Home   »   श्रीजा अकुला को डब्ल्यूटीटी फीडर कॉर्पस...

श्रीजा अकुला को डब्ल्यूटीटी फीडर कॉर्पस क्रिस्टी 2024 में पहला वैश्विक टेबल टेनिस खिताब

श्रीजा अकुला को डब्ल्यूटीटी फीडर कॉर्पस क्रिस्टी 2024 में पहला वैश्विक टेबल टेनिस खिताब_3.1

भारतीय टेबल टेनिस खिलाड़ी श्रीजा अकुला, अमेरिका के टेक्सास में डब्ल्यूटीटी फीडर कॉर्पस क्रिस्टी 2024 में अपना पहला अंतरराष्ट्रीय खिताब जीतकर अपने करियर में एक महत्वपूर्ण बिंदु पर पहुंच गईं।

भारतीय टेबल टेनिस खिलाड़ी श्रीजा अकुला ने अमेरिका के टेक्सास में डब्ल्यूटीटी फीडर कॉर्पस क्रिस्टी 2024 में अपना पहला अंतरराष्ट्रीय खिताब हासिल करके अपने करियर में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि हासिल की। 25 वर्षीय एथलीट ने महिला एकल स्पर्धा में असाधारण कौशल और दृढ़ संकल्प का प्रदर्शन किया, जिसकी परिणति एक उल्लेखनीय जीत में हुई।

फ़ाइनल में प्रभावशाली प्रदर्शन

श्रीजा अकुला को फाइनल में एक मजबूत प्रतिद्वंद्वी का सामना करना पड़ा, जहां उन्हें तीन बार की ओलंपियन, दुनिया की 46वें नंबर की यूएसए की लिली झांग से हार का सामना करना पड़ा। श्रीजा ने अपने कौशल का शानदार प्रदर्शन करते हुए लिली झांग को 3-0 (11-6, 18-16, 11-5) से हराकर पोडियम पर शीर्ष स्थान हासिल किया। फाइनल 30 मिनट से कुछ अधिक समय तक चला, जिससे खेल पर श्रीजा की पकड़ का प्रदर्शन हुआ।

विजय पर श्रीजा का प्रतिबिंब

अपनी खुशी और संतुष्टि व्यक्त करते हुए, श्रीजा ने टिप्पणी की, “मैं बेहद खुश हूं, और मेरे प्रयासों ने मुझे वहां पहुंचाया जहां मैं होना चाहती थी।” मिश्रित युगल में मौजूदा राष्ट्रमंडल खेलों के चैंपियनों में से एक के रूप में, उन्होंने अपने पहले अंतरराष्ट्रीय खिताब के रूप में इस जीत के महत्व पर जोर दिया। श्रीजा ने क्वार्टर फाइनल और सेमीफाइनल में अपने सामने आने वाली चुनौतियों को स्वीकार किया लेकिन उच्च रैंकिंग वाले खिलाड़ियों पर काबू पाने में अपनी लचीलापन पर प्रकाश डाला।

विजय का मार्ग: उच्च रैंक वाले विरोधियों पर विजय प्राप्त करना

चैंपियनशिप तक श्रीजा की यात्रा में उच्च रैंकिंग वाले विरोधियों पर उल्लेखनीय जीत शामिल थी। सेमीफाइनल में, उन्होंने यूएसए की जियांगशान गुओ को 3-2 के करीबी स्कोर (9-11, 11-5, 11-6, 10-12, 11-9) से हराया। क्वार्टर फाइनल में एक और प्रभावशाली प्रदर्शन देखने को मिला जब श्रीजा ने 37वें स्थान पर रहीं शीर्ष वरीयता प्राप्त यूएसए की एमी वांग को 3-2 स्कोरलाइन (11-9, 9-11, 11-1, 6-11, 11-9) से हराया।

टूर्नामेंट में पहले की जीत

अंतिम चरण में पहुंचने से पहले, श्रीजा ने 16वें राउंड में दुनिया की 122वें नंबर की खिलाड़ी फ्रांस की स्टेफ़नी ओउलेट को 3-0 से और 32वें राउंड में यूएसए की याओ तांग को 3-0 से हराकर अपने कौशल का प्रदर्शन किया। पूरे टूर्नामेंट के दौरान, इन जीतों ने उनकी निरंतरता और दृढ़ संकल्प को रेखांकित किया।

डब्ल्यूटीटी फीडर कॉर्पस क्रिस्टी 2024 में भारतीय दल

जहां श्रीजा अकुला ने अपनी शान बढ़ाई, वहीं भारतीय खिलाड़ी मानव ठक्कर और हरमीत देसाई ने भी टूर्नामेंट में हिस्सा लिया। ठक्कर पुरुष एकल सेमीफाइनल में पहुंचे, जबकि देसाई क्वार्टर में पहुंचे। खिताब न जीतने के बावजूद, उनकी उपस्थिति ने अंतरराष्ट्रीय टेबल टेनिस परिदृश्य में भारत की बढ़ती प्रमुखता को दर्शाया।

डब्ल्यूटीटी फीडर श्रृंखला को समझना

डब्ल्यूटीटी फीडर सीरीज निचले स्तर के और जमीनी स्तर के खिलाड़ियों के लिए अंतरराष्ट्रीय मंच पर नियमित रूप से प्रतिस्पर्धा करने के लिए एक महत्वपूर्ण मंच के रूप में कार्य करती है। कंटेंडर, चैंपियंस, ग्रैंड स्मैश और कप फ़ाइनल इवेंट के नीचे स्थित, यह श्रृंखला उभरती प्रतिभाओं के लिए मूल्यवान प्रदर्शन और अवसर प्रदान करती है। डब्ल्यूटीटी फीडर कॉर्पस क्रिस्टी 2024 में श्रीजा अकुला की जीत टेबल टेनिस प्रतिभा के पोषण और प्रदर्शन में ऐसे प्लेटफार्मों के महत्व पर प्रकाश डालती है।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

1. डब्ल्यूटीटी फीडर कॉर्पस क्रिस्टी 2024 में श्रीजा अकुला ने फाइनल में किसे हराकर अपना पहला अंतरराष्ट्रीय खिताब सुरक्षित किया?

2. नवीनतम जानकारी के अनुसार श्रीजा अकुला महिला एकल में किस रैंक पर हैं?

कृपया अपनी प्रतिक्रियाएँ टिप्पणी अनुभाग में साझा करें!!

 

श्रीजा अकुला को डब्ल्यूटीटी फीडर कॉर्पस क्रिस्टी 2024 में पहला वैश्विक टेबल टेनिस खिताब_4.1

FAQs

योजना आयोग का अध्यक्ष कौन होता है?

योजना आयोग का अध्यक्ष प्रधानमंत्री होता है।

TOPICS: