Home   »   WHO ने पारंपरिक चिकित्सा अनुसंधान के...

WHO ने पारंपरिक चिकित्सा अनुसंधान के लिए तीसरे भारतीय संस्थान को मान्यता दी

WHO ने पारंपरिक चिकित्सा अनुसंधान के लिए तीसरे भारतीय संस्थान को मान्यता दी |_3.1

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने आयुष मंत्रालय के अंतर्गत हैदराबाद में स्थित राष्ट्रीय भारतीय चिकित्सा विरासत संस्थान (NIIMH) को पारंपरिक चिकित्सा अनुसंधान के लिए WHO सहयोगी केंद्र (CC) के रूप में नामित किया है। 1956 में स्थापित, NIIMH आयुष की विभिन्न डिजिटल पहलों में अग्रणी रहा है। शुक्रवार को घोषित यह मान्यता चार साल की अवधि के लिए दी गई है, जिससे NIIMH ऐसा सम्मान पाने वाला तीसरा भारतीय संस्थान बन गया है।

डिजिटल पहल और योगदान

NIIMH ने अमर पोर्टल विकसित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, जो 16,000 आयुष पांडुलिपियों को सूचीबद्ध करता है, जिसमें 4,249 डिजिटाइज्ड पांडुलिपियाँ, 1,224 दुर्लभ पुस्तकें, 14,126 कैटलॉग और 4,114 पत्रिकाएँ शामिल हैं। अन्य महत्वपूर्ण डिजिटल परियोजनाओं में आयुर्वेदिक ऐतिहासिक छापों का प्रदर्शन (SAHI) पोर्टल शामिल है, जो 793 चिकित्सा-ऐतिहासिक कलाकृतियाँ प्रदर्शित करता है, और आयुष परियोजना की ई-पुस्तकें जो शास्त्रीय पाठ्यपुस्तकों के डिजिटल संस्करण प्रदान करती हैं।

अनुसंधान और डेटा संग्रह

संस्थान नमस्ते पोर्टल भी संचालित करता है, जो 168 अस्पतालों से संचयी रुग्णता सांख्यिकी संकलित करता है, और आयुष अनुसंधान पोर्टल, जो 42,818 प्रकाशित आयुष अनुसंधान लेखों को अनुक्रमित करता है।

राष्ट्रीय और वैश्विक प्रभाव

एनआईआईएमएच, हैदराबाद, केंद्रीय आयुर्वेदिक विज्ञान अनुसंधान परिषद (सीसीआरएएस) के तहत एक इकाई है और अब ‘पारंपरिक चिकित्सा में मौलिक और साहित्यिक अनुसंधान’ के लिए डब्ल्यूएचओ केंद्र के रूप में काम करेगा। यह मान्यता दो अन्य भारतीय संस्थानों के बाद मिली है: आयुर्वेद शिक्षण और अनुसंधान संस्थान, जामनगर, और मोरारजी देसाई राष्ट्रीय योग संस्थान (एमडीएनआईवाई), नई दिल्ली। भारत में, विभिन्न जैव चिकित्सा और संबद्ध विज्ञान विषयों में लगभग 58 डब्ल्यूएचओ सहयोगी केंद्र हैं।

नेतृत्व और दूरदर्शिता

सीसीआरएएस, एनआईआईएमएच के महानिदेशक और डब्ल्यूएचओ सहयोगी केंद्र के प्रमुख प्रोफेसर वैद्य रविनारायण आचार्य ने इस पदनाम को एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर बताया, जो पारंपरिक चिकित्सा और ऐतिहासिक अनुसंधान में संस्थान के अथक प्रयासों को दर्शाता है।

WHO ने पारंपरिक चिकित्सा अनुसंधान के लिए तीसरे भारतीय संस्थान को मान्यता दी |_4.1

FAQs

विश्व स्वास्थ्य संगठन की स्थापना कब हुई ?

विश्व स्वास्थ्य संगठन की स्थापना 7 अप्रैल 1948 को हुई थी।

TOPICS: