Home   »   श्रीलंका ब्रेस्ट फीडिंग नीतियों और कार्यक्रमों...

श्रीलंका ब्रेस्ट फीडिंग नीतियों और कार्यक्रमों में सर्वश्रेष्ट प्रदर्शन करने वाला देश: WBTi

श्रीलंका ब्रेस्ट फीडिंग नीतियों और कार्यक्रमों में सर्वश्रेष्ट प्रदर्शन करने वाला देश: WBTi |_50.1
World Breastfeeding Trends Initiative: हाल ही में वर्ल्ड ब्रेस्टफीडिंग ट्रेंड्स इनिशिएटिव द्वारा किए गए नए सर्वेक्षण में श्रीलंका ने शीर्ष स्थान हासिल किया है। ये सर्वेक्षण “स्तनपान समर्थित नीतियों और कार्यक्रमों” (Breast Feeding support Policies and Programs) पर आयोजित किया गया था। श्रीलंका को विश्व स्तर पर 97 देशों की सूची में सबसे ऊपर रखा गया है। श्रीलंका द्वारा 100 में से 91 अंक हासिल करने के लिए इससे हरा कोड (green color code) दिया गया है। श्रीलंका हरे रंग का कोड प्राप्त करने के साथ ही  स्तनपान कराने वाली महिलाओं का समर्थन करने में “ग्रीन” राष्ट्र का दर्जा हासिल करने वाला पहला देश बन गया है। 2019 के रिकॉर्ड के अनुसार, श्रीलंका ने 10 संकेतकों में से 7 को हासिल कर हरा कोड प्राप्त किया हैं, जिसमे दो नीले और एक पीला कोड संकेतक शामिल है।
वर्ल्ड ब्रेस्टफीडिंग ट्रेंड्स इनिशिएटिव (WBTi):

World Breastfeeding Trends Initiative: विश्व स्तनपान पहल रुझान जिसे भारत के स्तनपान संवर्धन नेटवर्क के विशेषज्ञों द्वारा विकसित किया गया था। इसकी स्थापना के बाद इसके साथ 120 देश जुड़े हैं, जिनमें से 97 देशों ने अपने आकलन पूरे कर लिए हैं। WBTi रंग-कोड देने के लिए देशों के प्रदर्शन को रैंकिंग देने के लिए नीतियों और कार्यक्रमों के लिए 10 संकेतकों का उपयोग करता है। 10 संकेतकों के आधार पर देशों के प्रदर्शन को दिए जाने वाले रंग कोड का क्रम इस प्रकार हैं – लाल, पीला, नीला और हरा है। हरा रंग सबसे बेहतर और लाल रंग सबसे खराब प्रदर्शन को दर्शाता है।
द वर्ल्ड ब्रेस्टफीडिंग ट्रेंड्स इनिशिएटिव (WBTi) द्वारा कहा गया कि माताओं और शिशुओं के स्वास्थ्य और पोषण के प्रति श्रीलंका की उच्च स्तरीय प्रतिबद्धता के कारण इसे शीर्ष स्थान पर रखा गया है।

उपरोक्त समाचार से सभी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण तथ्य-

  • श्रीलंका की मुद्रा: श्रीलंकन का रुपया
  • प्रधान मंत्री: महिंदा राजपक्षे
Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *