Home   »   अमेरिका ने भारत को सौंपे 105...

अमेरिका ने भारत को सौंपे 105 प्राचीन कलाकृतियां

अमेरिका ने भारत को सौंपे 105 प्राचीन कलाकृतियां_3.1

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जून में अमेरिका की राजकीय यात्रा के कुछ दिनों बाद दूसरी-तीसरी शताब्दी ईस्वी से लेकर 18वीं-19वीं शताब्दी ईस्वी तक की कुल 105 पुरावशेषों को अमेरिकी अधिकारियों द्वारा भारत वापस भेजा जा रहा है। अमेरिका में भारत के राजदूत तरणजीत सिंह संधू, महावाणिज्यदूत रणधीर जयसवाल और मैनहट्टन जिला अटॉर्नी कार्यालय के अधिकारियों की उपस्थिति में न्यूयॉर्क में भारत के महावाणिज्य दूतावास में आयोजित एक विशेष प्रत्यावर्तन समारोह में अमेरिका द्वारा कुछ मूल्यवान भारतीय पुरावशेष सौंपे गए।

 

अवैध तस्करी को रोकने के लिए सांस्कृतिक संपत्ति समझौता

  • यात्रा के दौरान, भारत और अमेरिका भविष्य में सांस्कृतिक कलाकृतियों की अवैध तस्करी को रोकने के उद्देश्य से एक सांस्कृतिक संपत्ति समझौते पर काम करने के लिए भी सहमत हुए।
  • यह समझौता होमलैंड सिक्योरिटी और दोनों देशों की कानून प्रवर्तन एजेंसियों के बीच घनिष्ठ सहयोग को बढ़ावा देगा, जिससे उनके द्विपक्षीय संबंध और बढ़ेंगे।

 

व्यापक भौगोलिक विस्तार का प्रतिनिधित्व

भारत के महावाणिज्य दूतावास ने कहा कि इन पुरावशेषों को जल्द ही भारत ले जाया जाएगा। 105 कलाकृतियां भारत में उनकी उत्पत्ति के संदर्भ में व्यापक भौगोलिक विस्तार का प्रतिनिधित्व करती हैं। इनमें से लगभग 50 कलाकृतियां धार्मिक विषयों (हिंदू धर्म, जैन धर्म और इस्लाम) से संबंधित हैं और बाकी सांस्कृतिक महत्व की हैं।

 

अमेरिका से 278 सांस्कृतिक कलाकृतियां आईं वापस

केंद्र सरकार भारतीय विरासत और संस्कृति के जीवंत प्रतीकों को विदेशों से वापस लाने के लिए ठोस प्रयास कर रही है। पहली बार 2016 में अमेरिका की ओर से 16 प्राचीन वस्तुएं लौटाई गईं थीं। इसके बाद 2021 में 157 प्राचीन वस्तुएं वापस की गईं। इन 105 पुरावशेषों के साथ, अमेरिकी पक्ष ने 2016 से भारत को कुल 278 सांस्कृतिक कलाकृतियां सौंपी हैं।

 

Find More News Related to Agreements

RBI, Central Bank of UAE sign two MoUs for trade in local currencies_100.1

FAQs

अमेरिका की राजधानी कहां है?

अमेरिका की राजधानी वाशिंगटन डी सी है.