Home   »   जयपुर वैक्स म्यूजियम में बाबा अंबेडकर...

जयपुर वैक्स म्यूजियम में बाबा अंबेडकर के वैक्स स्टैचू की स्थापना

जयपुर वैक्स म्यूजियम में बाबा अंबेडकर के वैक्स स्टैचू की स्थापना |_30.1

भारतीय संविधान के मुख्य वास्तुकार डॉ. बीआर अंबेडकर की मोम की प्रतिमा का अनावरण 6 दिसंबर को जयपुर वैक्स म्यूजियम, नाहरगढ़ किले में किया गया है।

भारतीय संविधान के मुख्य वास्तुकार, डॉ. बीआर अंबेडकर को एक महत्वपूर्ण श्रद्धांजलि में, जयपुर वैक्स संग्रहालय, नाहरगढ़ किले में एक मोम प्रतिमा का अनावरण किया गया है। संग्रहालय के संस्थापक निदेशक, अनूप श्रीवास्तव ने पर्यटकों और आगंतुकों की मांग का हवाला देते हुए, इसे जोड़ने के पीछे की प्रेरणा को साझा किया। मोम की प्रतिमा का उद्घाटन 6 दिसंबर को बाबा साहेब अंबेडकर के निधन की स्मृति में महापरिनिर्वाण दिवस के अवसर पर किया गया था।

मांग आधारित निर्णय

अनूप श्रीवास्तव ने इस बात पर प्रकाश डाला कि मोम की मूर्ति बनाने का निर्णय भारत भर से आए कई पर्यटकों से प्रभावित था, जो बाबा साहेब का प्रतिनिधित्व देखने की इच्छा व्यक्त करते हुए संग्रहालय में आते थे। यह प्रतिमा डॉ. बीआर अंबेडकर की विरासत की स्थायी लोकप्रियता और भारत के संवैधानिक ढांचे को आकार देने में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका की मान्यता का प्रमाण है।

प्रतीकात्मक प्लेसमेंट

मोम की प्रतिमा को राष्ट्रपति भवन की भव्यता के भीतर अपना स्थान मिल गया है, जो एक अन्य प्रतिष्ठित व्यक्ति, भारत रत्न डॉ. अब्दुल कलाम, भारत के मिसाइल मैन की समानता के साथ स्थान साझा करती है। इस प्रतीकात्मक प्लेसमेंट का उद्देश्य दो महान व्यक्तित्वों के सार को पकड़ना है जिन्होंने देश की नियति को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

डिज़ाइन और आयाम

सूक्ष्म विवरण के साथ तैयार की गई, मोम की मूर्ति 5 फीट 11 इंच ऊंची है, जिसका वजन लगभग 38 किलोग्राम है। यह मूर्ति ईमानदारी-पूर्वक बाबा साहेब की प्रतिष्ठित छवि की नकल करती है, जिसमें उन्हें हाथ में संविधान की किताब लिए हुए और अपने विशिष्ट नीले सूट में सजे हुए दिखाया गया है। यह वफादार प्रतिनिधित्व लोगों के दिमाग में गहराई से अंतर्निहित छवि को उजागर करने का कार्य करता है।

पीढ़ियों के लिए प्रेरणा

अनूप श्रीवास्तव ने इस बात पर बल दिया कि बाबा साहेब का जीवन आने वाली पीढ़ियों के लिए प्रेरणा का एक स्थायी स्रोत है। मोम में उनकी छवि को अमर बनाकर, जयपुर वैक्स संग्रहालय का उद्देश्य डॉ. बीआर अंबेडकर की विरासत के संरक्षण और उत्सव में योगदान देना है, यह सुनिश्चित करना कि भारतीय समाज में उनके योगदान को याद किया जाए और सम्मानित किया जाए।

जयपुर वैक्स म्यूजियम की अनूठी विशिष्टता

बाबा साहेब अम्बेडकर की मोम की प्रतिमा को शामिल करने के साथ, जयपुर वैक्स संग्रहालय में अब प्रमुख हस्तियों की 43 मोम की मूर्तियों का संग्रह हो गया है। विशेष रूप से, इसे “विरासत स्थल” – ऐतिहासिक नाहरगढ़ किले के भीतर स्थित दुनिया में मोम संग्रहालय होने का गौरव प्राप्त है।

सरकारी सहयोग

2016 में राजस्थान सरकार के पुरातत्व और संग्रहालय विभाग के सहयोग से स्थापित, जयपुर वैक्स संग्रहालय ने राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सफलतापूर्वक प्रशंसा हासिल की है। एक विरासत स्थल के भीतर इसकी अनूठी सेटिंग आगंतुकों के अनुभव में महत्व की एक अतिरिक्त परत जोड़ती है।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

Q1. जयपुर वैक्स म्यूजियम में डॉ. बीआर अंबेडकर की मोम की मूर्ति का अनावरण क्यों किया गया?

A. यह निर्णय बाबा साहेब की विरासत का सम्मान करते हुए पर्यटकों और आगंतुकों की मांग से प्रेरित था।

Q2. जयपुर वैक्स संग्रहालय में राष्ट्रपति भवन के भीतर मोम की मूर्ति की स्थापना का क्या महत्व है?

A. यह प्रतीकात्मक रूप से भारत रत्न डॉ. अब्दुल कलाम के साथ स्थान साझा करता है, जो भारत की नियति को आकार देने में उनकी महत्वपूर्ण भूमिकाओं पर जोर देता है।

Q3. डॉ. बीआर अम्बेडकर की मोम की मूर्ति कितनी ऊंची है और इसका वजन क्या है?

A. मूर्ति 5 फीट 11 इंच लंबी है और इसका वजन लगभग 38 किलोग्राम है।

Find More National News Here

 

जयपुर वैक्स म्यूजियम में बाबा अंबेडकर के वैक्स स्टैचू की स्थापना |_40.1

FAQs

मैक्स लाइफ इंश्योरेंस का मुख्यालय कहाँ पर स्थित है?

मैक्स लाइफ इंश्योरेंस का मुख्यालय नई दिल्ली, भारत में स्थित है।

TOPICS: