Home   »   आईपीएस अधिकारी शील वर्धन सिंह बने...

आईपीएस अधिकारी शील वर्धन सिंह बने यूपीएससी के सदस्य

आईपीएस अधिकारी शील वर्धन सिंह बने यूपीएससी के सदस्य |_30.1

केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) के पूर्व महानिदेशक शील वर्धन सिंह को यूपीएससी के सदस्य के रूप में नियुक्त किया गया है, जो उनके विशिष्ट करियर में एक महत्वपूर्ण कदम है।

एक महत्वपूर्ण घटनाक्रम में, केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) के पूर्व महानिदेशक शील वर्धन सिंह को संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) के सदस्य के रूप में नियुक्त किया गया है। यह निर्णय कार्मिक मंत्रालय के आदेश के माध्यम से सूचित किया गया, जो सिंह के विशिष्ट करियर में एक उल्लेखनीय उपलब्धि है।

सीआईएसएफ में दूरदर्शी नेतृत्व

नवंबर 2021 से दिसंबर 2023 तक सीआईएसएफ के महानिदेशक के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान, सिंह ने दूरदर्शी नेतृत्व प्रदान करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई जिसने महत्वपूर्ण औद्योगिक क्षेत्र में सुरक्षा उपायों को बढ़ाया। उनके रणनीतिक कौशल और देश के सुरक्षा ढांचे को मजबूत करने की प्रतिबद्धता ने उन्हें संगठन के भीतर पहचान और सम्मान दिलाया।

यूपीएससी की भूमिका और जिम्मेदारियाँ

यूपीएससी, एक अध्यक्ष की अध्यक्षता में, सिविल सेवा परीक्षा आयोजित करने के लिए जिम्मेदार है, यह एक कठोर प्रक्रिया है जो देश में प्रमुख प्रशासनिक और नेतृत्व भूमिकाओं के लिए व्यक्तियों का चयन करती है। आयोग में अधिकतम 10 सदस्य हो सकते हैं, प्रत्येक को छह साल की अवधि के लिए या 65 वर्ष की आयु प्राप्त करने तक नियुक्त किया जा सकता है।

रिक्तियाँ और सिंह की नियुक्ति

सिंह की नियुक्ति के बाद, यूपीएससी में सदस्यों के लिए अभी भी तीन रिक्तियां हैं, जिससे संभावित भविष्य की नियुक्तियों का मार्ग प्रशस्त हो गया है। यह शीर्ष स्तरीय सिविल सेवकों के चयन के महत्वपूर्ण कार्य की देखरेख के लिए व्यक्तियों के एक विविध और अनुभवी पैनल को सुनिश्चित करने के लिए चल रहे प्रयासों को रेखांकित करता है।

शील वर्धन सिंह का प्रतिष्ठित करियर

शील वर्धन सिंह अपनी नई भूमिका में 37 वर्षों की विशिष्ट सेवा के साथ, अनुभव का खजाना लेकर आए हैं। एक अनुभवी खुफिया विशेषज्ञ के रूप में प्रसिद्ध, सिंह वैश्विक और आंतरिक सुरक्षा दोनों परिदृश्यों में अपनी रणनीतिक सोच और विशेषज्ञता के लिए जाने जाते हैं। उन्होंने उच्चतम स्तर पर खुफिया जानकारी एकत्र करने, विश्लेषण और नीति निर्माण के माध्यम से राष्ट्रीय सुरक्षा में सक्रिय योगदान दिया है।

अंतर्राष्ट्रीय योगदान और मान्यताएँ

सिंह का योगदान राष्ट्रीय सीमाओं से परे है, क्योंकि उन्होंने ढाका में भारतीय उच्चायोग में अपनी पोस्टिंग के दौरान भारत की अंतर्राष्ट्रीय सुरक्षा स्थिति को मजबूत करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। उनके समर्पण और उत्कृष्टता को प्रतिष्ठित पुरस्कारों से मान्यता मिली है, जिसमें 2004 में सराहनीय सेवा के लिए राष्ट्रपति पुलिस पदक और 2010 में विशिष्ट सेवा के लिए राष्ट्रपति पुलिस पदक शामिल हैं।

शैक्षिक पृष्ठभूमि और बहुआयामी व्यक्तित्व

अंग्रेजी ऑनर्स में कला स्नातक, सिंह ने यूके में वेस्ट यॉर्कशायर कमांड कोर्स और भारत में नेशनल डिफेंस कॉलेज जैसे उन्नत पाठ्यक्रम अपनाए हैं। अपनी व्यावसायिक उपलब्धियों से परे, सिंह एक बहुआयामी व्यक्तित्व हैं जिनकी साहित्य और सांस्कृतिक अन्वेषण में गहरी रुचि है। उन्होंने लघुकथाओं के दो खंड लिखे हैं और टाइम्स ऑफ इंडिया में ‘स्पीकिंग ट्री’ कॉलम में नियमित रूप से योगदान देते हैं। इसके अतिरिक्त, उनका पॉडकास्ट, ‘द डायलॉग विदइन’ जीवन और जीवन पर उनके अद्वितीय दृष्टिकोण को दर्शाता है।

उत्साही खिलाड़ी और योगा प्रैक्टिशनर

अपनी पेशेवर गतिविधियों के अलावा, शील वर्धन सिंह एक उत्साही खिलाड़ी होने के साथ-साथ खेल के प्रति अपने जुनून के लिए भी जाने जाते हैं। समग्र जीवनशैली के प्रति उनका समर्पण योग के प्रति उनकी भक्ति से स्पष्ट होता है, जो शारीरिक और मानसिक कल्याण के प्रति प्रतिबद्धता दर्शाता है।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

1. यूपीएससी में नियुक्ति से पहले शील वर्धन सिंह किस पद पर थे?
A) इंटेलिजेंस ब्यूरो के महानिदेशक
B) सीआईएसएफ के महानिदेशक
C) सेनाध्यक्ष

2. दी गई जानकारी के अनुसार, यूपीएससी सदस्य की नियुक्ति कितने समय के लिए की जाती है?
A) 5 वर्ष
B) 10 वर्ष
C) 6 वर्ष या 65 वर्ष की आयु तक

3. सिंह की नियुक्ति के बाद यूपीएससी में सदस्यों की कितनी रिक्तियां मौजूद हैं?
A) 2
B) 4
C) 3

अपने ज्ञान की जाँच करें और टिप्पणी अनुभाग में प्रश्नों के उत्तर देने का प्रयास करें।

 

आईपीएस अधिकारी शील वर्धन सिंह बने यूपीएससी के सदस्य |_40.1

FAQs

नागालैंड की राजधानी का क्या नाम है?

नागालैंड की राजधानी कोहिमा है।