gdfgerwgt34t24tfdv
Home   »   स्मार्ट सिटी मिशन मार्च 2025 तक...

स्मार्ट सिटी मिशन मार्च 2025 तक बढ़ाया गया

भारत सरकार ने केंद्र प्रायोजित स्मार्ट सिटीज़ मिशन को 31 मार्च 2025 तक बढ़ा दिया है। यह योजना मूल रूप से 30 जून 2024 को समाप्त होनी थी। राज्य सरकारों के अनुरोध पर केंद्र सरकार द्वारा इस योजना का विस्तार किया गया था। लेकिन अब कोई भी नई परियोजना स्वीकृत नहीं की जाएगी और मौजूदा स्वीकृत परियोजनाओं को प्राथमिकता के आधार पर पूरा किया जाएगा।

स्मार्ट सिटी मिशन के बारे में

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 25 जून 2015 को स्मार्ट सिटीज मिशन का शुरुआत किया था। इस योजना का लक्ष्य ‘स्मार्ट समाधान’ के माध्यम से अपने नागरिकों को मुख्य बुनियादी ढांचा, स्वच्छ और टिकाऊ वातावरण और जीवन की सभ्य गुणवत्ता प्रदान करना है।
  • दो चरणों की प्रतियोगिता में देश भर के 100 शहरों का चयन किया गया था। केंद्रीय आवास और शहरी मामलों का मंत्रालय स्मार्ट सिटी मिशन के लिए नोडल निकाय है। स्मार्ट सिटी मिशन के तहत उत्तर प्रदेश में सबसे अधिक 13 शहर हैं, इसके बाद तमिलनाडु के 12 और महाराष्ट्र के 10 शहर हैं।

स्मार्ट सिटी मिशन का फंडिंग पैटर्न

स्मार्ट सिटी मिशन एक केंद्र प्रायोजित योजना है। केंद्र सरकार की प्रतिबद्धता पांच साल की अवधि में 48,000 करोड़ रुपये प्रदान है, जो प्रति वर्ष प्रति शहर औसतन 100 करोड़ रुपये है। इस मिशन के तहत राज्य सरकार और शहरी स्थानीय निकायों को समान योगदान करना है। मिशन के तहत परियोजनाओं को वित्तपोषित करने के लिए राज्य सरकार और शहरी स्थानीय निकायों द्वारा अतिरिक्त धन जुटाया जाना था।

परियोजनाएं संबंधित शहरी स्थानीय निकायों द्वारा बनाए गए विशेष प्रयोजन वाहनों द्वारा कार्यान्वित की जाती हैं। स्मार्ट सिटी मिशन के तहत परियोजनाओं को निजी-सार्वजनिक भागीदारी (पीपीपी) के माध्यम से विकसित किया जा रहा है।

स्मार्ट सिटी मिशन को क्यों बढ़ाया गया है?

भारत सरकार के अनुसार, 3 जुलाई 2024 तक 100 शहरों में 7188 परियोजनाएँ पूरी हो चुकी हैं, जिनकी लागत 1,44,237 करोड़ रुपये है। 19,926 करोड़ रुपये की शेष 830 परियोजनाएं भी पूरी होने के अंतिम चरण में हैं और विभिन्न कारकों के कारण इसमें देरी हुई है। 3 जुलाई 2024 तक, भारत सरकार ने योजना के लिए अपने हिस्से के आवंटित 48,000 करोड़ रुपये में से 46,585 करोड़ रुपये जारी कर दिए हैं। शेष राशि राज्य सरकार को जारी की जाएगी ताकि वे चल रही परियोजनाओं को समय पर पूरा कर सकें। किसी भी नई परियोजना को वित्त पोषित नहीं किया जाएगा और राज्य सरकार को 31 मार्च 2025 तक काम पूरा करना होगा।

 

FAQs

स्मार्ट सिटी मिशन का उद्देश्य क्या है?

स्मार्ट सिटी मिशन के दृष्टिकोण में, उद्देश्य ऐसे शहरों को बढ़ावा देने का है जो मूल बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध कराएँ और अपने नागरिकों को एक सभ्य गुणवत्तापूर्ण जीवन प्रदान करे, एक स्वच्छ और टिकाऊ पर्यावरण एवं 'स्मार्ट' समाधानों के प्रयोग का मौका दें।