Home   »   उज्जैन ने किया भारत की पहली...

उज्जैन ने किया भारत की पहली स्वच्छ खाद्य स्ट्रीट ‘प्रसादम’ का अनावरण

उज्जैन ने किया भारत की पहली स्वच्छ खाद्य स्ट्रीट 'प्रसादम' का अनावरण |_30.1

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. मनसुख मंडाविया ने नीलकंठ वन, महाकाल लोक, उज्जैन, मध्य प्रदेश में एक भव्य कार्यक्रम में भारत की प्रारंभिक स्वच्छ खाद्य सड़क ‘प्रसादम’ का उद्घाटन किया।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. मनसुख मंडाविया ने हाल ही में नीलकंठ वन, महाकाल लोक, उज्जैन, मध्य प्रदेश में एक भव्य समारोह में देश की पहली स्वस्थ और स्वच्छ फूड स्ट्रीट ‘प्रसादम’ का उद्घाटन किया। यह महत्वपूर्ण कार्यक्रम मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव, उपमुख्यमंत्री राजेंद्र शुक्ला, लोक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण राज्य मंत्री नरेंद्र शिवाजी पटेल और लोकसभा सदस्य अनिल फिरोजिया की उपस्थिति में हुआ।

भक्तों के लिए शुद्ध एवं स्वच्छ भोजन को बढ़ावा देना

सभा को संबोधित करते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. मनसुख मंडाविया ने इस पहल के प्रति अपना उत्साह व्यक्त किया। उन्होंने कहा, ‘यह सड़क भक्तों को शुद्ध और स्वच्छ भोजन प्रदान करेगी।’ डॉ मंडाविया ने इस बात पर जोर दिया कि ‘प्रसादम’ पहल का उद्देश्य पूरे देश में आम नागरिकों को शुद्ध और सुरक्षित स्थानीय और पारंपरिक भोजन से जोड़ना है। उनका मानना है कि यह प्रयास लोगों, निवासियों और पर्यटकों दोनों को सुरक्षित और स्वस्थ भोजन की आदतें अपनाने के लिए प्रेरित करेगा।

उज्जैन ने किया भारत की पहली स्वच्छ खाद्य स्ट्रीट 'प्रसादम' का अनावरण |_40.1

प्रसादम: फूड स्ट्रीट से भी अधिक विकसित

प्रभावशाली 939 वर्ग मीटर में फैला, “प्रसादम” समग्र विकास का प्रतीक है। महाकालेश्वर मंदिर के पास स्थित, इसे केवल एक फूड स्ट्रीट के रूप में नहीं, बल्कि सामुदायिक जीवन के विभिन्न पहलुओं में योगदान देने वाले एक बहुमुखी गंतव्य के रूप में डिजाइन किया गया है। फूड स्ट्रीट में 17 दुकानें हैं, जिनमें से प्रत्येक एक अद्वितीय पाक अनुभव प्रदान करती है।

प्रचुर सुविधाएँ

“प्रसादम” पाक आनंद प्रदान करने से काफी अधिक विकसित है। यह बच्चों के लिए समर्पित खेल क्षेत्र, पीने के पानी की सुविधा, सीसीटीवी निगरानी, पर्याप्त पार्किंग, सार्वजनिक सुविधाएं और विशाल बैठने की जगह सहित कई प्रकार की सुविधाएं प्रदान करता है। इन सुविधाओं का उद्देश्य आगंतुकों और स्थानीय लोगों के समग्र अनुभव को समान रूप से बढ़ाना है।

स्वास्थ्य-केंद्रित उद्घाटन

डॉ. मंडाविया और डॉ. यादव ने 17 सिविल कार्यों का उद्घाटन करने का भी अवसर लिया, जिसमें स्वास्थ्य इकाइयां और प्रयोगशालाएं शामिल थीं। दोनों ने मानसिक स्वास्थ्य जांच के लिए मैनहिट ऐप लॉन्च किया, जो शारीरिक स्वास्थ्य से परे समग्र कल्याण के प्रति प्रतिबद्धता प्रदर्शित करता है।

नवाचारों का अनावरण

इस कार्यक्रम में स्वास्थ्य और खाद्य सुरक्षा के क्षेत्र में विभिन्न नवाचारों को प्रदर्शित किया गया। घरेलू खाद्य पदार्थों में मिलावट की जांच के लिए एफएसएसएआई द्वारा “द डार्ट बुक” जारी की गई, जिसमें खाद्य सुरक्षा के महत्व पर जोर दिया गया है। इसके अतिरिक्त, सड़कों पर सुरक्षा उपाय करते हुए “फ़ूड सेफ्टी ऑन व्हील्स” नामक एक मोबाइल खाद्य परीक्षण वैन लॉन्च की गई।

स्वस्थ और अधिक जीवंत राष्ट्र की ओर

मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने अपनी टिप्पणी में सभी के लिए स्वच्छ और स्वस्थ भोजन सुनिश्चित करने में भूमिका के लिए “प्रसादम” पहल की सराहना की। उन्होंने पर्यटन को बढ़ावा देने, परंपराओं को संरक्षित करने और सामुदायिक जुड़ाव को बढ़ावा देने की इसकी क्षमता पर प्रकाश डाला। “प्रसादम” का उद्घाटन एक स्वस्थ और अधिक जीवंत राष्ट्र के निर्माण की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है, जहां शुद्ध और स्वच्छ भोजन सभी के लिए सुलभ है।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

1. मध्य प्रदेश के उज्जैन में ‘प्रसादम’ पहल का प्राथमिक उद्देश्य क्या है?

a) सांस्कृतिक कार्यक्रमों को बढ़ावा देना
b) भक्तों को शुद्ध और स्वच्छ भोजन उपलब्ध कराना
c) परिवहन सुविधाओं को बढ़ाना

2. उद्घाटन के दौरान मानसिक स्वास्थ्य जांच के लिए डॉ. मंडाविया और डॉ. यादव ने कौन सा ऐप लॉन्च किया?

a) फिटनेस ट्रैकर प्रो
b) माइंडईज़
c) मनहित

3. एफएसएसएआई द्वारा जारी “द डार्ट बुक” किस पर केंद्रित है?

a) घर पर खाद्य पदार्थों में मिलावट का परीक्षण पर
b) साहसिक खेल दिशानिर्देशों पर
c) आहार और पोषण युक्तियों पर

कृपया अपनी प्रतिक्रियाएँ टिप्पणी अनुभाग में साझा करें।

उज्जैन ने किया भारत की पहली स्वच्छ खाद्य स्ट्रीट 'प्रसादम' का अनावरण |_50.1

 

FAQs

अमरावती बौद्ध स्तूप कहाँ है?

आंध्र प्रदेश में

TOPICS: