से मुद्रास्फीति के गंभीर स्तरों के परिणामस्वरूप जिम्बाब्वे ने स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए कई तरह के तरीकों की कोशिश की है। 
  • आईएमएफ के अनुसार, 2008 में हाइपरइन्फ्लेशन से लोगों की बचत 5 बिलियन तक पहुंच जाने के बाद जिम्बाब्वे की मुद्रा में विश्वास कम है।
  • ज़िम्बाब्वे की शुरुआत ब्रिटिश किरीट उपनिवेश के एक भाग रोडेशिया के रूप में हुई। 
  • राष्ट्रपति रॉबर्ट मुगाबे राष्ट्र प्रमुख और सशस्त्र बलों के सेनानायक हैं। मॉर्गन स्वानगिरई प्रधानमंत्री है। स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद से मुगाबे देश की सत्ता पर काबिज हैं।

Find More International News



जिम्बाब्वे ने मुद्रास्फीति से निपटने के लिए सोने के सिक्कों को कानूनी निविदा के रूप में लॉन्च किया |_40.1

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *