Home   »   बदलेगा स्‍टॉक मार्केट का नियम, सेम...

बदलेगा स्‍टॉक मार्केट का नियम, सेम डे ट्रेड सेटलमेंट शुरू करने की योजना

बदलेगा स्‍टॉक मार्केट का नियम, सेम डे ट्रेड सेटलमेंट शुरू करने की योजना |_30.1

सेबी मार्च 2024 तक ट्रेडों के उसी दिन निपटान को लागू करेगा, और तात्कालिक निपटान के लिए एक वैकल्पिक समानांतर प्रणाली शुरू करने की भी योजना है।

भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) ने देश के वित्तीय बाजारों में निपटान प्रक्रिया में क्रांतिकारी परिवर्तन लाने के लिए एक महत्वाकांक्षी योजना का अनावरण किया है। हाल की एक घोषणा में, सेबी प्रमुख माधवी पुरी ने खुलासा किया कि नियामक संस्था मार्च 2024 तक ट्रेडों के उसी दिन निपटान को लागू करने के लिए एक रोडमैप पर सक्रिय रूप से कार्य कर रही है। इसके अतिरिक्त, तात्कालिक निपटान के लिए एक वैकल्पिक समानांतर प्रणाली शुरू करने की भी योजना है।

तकनीकी उन्नति की आवश्यकता

सेबी बोर्ड की बैठक के बाद मुंबई में आयोजित एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान, माधबी पुरी ने बाजार के बुनियादी ढांचे और दलालों दोनों की सामूहिक भावना पर प्रकाश डाला। उन्होंने एक मजबूत तकनीकी मार्ग की महत्वपूर्ण आवश्यकता पर जोर दिया है जो तत्काल निपटान की सुविधा प्रदान करता है। पुरी ने एक घंटे की देरी जैसे किसी भी अंतरिम कदम से बचने के महत्व को रेखांकित किया और मौजूदा टी+0 निपटान प्रणाली से तात्कालिक निपटान प्रणाली में सीधे परिवर्तन की वकालत की।

टी+0 से उसी दिन निपटान में परिवर्तन

माधबी पुरी ने नए निपटान ढांचे के कार्यान्वयन के लिए प्रस्तावित समयसीमा की रूपरेखा तैयार की। उनके अनुसार, बाजार सहभागियों ने टी+0 पर प्रक्रिया शुरू करने और उसके बाद तत्काल निपटान की दिशा में आगे बढ़ने की आवश्यकता बताई है। नियामक संस्था का लक्ष्य मार्च 2024 के अंत तक उसी दिन निपटान हासिल करना है, जो मौजूदा टी+0 निपटान चक्र से एक महत्वपूर्ण छलांग है।

तत्काल निपटान का महत्व

उसी दिन निपटान और अंततः तात्कालिक निपटान की दिशा में कदम बाजार सहभागियों को मिलने वाले लाभों की मान्यता से प्रेरित है। तत्काल निपटान से प्रतिपक्ष जोखिम कम हो जाता है, तरलता बढ़ जाती है और बाजार सहभागियों के लिए पूंजी की आवश्यकता कम हो जाती है। टी+1 या टी+2 निपटान चक्रों से जुड़ी प्रतीक्षा अवधि को समाप्त करने से, बाजार निवेशकों के लिए अधिक कुशल, पारदर्शी और आकर्षक बन जाता है।

चुनौतियाँ और विचार

हालांकि एक ही दिन में निपटान और तत्काल लेनदेन का दृष्टिकोण महत्वाकांक्षी है, लेकिन कुछ चुनौतियाँ हैं जिनका समाधान करने की आवश्यकता है। लेन-देन की बढ़ी हुई मात्रा और गति को संभालने के लिए तकनीकी बुनियादी ढांचा पर्याप्त मजबूत होना चाहिए। तीव्र वित्तीय लेनदेन वाले वातावरण में संभावित खतरों से सुरक्षा के लिए साइबर सुरक्षा उपायों को मजबूत करने की आवश्यकता है।

समयसीमा के प्रति सेबी की प्रतिबद्धता

माधबी पुरी ने प्रस्तावित समयसीमा के प्रति सेबी की प्रतिबद्धता दोहराई, इस बात पर जोर दिया कि टी+0 निपटान में परिवर्तन मार्च 2024 तक पूरा होने की संभावना है। तात्कालिक निपटान के लिए अगला कदम एक वर्ष बाद होने की उम्मीद है। सेबी इसमें शामिल तकनीकी और परिचालन पहलुओं पर विचार करते हुए एक सहज और निर्बाध परिवर्तन सुनिश्चित करने के लिए बाजार सहभागियों के साथ मिलकर कार्य कर रहा है।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

1. कौन सी नियामक संस्था मार्च 2024 तक सेम डे ट्रेड सेटलमेंट शुरू करने की योजना बना रही है?

उत्तर: सेबी (भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड)।

2. बाजार सहभागियों को उसी दिन निपटान और अंततः तात्कालिक निपटान से क्या लाभ मिलते हैं, और ये लाभ वित्तीय परिदृश्य को किस प्रकार से प्रभावित करते हैं?

उत्तर: यह प्रतिपक्ष जोखिमों को कम करता है, तरलता बढ़ाता है, और बाजार सहभागियों के लिए पूंजी आवश्यकताओं को कम करता है।

3. वर्तमान में सेबी प्रमुख के पद पर कौन आसीन है?

उत्तर: माधबी पुरी बुच।

Find More Business News Here

बदलेगा स्‍टॉक मार्केट का नियम, सेम डे ट्रेड सेटलमेंट शुरू करने की योजना |_40.1

FAQs

ओडिशा की राजधानी क्या है?

ओड़िशा की राजधानी भुवनेश्वर है।

TOPICS: