Home   »   लेखिका मालती जोशी का 90 साल...

लेखिका मालती जोशी का 90 साल की उम्र में निधन

लेखिका मालती जोशी का 90 साल की उम्र में निधन_3.1

साहित्य जगत की जानी-मानी हस्ती और प्रतिष्ठित पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित मालती जोशी का कैंसर से जूझने के बाद बुधवार को 90 वर्ष की आयु में निधन हो गया। एक विपुल लेखक और कहानीकार के रूप में उनकी विरासत हिंदी और मराठी साहित्य पर एक अमिट छाप छोड़ती है।

मालती जोशी की साक्षरता विरासत

मालती जोशी हिंदी और मराठी में कहानियों के पचास से अधिक संग्रह के साथ अपने विपुल साहित्यिक योगदान के लिए प्रसिद्ध थीं। उनकी कहानी कहने की शैली को इसकी विशिष्टता की विशेषता थी, जिसने उन्हें साहित्यिक क्षेत्र में एक विशेष स्थान अर्जित किया। जोशी के कार्यों का भारत भर के विश्वविद्यालयों में बड़े पैमाने पर अध्ययन किया गया है, जो पाठकों और विद्वानों पर उनकी कहानी कहने के गहरे प्रभाव को प्रमाणित करता है। अपने शानदार करियर के दौरान, उन्होंने 60 से अधिक किताबें लिखीं, जो कहानियों की एक समृद्ध टेपेस्ट्री को पीछे छोड़ गईं जो प्रेरित करती रहती हैं।

पद्म श्री मान्यता

साहित्य में उनके महत्वपूर्ण योगदान के सम्मान में, मालती जोशी को 2018 में पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। इस प्रतिष्ठित सम्मान ने अपने समय के सबसे प्रमुख हिंदी कहानी लेखकों में से एक के रूप में उनके कौशल को रेखांकित किया, एक साहित्यिक दिग्गज के रूप में उनकी स्थिति को मजबूत किया।

मालती जोशी का प्रारंभिक जीवन और शिक्षा

4 जून, 1934 को महाराष्ट्र के औरंगाबाद में जन्मी मालती जोशी ने इंदौर के डॉ. भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय के होल्कर कॉलेज से स्नातक होने से पहले मध्य प्रदेश में अपनी शिक्षा प्राप्त की। हिंदी साहित्य के लिए उनके जुनून ने उन्हें 1956 में उसी क्षेत्र में मास्टर ऑफ आर्ट्स की डिग्री प्राप्त करने के लिए प्रेरित किया, जिससे उनके शानदार साहित्यिक करियर की नींव पड़ी।

टेलीविजन रूपांतरण और पहुंच

मालती जोशी की साहित्यिक रचनाएँ सीमाओं को पार कर गईं और भारत के राष्ट्रीय प्रसारक दूरदर्शन द्वारा टेलीविजन के लिए अनुकूलित की गईं। उन्होंने जया बच्चन द्वारा निर्मित ‘सात फेरे’ और गुलजार द्वारा निर्मित ‘किरदार’ जैसे टेलीविजन शो में भी अभिनय किया। उनकी कहानियों का मराठी, उर्दू, बंगाली, तमिल, तेलुगु, पंजाबी, मलयालम, कन्नड़, अंग्रेजी, रूसी और जापानी सहित कई भाषाओं में अनुवाद किया गया, जो विविध दर्शकों के बीच उनके व्यापक प्रभाव और अपील को प्रदर्शित करता है।

 एक स्थायी विरासत

मालती जोशी का निधन हिंदी और मराठी साहित्य में एक युग के अंत का प्रतीक है। उनकी गहन कहानी कहने की क्षमता और साहित्यिक योगदान आने वाली पीढ़ियों के लिए पाठकों और उत्साही लोगों के साथ गूंजता रहेगा। जैसा कि साहित्यिक समुदाय उनके निधन का शोक मनाता है, मालती जोशी की विरासत उनकी कालातीत कहानियों और भारतीय साहित्य पर स्थायी प्रभाव के माध्यम से बनी रहेगी।

Current Affairs Year Book 2024

FAQs

मालती जोशी को कब पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया था?

मालती जोशी को 2018 में पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

TOPICS: