Home   »   भारत में समान नागरिक संहिता लागू...

भारत में समान नागरिक संहिता लागू करने में उत्तराखंड अग्रणी

भारत में समान नागरिक संहिता लागू करने में उत्तराखंड अग्रणी |_30.1

समान नागरिक संहिता (यूसीसी) लागू करने वाला पहला राज्य बनकर उत्तराखंड ने भारत के विधायी इतिहास में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि हासिल की है।

समान नागरिक संहिता (यूसीसी) लागू करने वाला पहला राज्य बनकर उत्तराखंड ने भारत के विधायी इतिहास में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर चिह्नित किया है। यह अभूतपूर्व कदम मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी द्वारा शुरू किया गया था, जब राज्य विधानसभा ने यूसीसी विधेयक पारित किया था। यूसीसी का लक्ष्य सभी नागरिकों के लिए, चाहे उनका धर्म कुछ भी हो, विवाह, तलाक, विरासत आदि जैसे व्यक्तिगत मामलों को नियंत्रित करने वाले कानूनों को मानकीकृत करना है।

उत्तराखंड में समान नागरिक संहिता की यात्रा

उत्तराखंड में समान नागरिक संहिता लागू करने की दिशा में यात्रा सुप्रीम कोर्ट की सेवानिवृत्त न्यायाधीश, न्यायमूर्ति रंजना पी. देसाई के नेतृत्व में एक उच्च स्तरीय समिति के गठन के साथ शुरू हुई। इस समिति को यूसीसी का मसौदा तैयार करने का काम सौंपा गया था, जिसने उत्तराखंड विधानसभा द्वारा पारित विधेयक की नींव रखी।

लोकसभा चुनाव से पहले महत्व

उत्तराखंड में यूसीसी को अपनाना 2024 के लोकसभा चुनाव से कुछ माह पहले आया है, जो एक महत्वपूर्ण राजनीतिक कदम का संकेत है। खबर है कि केंद्र सरकार गुजरात और असम जैसे अन्य भाजपा शासित राज्यों के साथ मिलकर राष्ट्रीय स्तर पर इसी तरह के कानून लाने पर विचार कर रही है। यूसीसी भाजपा के मूलभूत एजेंडे के अनुरूप है, जिसमें अनुच्छेद 370 को निरस्त करना और अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण शामिल है।

समान नागरिक संहिता ड्राफ्ट की विशेषताएं

उत्तराखंड यूसीसी विधेयक में व्यक्तिगत कानूनों में समानता और एकरूपता सुनिश्चित करने के उद्देश्य से कई प्रमुख विशेषताएं शामिल हैं। कुछ उल्लेखनीय पहलुओं में शामिल हैं:

जनजातीय समुदायों के लिए छूट

उत्तराखंड में यूसीसी का एक महत्वपूर्ण पहलू आदिवासी समुदायों को छूट है, जो राज्य की आबादी का 2.9% हैं। उनकी अनूठी प्रथागत प्रथाओं को स्वीकार करते हुए, कानून यह सुनिश्चित करता है कि यूसीसी किसी भी अनुसूचित जनजाति के सदस्यों पर लागू नहीं होता है या जिनके रीति-रिवाज भारत के संविधान के तहत संरक्षित हैं, उनके पारंपरिक अधिकारों और सांस्कृतिक विरासत की रक्षा करते हैं।

लिव-इन रिलेशनशिप का विनियमन

यूसीसी लिव-इन रिश्तों के पंजीकरण के लिए एक औपचारिक प्रक्रिया शुरू करता है, उन्हें एक घर साझा करने वाले पुरुष और महिला के बीच विवाह के समान संबंधों के रूप में परिभाषित करता है। यह जोड़ों को संबंधित रजिस्ट्रार के साथ अपने रिश्ते को पंजीकृत करने के लिए बाध्य करता है, इस कदम का उद्देश्य कानूनी मान्यता और सुरक्षा प्रदान करना है, जिसमें महिलाओं को परित्यक्त होने पर रखरखाव का दावा करने का अधिकार भी शामिल है।

बहुविवाह और द्विविवाह का निषेध

वैवाहिक निष्ठा और समानता को बढ़ावा देने की दिशा में, यूसीसी स्पष्ट रूप से बहुविवाह और द्विविवाह पर प्रतिबंध लगाता है, विवाह के लिए स्पष्ट शर्तें निर्धारित करता है जिसमें दूसरे विवाह के समय जीवित जीवनसाथी रखने पर प्रतिबंध शामिल है। यह बोर्ड भर में व्यक्तिगत कानूनों में एकरूपता और निष्पक्षता सुनिश्चित करने के लिए यूसीसी के व्यापक उद्देश्यों के अनुरूप है।

विवाहों का अनिवार्य पंजीकरण

यूसीसी के अनुसार सभी विवाहों को, भले ही किसी भी रीति-रिवाज या धार्मिक प्रथाओं का पालन किया गया हो, अनुष्ठान के 60 दिनों के भीतर पंजीकृत किया जाना आवश्यक है। यह उपाय विवाहों की कानूनी स्थिति को मजबूत करने और पति-पत्नी के अधिकारों की रक्षा करने के लिए बनाया गया है, हालांकि पंजीकरण में विफलता विवाह को अमान्य नहीं करती है।

