Home   »   द डूम्सडे क्लॉक: मानवता के संकट...

द डूम्सडे क्लॉक: मानवता के संकट का प्रतीक

द डूम्सडे क्लॉक: मानवता के संकट का प्रतीक |_30.1

परमाणु वैज्ञानिकों के बुलेटिन द्वारा स्थापित डूम्सडे क्लॉक, वैश्विक आपदाओं के लिए मानवता की निकटता का एक रूपक प्रतिनिधित्व है।

डूम्सडे क्लॉक का परिचय

परमाणु वैज्ञानिकों के बुलेटिन द्वारा स्थापित डूम्सडे क्लॉक, मुख्य रूप से मानव निर्मित प्रौद्योगिकियों और पर्यावरणीय चुनौतियों के कारण होने वाली वैश्विक आपदाओं के लिए मानवता की निकटता का एक रूपक प्रतिनिधित्व है। हाल ही में, इस प्रतीकात्मक क्लॉक ने आधी रात के करीब अपनी खतरनाक सेटिंग के कारण काफी ध्यान आकर्षित किया है।

डूम्सडे क्लॉक की ऐतिहासिक पृष्ठभूमि

द डूम्सडे क्लॉक: मानवता के संकट का प्रतीक |_40.1

मूल

डूम्सडे क्लॉक 1947 में हिरोशिमा और नागासाकी पर परमाणु बमबारी के दो वर्ष बाद बनाई गई थी। यह अवधारणा उन वैज्ञानिकों द्वारा विकसित की गई थी जिन्होंने मैनहट्टन परियोजना पर कार्य किया था और द्वितीय विश्व युद्ध के बाद परमाणु हथियारों की होड़ के बारे में गहराई से चिंतित थे। बुलेटिन के एक सदस्य, कलाकार मार्टिल लैंग्सडॉर्फ ने मूल क्लॉक को डिजाइन किया था।

उद्देश्य

प्रारंभ में, क्लॉक परमाणु खतरे का प्रतीक थी। तब से यह जलवायु परिवर्तन, उभरती प्रौद्योगिकियों और जैविक खतरों सहित खतरों की एक विस्तृत श्रृंखला को शामिल करने के लिए विकसित हुआ है।

डूम्सडे क्लॉक की वर्तमान सेटिंग और महत्व

2024 में सेटिंग

2024 तक, डूम्सडे क्लॉक आधी रात से 90 सेकंड पहले निर्धारित किया गया है। यह सेटिंग वर्तमान वैश्विक खतरों के व्यापक मूल्यांकन पर आधारित है और आधी रात के सबसे करीब है।

डूम्सडे क्लॉक के अंतर्निहित कारक

कई कारकों ने इस सेटिंग को प्रभावित किया:

परमाणु खतरे: परमाणु शक्तियों, विशेषकर संयुक्त राज्य अमेरिका, रूस और चीन के बीच बढ़ते तनाव ने परमाणु संघर्ष के खतरे को बढ़ा दिया है।
जलवायु परिवर्तन: बढ़ते वैश्विक ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन और जलवायु परिवर्तन से निपटने के अपर्याप्त प्रयासों के साथ, 2023 रिकॉर्ड पर सबसे गर्म वर्ष के रूप में चिह्नित किया गया।
तकनीकी प्रगति: कृत्रिम बुद्धिमत्ता जैसी विघटनकारी प्रौद्योगिकियों की अनियंत्रित वृद्धि नए जोखिम पैदा करती है, जिसमें दुष्प्रचार का प्रसार और युद्ध में एआई का संभावित दुरुपयोग शामिल है।

डूम्सडे क्लॉक की आलोचना और बहस

इसके प्रतीकात्मक महत्व के बावजूद, डूम्सडे क्लॉक को अपनी व्यक्तिपरक प्रकृति के लिए आलोचना का सामना करना पड़ा है। आलोचकों का तर्क है कि इसकी सेटिंग अनुभवजन्य साक्ष्य के बजाय अनुमान पर आधारित है और समय की गणना करने के लिए उपयोग की जाने वाली पद्धति पर प्रश्न उठाते हैं। कुछ लोग इसे एक पुराना पीआर स्टंट मानते हैं, आज की दुनिया में इसकी प्रासंगिकता और प्रभावशीलता बहस का विषय है।

बुलेटिन की भूमिका

निर्माण एवं रखरखाव

अल्बर्ट आइंस्टीन और जे. रॉबर्ट ओपेनहाइमर द्वारा स्थापित बुलेटिन ऑफ द एटॉमिक साइंटिस्ट्स, अपनी स्थापना के बाद से ही डूम्सडे क्लॉक का रखरखाव कर रहा है। संगठन में वैज्ञानिक और अन्य विशेषज्ञ शामिल हैं जो वैश्विक खतरों का आकलन करते हैं और क्लॉक की सेटिंग तय करते हैं।

उद्देश्य और प्रभाव

बुलेटिन और डूम्सडे क्लॉक का प्राथमिक उद्देश्य डर पैदा करना नहीं है बल्कि इन अस्तित्वगत खतरों को कम करने की दिशा में कार्रवाई को प्रेरित करना है। यह क्लॉक मानवता के सामने आने वाली चुनौतियों से निपटने के लिए सहयोगात्मक प्रयासों की तत्काल आवश्यकता की याद दिलाती है।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

  • डूम्सडे क्लॉक कब बनाया गया था, और किन ऐतिहासिक घटनाओं ने इसकी स्थापना को प्रेरित किया?
  • मूल डूम्सडे क्लॉक किसने डिज़ाइन किया था और इसका प्रारंभिक उद्देश्य क्या था?
  • 2024 में, डूम्सडे क्लॉक आधी रात से कितने सेकंड पहले सेट की जाएगी, और इस सेटिंग को खतरनाक क्यों माना जाता है?
  • 2024 में डूम्सडे क्लॉक की वर्तमान सेटिंग को प्रभावित करने वाले अंतर्निहित कारक क्या हैं?
  • डूम्सडे क्लॉक के लिए वैश्विक जोखिमों के आकलन में परमाणु खतरों, जलवायु परिवर्तन और तकनीकी प्रगति की क्या भूमिका है?
  • डूम्सडे क्लॉक को किन आलोचनाओं का सामना करना पड़ा है, और कुछ लोग इसे आज की दुनिया में बहस का विषय क्यों मानते हैं?
  • डूम्सडे क्लॉक को बनाए रखने के लिए कौन जिम्मेदार है, और परमाणु वैज्ञानिकों का बुलेटिन इसकी सेटिंग कैसे निर्धारित करता है?
  • परमाणु वैज्ञानिकों के बुलेटिन और डूम्सडे क्लॉक का प्राथमिक उद्देश्य क्या है, और यह अस्तित्व संबंधी खतरों पर वैश्विक दृष्टिकोण को कैसे प्रभावित करता है?

कृपया अपनी प्रतिक्रियाएँ टिप्पणी अनुभाग में साझा करें!!

द डूम्सडे क्लॉक: मानवता के संकट का प्रतीक |_50.1

FAQs

मलेरिया उन्मूलन प्रमाणन प्रक्रिया क्या है?

WHO द्वारा किसी देश को मलेरिया-मुक्त का प्रमाण तब दिया जाता है जब वह कम-से-कम 3 वर्षों तक संपूर्ण देश में मलेरिया के संचरण में रोकथाम दर्शाता है तथा उसके पास स्वदेशी संचरण के पुनः संचरित होने की स्थिति में उसकी रोकथाम करने वाली कार्यात्मक निगरानी एवं प्रतिक्रिया प्रणाली होती है।