Home   »   सेंथिल पांडियन सी डब्ल्यूटीओ में भारत...

सेंथिल पांडियन सी डब्ल्यूटीओ में भारत के अगले राजदूत

सेंथिल पांडियन सी डब्ल्यूटीओ में भारत के अगले राजदूत |_30.1

केंद्र सरकार ने आईएएस अधिकारी सेंथिल पांडियन सी को जिनेवा में विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) के राजदूत के रूप में नामित किया है। यह नियुक्ति 31 मार्च, 2024 को डब्ल्यूटीओ में भारत के राजदूत के रूप में ब्रजेंद्र नवनीत के कार्यकाल के समापन के बाद हुई। इस निर्णय को कैबिनेट की नियुक्ति समिति (एसीसी) ने मंजूरी दे दी, जिसमें उत्तर प्रदेश कैडर के 2002 के आईएएस अधिकारी पांडियन को पद संभालने की तारीख से तीन साल के कार्यकाल के लिए जिम्मेदारी सौंपी गई।

 

राजदूत सेंथिल पांडियन सी की प्रोफ़ाइल

सेंथिल पांडियन सी वर्तमान में उत्तर प्रदेश में उत्पाद शुल्क आयुक्त के रूप में कार्यरत हैं। भारतीय नौकरशाही के भीतर प्रशासनिक भूमिकाओं में उनका व्यापक अनुभव उन्हें वैश्विक व्यापार मंच पर देश के हितों का प्रतिनिधित्व करने के लिए उपयुक्त बनाता है। कार्यभार संभालते ही, पांडियन अभूतपूर्व आर्थिक चुनौतियों और बदलती वैश्विक व्यापार गतिशीलता के समय में एक महत्वपूर्ण भूमिका में आ गए हैं।

 

वैश्विक आर्थिक परिदृश्य: मुद्रास्फीति, उच्च ब्याज दरें और भू-राजनीतिक तनाव

राजदूत पांडियन की नियुक्ति मुद्रास्फीति, उच्च ब्याज दरों और भूराजनीतिक तनाव वाले वैश्विक आर्थिक परिदृश्य की पृष्ठभूमि में हुई है। इन कारकों ने अंतर्राष्ट्रीय व्यापार के लिए एक जटिल वातावरण तैयार किया है, जिसके लिए कुशल कूटनीतिक और रणनीतिक नेविगेशन की आवश्यकता है।

 

विश्व व्यापारिक व्यापार के लिए डब्ल्यूटीओ के संशोधित अनुमान

डब्ल्यूटीओ ने हाल ही में वैश्विक आर्थिक कारकों से जुड़े माल व्यापार में लंबे समय तक मंदी का हवाला देते हुए अपने 2023 विश्व व्यापारिक व्यापार मात्रा प्रक्षेपण को अप्रैल के 1.7% के अनुमान से घटाकर 0.8% कर दिया है। इन चुनौतियों के बावजूद, 2024 का विकास अनुमान 3.3% है, जो 3.2% के पहले अनुमान से न्यूनतम परिवर्तन दर्शाता है। यह मौजूदा आर्थिक अनिश्चितताओं के बावजूद वैश्विक व्यापार को पुनर्जीवित करने और बनाए रखने में लगातार आ रही कठिनाइयों को उजागर करता है।

 

डब्ल्यूटीओ महानिदेशक नगोजी ओकोन्जो-इवेला द्वारा चिंता व्यक्त की

डब्ल्यूटीओ के महानिदेशक नगोजी ओकोन्जो-इवेला ने वैश्विक व्यापार में अपेक्षित मंदी पर चिंता व्यक्त की है, और दुनिया भर में, विशेष रूप से आर्थिक रूप से कमजोर देशों में जीवन स्तर को कम करने की इसकी क्षमता पर जोर दिया है। कमोडिटी की कीमतों में गिरावट और डॉलर की सराहना जैसे कारकों ने सामूहिक रूप से 2023 की पहली छमाही में विश्व व्यापारिक व्यापार में 5% की गिरावट में योगदान दिया है।

 

सेंथिल पांडियन सी डब्ल्यूटीओ में भारत के अगले राजदूत |_40.1

FAQs

WTO का कार्य क्या है?

विश्व व्यापार संगठन (WTO) एक अंतर सरकारी संगठन है जो भाग लेने वाले देशों के बीच व्यापार समझौतों पर बातचीत के लिए एक मंच प्रदान करके उत्पादों, सेवाओं और बौद्धिक संपदा में अंतर्राष्ट्रीय व्यापार को नियंत्रित करता है। यह देशों के लिए विवाद समाधान मंच के रूप में कार्य करता है।