बच्चों के अधिकारों की प्रगतिशील मान्यता

उत्तराखंड के यूसीसी ने “नाजायज बच्चों” के लेबल को खत्म कर दिया है, जो विवाह से पैदा हुए बच्चों, शून्य या शून्य विवाह और लिव-इन रिलेशनशिप में पैदा हुए बच्चों को समान अधिकार प्रदान करता है। यह प्रगतिशील कदम विरासत और रखरखाव के संबंध में मौजूदा व्यक्तिगत कानूनों के भेदभावपूर्ण रुख को सुधारता है।

तलाक के लिए कानूनी ढांचा

यूसीसी तलाक के लिए आधारों को संहिताबद्ध करता है, जिससे पुरुषों और महिलाओं दोनों को व्यभिचार, क्रूरता और परित्याग सहित विशिष्ट परिस्थितियों में अलग होने के समान अधिकार मिलते हैं। यह विवाह विच्छेद के लिए न्यायिक प्रक्रियाओं, इसमें शामिल सभी पक्षों के लिए निष्पक्षता और उचित विचार सुनिश्चित करने पर जोर देता है।

कुछ मुस्लिम पर्सनल लॉ प्रथाओं का अपराधीकरण

एक विवादास्पद कदम में, यूसीसी ने हाल के राष्ट्रीय कानूनों और सुप्रीम कोर्ट के फैसलों के साथ तालमेल बिठाते हुए निकाह हलाला और तीन तलाक जैसी प्रथाओं को अपराध घोषित कर दिया है, जो मुस्लिम समुदाय के भीतर महिलाओं के अधिकारों की रक्षा करना चाहते हैं।

विरासत अधिकार

यूसीसी बेटों और बेटियों के लिए समान विरासत अधिकार सुनिश्चित करता है, हिंदू कानून में प्रचलित सहदायिक प्रणाली को समाप्त करता है और उत्तराधिकारियों के बीच संपत्ति के अधिक न्यायसंगत वितरण की वकालत करता है।

LGBTQIA+ रिश्तों की अनदेखी

अपने प्रगतिशील तत्वों के बावजूद, यूसीसी LGBTQIA+ संबंधों को मान्यता देने, लिव-इन संबंधों को विषम मानक तरीके से परिभाषित करने और समलैंगिक जोड़ों को कानूनी सुरक्षा प्रदान करने का अवसर चूकने में असफल रहा है।

मसौदे के पीछे समिति

यूसीसी का मसौदा न्यायमूर्ति रंजना प्रकाश देसाई की अध्यक्षता में पांच सदस्यीय पैनल द्वारा सावधानीपूर्वक तैयार किया गया था। पैनल में सिक्किम उच्च न्यायालय के पूर्व मुख्य न्यायाधीश प्रमोद कोहली, सामाजिक कार्यकर्ता मनु गौड़, सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी शत्रुघ्न सिंह और दून विश्वविद्यालय की कुलपति सुरेखा डंगवाल जैसी प्रतिष्ठित हस्तियां भी शामिल थीं। उनकी सामूहिक विशेषज्ञता और अंतर्दृष्टि ने उत्तराखंड के लिए यूसीसी ड्राफ्ट को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

  1. उत्तराखंड में समान नागरिक संहिता (यूसीसी) को लागू करने की पहल किसने की?
  2. समान नागरिक संहिता (यूसीसी) का मुख्य लक्ष्य क्या है?
  3. उत्तराखंड में यूसीसी का मसौदा तैयार करने वाली उच्च स्तरीय समिति का नेतृत्व किसने किया?
  4. उत्तराखंड में यूसीसी के कार्यान्वयन से पहले किन महत्वपूर्ण राजनीतिक घटनाओं की आशंका है?
  5. उत्तराखंड यूसीसी विधेयक में शामिल एक प्रमुख विशेषता का नाम बताइए।
  6. लिव-इन रिलेशनशिप पर यूसीसी का रुख क्या है?
  7. यूसीसी बहुविवाह की प्रथा को कैसे संबोधित करता है?
  8. यूसीसी मसौदा तैयार करने वाली समिति में न्यायमूर्ति रंजना प्रकाश देसाई के अलावा कौन सदस्य थे?
  9. यूसीसी का लक्ष्य भारत में व्यक्तिगत कानूनों में क्या मूलभूत परिवर्तन लाना है?
  10. समान नागरिक संहिता पर कानून पारित करने वाला भारत का पहला राज्य कौन सा बना?

कृपया अपनी प्रतिक्रियाएँ टिप्पणी अनुभाग में साझा करें।

FAQs

किस योजना के तहत देश में 1 करोड़ घरों की छत पर सौर ऊर्जा पैनल लगाए जायेंगे?

प्रधानमंत्री सूर्योदय योजना।