Home   »   स्पेस-टेक स्टार्टअप अग्निकुल करेगा 3डी-प्रिंटेड इंजन...

स्पेस-टेक स्टार्टअप अग्निकुल करेगा 3डी-प्रिंटेड इंजन का फ्लाइट टेस्ट

स्पेस-टेक स्टार्टअप अग्निकुल करेगा 3डी-प्रिंटेड इंजन का फ्लाइट टेस्ट |_30.1

चेन्नई स्थित स्टार्टअप अग्निकुल अपने अभूतपूर्व रॉकेट अग्निबाण को लॉन्च करने की तैयारी कर रहा है, जिसमें दुनिया का पहला 3डी-प्रिंटेड इंजन होगा।

चेन्नई स्थित स्टार्टअप अग्निकुल अपने अभूतपूर्व रॉकेट अग्निबाण को लॉन्च करने की तैयारी कर रहा है, जिसमें दुनिया का पहला 3डी-प्रिंटेड इंजन होगा। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, मद्रास में स्थापित कंपनी, इस वर्ष के अंत तक एक प्रौद्योगिकी प्रदर्शक मिशन का संचालन करने के लिए तैयार है, जो 2024 में अपने पहले व्यावसायिक लॉन्च का मार्ग प्रशस्त करेगी।

नवोन्वेषी प्रौद्योगिकी

अग्निबाण अग्रणी अग्निलेट इंजन का दावा करता है, जो एक सिंगल-पीस 3डी-प्रिंटेड चमत्कार है, जिसे पूर्णतः भारत में डिजाइन और निर्मित किया गया है। 2021 की शुरुआत में सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया यह इंजन देश के लिए 3डी प्रिंटिंग तकनीक में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है। पारंपरिक साउंडिंग रॉकेटों के विपरीत, अग्निबाण एक उच्च अनुकूलन योग्य, एकल-चरण प्रक्षेपण यान है जो 300 किलोग्राम तक के पेलोड को लगभग 700 किमी ऊंची (पृथ्वी की निचली कक्षाओं) कक्षाओं में ले जाने में सक्षम है।

अग्निबाण की विशिष्ट विशेषताएं

  • ऊर्ध्वाधर लिफ्टऑफ और सटीक प्रक्षेपवक्र: उड़ान के दौरान सटीक रूप से व्यवस्थित युद्धाभ्यास के साथ ऊर्ध्वाधर लिफ्टऑफ और एक पूर्व निर्धारित प्रक्षेपवक्र को नियोजित करके, अग्निबाण अपने पूर्ववर्ती, विक्रम एस से स्वयं को अलग करता है। यह दृष्टिकोण प्रक्षेपण यान की दक्षता और अनुकूलन क्षमता को बढ़ाता है।
  • अनुकूलन योग्य लॉन्च वाहन: अग्निकुल की पेशकश अनुकूलन योग्य लॉन्च वाहन प्रदान करके उद्योग में अलग है। पारंपरिक निश्चित क्षमता वाले प्रक्षेपण वाहनों के विपरीत, अग्निबाण को विशिष्ट पेलोड आकार या उपग्रह आयामों के लिए कॉन्फ़िगर किया जा सकता है। यह लचीलापन विभिन्न प्रकार की उपग्रह आवश्यकताओं को पूरा करता है।
  • तरल प्रणोदक प्रणाली: अग्निबाण पारंपरिक ठोस प्रणोदक की तुलना में पुन: प्रयोज्य और सुरक्षा के मामले में लाभ प्रदान करते हुए, तरल प्रणोदक का उपयोग करता है। तरल प्रणोदक का उपयोग प्रक्षेपण यान की समग्र दक्षता और स्थिरता को बढ़ाता है।

लॉन्च की तैयारी और इसरो के साथ सहयोग

अग्निकुल के सीईओ, श्रीनाथ रविचंद्रन ने आईआईटी-मद्रास परिसर में अंतिम परीक्षण पूरा होने तक, आसन्न लॉन्च पर विश्वास व्यक्त किया। कंपनी ने श्रीहरिकोटा में सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र में स्थित लॉन्च पैड पर एक निर्बाध एकीकरण प्रक्रिया सुनिश्चित करते हुए, समीक्षाओं के लिए भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के साथ मिलकर कार्य किया है।

वाणिज्यिक संभावनाएँ और लक्षित पेलोड

अग्निकुल का लक्ष्य स्काईरूट एयरोस्पेस के बाद स्वयं को छोटे उपग्रह प्रक्षेपण वाहनों में विशेषज्ञता वाली भारत की दूसरी निजी कंपनी के रूप में स्थापित करना है। कंपनी के लक्षित ग्राहकों में संचार और इमेजिंग उद्देश्यों के लिए छोटे उपग्रह बनाने वाली संस्थाएँ शामिल हैं। अग्निबाण की अनुकूलन योग्य प्रकृति इसे विभिन्न प्रकार के पेलोड के लिए एक आकर्षक विकल्प बनाती है।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

Q1. अग्निकुल का आगामी रॉकेट अग्निबाण किस लिए जाना जाता है?

Sol. अग्निबाण में दुनिया का पहला 3डी-प्रिंटेड इंजन, अग्निलेट शामिल है, जो भारतीय 3डी प्रिंटिंग तकनीक में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है।

Q2. अग्निकुल अग्निबाण के लिए अपने प्रौद्योगिकी प्रदर्शक मिशन की योजना कब बना रहा है?

Sol. अग्निबाण ने इस वर्ष के अंत तक एक प्रौद्योगिकी प्रदर्शक मिशन संचालित करने की योजना बनाई है।

Q3. अग्निबाण की एकीकृत प्रक्रिया के लिए अग्निकुल ने किसके साथ सहयोग किया है?

Sol. अग्निकुल ने सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र में समीक्षा और एकीकरण के लिए भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के साथ निकटता से सहयोग किया है।

Q4. अग्निबाण के व्यावसायिक लॉन्च की समयसीमा क्या है?

Sol. अग्निबाण का पहला व्यावसायिक लॉन्च 2024 के लिए निर्धारित है।

More Sci-Tech News Here

स्पेस-टेक स्टार्टअप अग्निकुल करेगा 3डी-प्रिंटेड इंजन का फ्लाइट टेस्ट |_40.1

 

FAQs

सैन्य साहित्य महोत्सव का आगामी संस्करण अमृतसर में कब आयोजित होने वाला है?

यह महोत्सव 2024 की शुरुआत में आयोजित होने वाला है।