Home   »   चित्रा बनर्जी दिवाकरुनी द्वारा लिखी गई...

चित्रा बनर्जी दिवाकरुनी द्वारा लिखी गई “एन अनकॉमन लव: द अर्ली लाइफ ऑफ सुधा एंड नारायण मूर्ति” का विमोचन

चित्रा बनर्जी दिवाकरुनी द्वारा लिखी गई "एन अनकॉमन लव: द अर्ली लाइफ ऑफ सुधा एंड नारायण मूर्ति" का विमोचन |_30.1

पुस्तक “एन अनकॉमन लव: द अर्ली लाइफ ऑफ सुधा एंड नारायण मूर्ति” चित्रा बनर्जी दिवाकरुनी द्वारा लिखी गई है।

पुस्तक “एन अनकॉमन लव: द अर्ली लाइफ ऑफ सुधा एंड नारायण मूर्ति” चित्रा बनर्जी दिवाकरुनी द्वारा लिखी गई है। यह पुस्तक भारत के सबसे सम्मानित जोड़ों में से एक, इंफोसिस के सह-संस्थापक सुधा और नारायण मूर्ति के जीवन का एक अंतरंग दृश्य प्रस्तुत करती है। जीवनी में उनके प्रारंभिक जीवन, प्रेम कहानी और इंफोसिस के संस्थापक वर्षों का विवरण दिया गया है।

पृष्ठभूमि और कहानी

मूर्ति दंपत्ति को उनके परोपकारी कार्यों और भारतीय आईटी उद्योग में महत्वपूर्ण भूमिकाओं के लिए जाना जाता है। उनकी कहानी अनोखी है, जिसका साहित्य और पढ़ने, विशेषकर कन्नडिगा लेखकों से गहरा संबंध है। इस साझा रुचि ने उनके रिश्ते में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, क्योंकि उनके पारस्परिक मित्र प्रसन्ना, जो बाद में विप्रो में मुख्य विपणन अधिकारी बने, ने उनका परिचय कराया। यह संबंध जॉर्ज माइक्स की पुस्तकों के संग्रह से शुरू हुआ, जिसने सुधा और नारायण मूर्ति को एक साथ लाया।

उनकी पहली मुलाकात सुधा मूर्ति की उम्मीदों पर खरी नहीं उतरी, क्योंकि उन्हें उम्मीद थी कि कोई फिल्म स्टार राजेश खन्ना जैसा होगा, लेकिन उनकी मुलाकात मोटे चश्मे वाले एक पतले आदमी से हुई। इसके बावजूद, उन्होंने अपने साझा साहित्यिक हितों को लेकर एक गहरा बंधन बनाया।

व्यावसायिक यात्रा और चुनौतियाँ

यह पुस्तक उनके सामने आने वाली पेशेवर चुनौतियों, विशेष रूप से इंफोसिस के निर्माण के लिए नारायण मूर्ति के समर्पण की पड़ताल करती है। इसमें नारायण मूर्ति की सुधा के साथ बिना टिकट के 11 घंटे की ट्रेन यात्रा जैसे किस्से शामिल हैं, जो उनके काम और रिश्ते दोनों के प्रति उनके समर्पण को दर्शाते हैं। जीवनी उस घटना को भी स्पर्श करती है जहां नारायण मूर्ति को एक व्यावसायिक यात्रा के दौरान एक मांगलिक ग्राहक के कारण स्टोर रूम में सोना पड़ा था, जिसमें उनके शुरुआती पेशेवर वर्षों में किए गए संघर्षों पर प्रकाश डाला गया है।

इंफोसिस में सुधा मूर्ति की भूमिका

प्रारंभ में, नारायण मूर्ति इंफोसिस में सुधा को शामिल करने से झिझक रहे थे, उन्हें डर था कि इसे पति-पत्नी की कंपनी माना जा सकता है। हालाँकि, बाद में उन्होंने उनकी योग्यता और योगदान को स्वीकार करते हुए इसे एक गलती के रूप में स्वीकार किया।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

Q1. “एन अनकॉमन लव: द अर्ली लाइफ ऑफ सुधा एंड नारायण मूर्ति” किसने लिखी है?
Q2. इन्फोसिस के निर्माण के प्रति नारायण मूर्ति के समर्पण के संबंध में पुस्तक में किन चुनौतियों का पता लगाया गया है?

कृपया अपनी प्रतिक्रियाएँ टिप्पणी अनुभाग में साझा करें।

चित्रा बनर्जी दिवाकरुनी द्वारा लिखी गई "एन अनकॉमन लव: द अर्ली लाइफ ऑफ सुधा एंड नारायण मूर्ति" का विमोचन |_40.1

FAQs

चिनाब व्हाइट वाटर राफ्टिंग महोत्सव (Chenab White Water Rafting Festival) की शुरुआत इनमें से किस स्थान पर की गयी?

चिनाब व्हाइट वाटर राफ्टिंग महोत्सव (Chenab White Water Rafting Festival) की शुरुआत जम्मू कश्मीर में की गयी।