Home   »   अमोनिया रिसाव के लिए कोरोमंडल इंटरनेशनल...

अमोनिया रिसाव के लिए कोरोमंडल इंटरनेशनल लिमिटेड उर्वरक संयंत्र पर 6 करोड़ रुपये का जुर्माना

अमोनिया रिसाव के लिए कोरोमंडल इंटरनेशनल लिमिटेड उर्वरक संयंत्र पर 6 करोड़ रुपये का जुर्माना |_30.1

एन्नोर में कोरोमंडल इंटरनेशनल लिमिटेड उर्वरक संयंत्र से अमोनिया गैस रिसाव के बाद पर्यावरण, जलवायु परिवर्तन और वन विभाग ने कंपनी पर 5.92 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है।

तमिलनाडु के एन्नोर में कोरोमंडल इंटरनेशनल लिमिटेड के स्वामित्व वाले उर्वरक संयंत्र से अमोनिया गैस रिसाव के चालीस दिन बाद, पर्यावरण, जलवायु परिवर्तन और वन विभाग ने कंपनी के खिलाफ निर्णायक कार्रवाई की है।

5.92 करोड़ रुपये का जुर्माना

विभाग ने गैस रिसाव घटना में भूमिका के लिए कोरोमंडल इंटरनेशनल लिमिटेड पर 5.92 करोड़ रुपये का महत्वपूर्ण जुर्माना लगाया है। यह उस गंभीरता को दर्शाता है जिसके साथ अधिकारी पर्यावरणीय खतरों को संबोधित कर रहे हैं।

कानूनी कार्रवाई

जुर्माने के अलावा एयर एक्ट के तहत अनिवार्य शर्तों का उल्लंघन करने पर कंपनी के खिलाफ कानूनी कार्रवाई भी की जा रही है।

संयंत्र अस्थायी रूप बंद

अमोनिया रिसाव के जवाब में, सरकार के आदेश के अनुसार, संयंत्र को अस्थायी रूप से बंद कर दिया गया है। इस उपाय का उद्देश्य निवासियों की सुरक्षा सुनिश्चित करना और आगे की घटनाओं को रोकना है।

पर्यावरणीय मुआवज़ा और कानूनी कदम

पर्यावरण, जलवायु परिवर्तन और वन विभाग ने तमिलनाडु प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (टीएनपीसीबी) को पर्यावरणीय मुआवजा इकट्ठा करने और नियमों का अनुपालन न करने के लिए कंपनी के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश दिया है।

तकनीकी समिति के निष्कर्ष

एक तकनीकी समिति ने घटना की जांच की और पाया कि रिसाव समुद्र के नीचे की पाइपलाइन से उत्पन्न हुआ था, जो चक्रवात मिचौंग के दौरान क्षतिग्रस्त हो गई थी। यह खतरनाक वातावरण में मजबूत बुनियादी ढांचे की आवश्यकता को रेखांकित करता है।

रोकथाम के लिए सिफ़ारिशें

समिति क्षतिग्रस्त पाइपलाइन को अत्याधुनिक प्रणाली से बदलने और उन्नत सुरक्षा उपायों को लागू करने की सिफारिश करती है। भविष्य में होने वाली दुर्घटनाओं को रोकने के लिए पाइपलाइन को सुरक्षित करना और नियमित निरीक्षण करना आवश्यक है।

सुरक्षा उपाय और सरकारी कार्रवाई

सरकार ने समिति की सिफारिशों को स्वीकार कर लिया है और तत्काल कार्यान्वयन का निर्देश दिया है। जोखिमों को कम करने के लिए सुरक्षा उपकरण स्थापना और आवधिक परीक्षण अनिवार्य हैं।

मुआवज़ा और सामुदायिक प्रतिक्रिया

राज्य सरकार एन्नोर रेजिडेंट्स प्रोटेक्शन ग्रुप द्वारा उठाई गई चिंताओं को स्वीकार करते हुए प्रभावित निवासियों के लिए मुआवजे पर कार्य कर रही है। उनका निरंतर विरोध पर्यावरण मामलों में सामुदायिक भागीदारी के महत्व पर प्रकाश डालता है।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

1. एन्नोर में अमोनिया गैस रिसाव का कारण क्या था?

2. गैस रिसाव के लिए जिम्मेदार उर्वरक संयंत्र का मालिक कौन है?

कृपया अपने उत्तर कमेंट करें!!!

 

अमोनिया रिसाव के लिए कोरोमंडल इंटरनेशनल लिमिटेड उर्वरक संयंत्र पर 6 करोड़ रुपये का जुर्माना |_40.1

FAQs

उच्च शिक्षा और अखिल भारतीय सर्वेक्षण 2021-22 के अनुसार सबसे ज्यादा कॉलेज किस राज्य में हैं?

उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा कॉलेज हैं।