gdfgerwgt34t24tfdv
Home   »   वैश्विक ऊर्जा संक्रमण सूचकांक में स्वीडन...

वैश्विक ऊर्जा संक्रमण सूचकांक में स्वीडन शीर्ष पर, भारत 63वें स्थान पर: WEF

वैश्विक ऊर्जा संक्रमण सूचकांक में स्वीडन शीर्ष पर, भारत 63वें स्थान पर: WEF |_3.1

विश्व आर्थिक मंच (डब्ल्यूईएफ) द्वारा 19 जून 2024 को जारी वैश्विक ऊर्जा बदलाव सूचकांक में भारत दुनिया में 63वें स्थान पर है। डब्ल्यूईएफ ने कहा है कि भारत ने ऊर्जा समानता, सुरक्षा और स्थिरता के मामले में उल्लेखनीय सुधार दर्ज किया है। पिछले साल भारत 67वें स्थान पर था।डबल्यूई के अनुसार, भारत ने ऊर्जा इक्विटी, सुरक्षा और स्थिरता में काफी सुधार दिखाया है। स्वीडन पिछले साल की तरह इस बार भी इस सूचकांक में शीर्ष पर है।

इस सूचकांक में यूरोपीय देशों का दबदबा है। स्वीडन सूचकांक में शीर्ष पर है। इसके बाद डेनमार्क, फिनलैंड, स्विटजरलैंड और फ्रांस शीर्ष पांच देशों में शामिल हैं। चीन का स्थान 20वां है।

वैश्विक ऊर्जा संक्रमण सूचकांक कौन तैयार करता है?

वैश्विक ऊर्जा संक्रमण सूचकांक ,डबल्यूईएफ़ द्वारा अपनी वार्षिक रिपोर्ट ‘फोस्टरिंग इफेक्टिव एनर्जी ट्रांजिशन’ में प्रकाशित किया गया है। वार्षिक रिपोर्ट डबल्यूईएफ़ द्वारा एक्सेंचर के सहयोग से प्रकाशित की जाती है।

वैश्विक ऊर्जा संक्रमण सूचकांक क्या है?

डबल्यूईएफ़ वैश्विक ऊर्जा संक्रमण सूचकांक एक न्यायसंगत, सुरक्षित और टिकाऊ ऊर्जा भविष्य के निर्माण के लिए दुनिया भर में चयनित देशों की प्रगति और तैयारियों को ट्रैक करता है।

सरल शब्दों में, यह ऊर्जा उत्पादन के कारण कार्बन डाइऑक्साइड गैसों के उत्पादन में कमी को प्रोत्साहित करने, गैर-जीवाश्म-आधारित बिजली (जैसे सौर, पवन, छोटे पनबिजली संयंत्र, आदि) संयंत्रों को प्रोत्साहित करने तथा समग्र ऊर्जा तीव्रता में कमी लाने के लिए सरकारी नीतियों और उनकी प्रभावशीलता को ट्रैक करता है।

ऊर्जा तीव्रता से तात्पर्य किसी दिए गए आउटपुट या गतिविधि को उत्पन्न करने के लिए आवश्यक ऊर्जा की मात्रा से है। कम ऊर्जा तीव्रता का मतलब है कि किसी दिए गए आउटपुट या गतिविधि को उत्पन्न करने के लिए कम ऊर्जा की आवश्यकता होती है। कम ऊर्जा तीव्रता में वृद्धि का मतलब है कि देश अपनी ऊर्जा का अधिक कुशलता से उपयोग कर रहा है, जिसका पर्यावरण पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा।

2024 वैश्विक ऊर्जा संक्रमण सूचकांक

2024 वैश्विक ऊर्जा संक्रमण सूचकांक के शीर्ष रैंक में हमेशा की तरह यूरोपीय देशों का दबदबा रहा । सूचकांक में स्वीडन शीर्ष पर है, उसके बाद डेनमार्क, फिनलैंड, स्विट्जरलैंड और फ्रांस हैं। भारत को 63वां स्थान दिया गया है, जबकि चीन को 20वां स्थान दिया गया है। डबल्यूईएफ़ के अनुसार, 120 देशों में से 107 देशों ने पिछले दशक में अपनी ऊर्जा परिवर्तन यात्रा में प्रगति प्रदर्शित की है। हालाँकि, आर्थिक अस्थिरता, बढ़ते भू-राजनीतिक तनाव और तकनीकी बदलाव के कारण ऊर्जा संक्रमण की गति धीमी हो गई है।

डब्ल्यूईएफ की रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत और चीन, जिनकी आबादी, वैश्विक आबादी की लगभग एक-तिहाई है, वैश्विक ऊर्जा परिवर्तन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे। विश्व आर्थिक मंच (डब्ल्यूईएफ) ने सौर ऊर्जा जैसे गैर-जीवाश्म-आधारित ऊर्जा स्रोतों को प्रोत्साहित करने के लिए भारत सरकार द्वारा की गई पहल की सराहना की। डबल्यूईएफ़ को लगता है कि भारत की सफलता को दुनिया के अन्य हिस्सों में भी दोहराया जा सकता है।

विश्व आर्थिक मंच (डबल्यूईएफ़ )

जर्मन अर्थशास्त्री क्लॉस श्वाब ने वैश्विक मुद्दों के सामान्य समाधान खोजने के लिए वैश्विक समाज के सभी हितधारकों के बीच सहयोग को बढ़ावा देने के लिए एक मंच प्रदान करने के लिए एक गैर-लाभकारी अंतरराष्ट्रीय संगठन के रूप में 1971 में विश्व आर्थिक मंच की स्थापना की।

FAQs

ऊर्जा का प्राथमिक स्रोत क्या है?

सूर्य ऊर्जा का प्राथमिक स्रोत है।