Home   »   केंद्र सरकार ने सूरत को अंतरराष्ट्रीय...

केंद्र सरकार ने सूरत को अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट घोषित किया

केंद्र सरकार ने सूरत को अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट घोषित किया |_30.1

केंद्र सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए गुजरात के सूरत हवाई अड्डे को अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा घोषित कर दिया है। नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने अधिसूचना जारी करते हुए इस बात की जानकारी दी है। इस तरह से गुजरात को अपना तीसरा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा मिल गया है।

राजधानी दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक में सूरत एयरपोर्ट को अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का दर्जा देने के प्रस्ताव को मंजूरी मिली थी। सूरत अपने हीरे के कारोबार के लिए पूरे विश्व में विख्यात है। ऐसे में सरकार के इस फैसले से सूरत के द्योगपतियों और हीरा व्यापारियों को काफी फायदा होगा।

 

गुजरात में अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा

गुजरात में इससे पहले सरदार वल्लभभाई पटेल इंटरनेशनल एयरपोर्ट (अहमदाबाद) और राजकोट इंटरनेशनल एयरपोर्ट अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे थे।

 

यात्री यातायात और कार्गो संचालन

अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे के रूप में नामित होने से यात्री यातायात और कार्गो परिचालन दोनों में उल्लेखनीय वृद्धि होने, क्षेत्रीय विकास और वैश्वीकरण प्रयासों को बढ़ावा मिलने की उम्मीद है। सुव्यवस्थित आयात-निर्यात संचालन के साथ, सूरत हवाई अड्डा अंतर्राष्ट्रीय व्यापार को सुविधाजनक बनाने में एक महत्वपूर्ण खिलाड़ी बनने की ओर अग्रसर है।

 

बुनियादी ढांचे का उन्नयन और स्थिरता के उपाय

अपनी नई स्थिति के अनुरूप, सूरत हवाई अड्डे में बुनियादी ढांचे का पर्याप्त उन्नयन किया गया है, जिसमें प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा आधुनिक घरेलू टर्मिनल का उद्घाटन भी शामिल है। स्थिरता को ध्यान में रखकर निर्मित इस टर्मिनल में ऊर्जा-कुशल छत प्रणाली, वर्षा जल संचयन और सौर ऊर्जा उपयोग जैसे पर्यावरण-अनुकूल तत्व शामिल हैं। ये पहल न केवल पर्यावरणीय प्रभाव को कम करती हैं बल्कि हवाई अड्डे की लचीलापन और दक्षता में भी योगदान देती हैं।

 

सूरत हवाई अड्डे का आरोहण

सूरत हवाई अड्डे को अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे का दर्जा दिया जाना शहर की आर्थिक समृद्धि और वैश्विक प्रमुखता की यात्रा में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर दर्शाता है। स्थिरता, उन्नत बुनियादी ढांचे और बढ़ी हुई कनेक्टिविटी पर ध्यान देने के साथ, सूरत क्षेत्रीय विकास और अंतर्राष्ट्रीय व्यापार में एक प्रमुख खिलाड़ी के रूप में उभरने के लिए तैयार है।

 

FAQs

भारत का सबसे छोटा जिला कौन सा है?

भारत का सबसे छोटा जिला पुड्डुचेरी का माहे जिला है।