Home   »   सेबी ने भारत में शुरू की...

सेबी ने भारत में शुरू की द्वितीयक बाजार व्यापार के लिए एएसबीए जैसी सुविधा

सेबी ने भारत में शुरू की द्वितीयक बाजार व्यापार के लिए एएसबीए जैसी सुविधा_3.1

सेबी, भारत की मुख्य प्रतिभूति बाजार नियामक, हमेशा से निवेशकों को सशक्त बनाने और देश के प्रतिभूति बाजार में निष्पक्ष व्यवहार को बढ़ावा देने को प्राथमिकता दी है। उसकी एक नवीनतम पहल, जिसने देश के सेकेंडरी बाजार में बड़ी ध्यान दिया है, एप्लिकेशन सपोर्टेड बाई ब्लॉक्ड अमाउंट (एएसबीए) फ़ैसिलिटी है। एएसबीए एक भुगतान तंत्र है जो निवेशकों को आईपीओ सब्सक्रिप्शन के दौरान धन को ब्रोकर के खाते में ट्रांसफर करने की बजाय अपने बचत खाते में ब्लॉक करने की अनुमति देता है। यह निवेशकों के फंड की सुरक्षा सुनिश्चित करता है और एक आईपीओ में शेयरों के लिए आवेदन करने की प्रक्रिया को सुगम बनाता है, रिफंड के लिए लेने वाले समय में कमी होती है और निवेशकों को अधिक लिक्विडिटी प्रदान करता है।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

ASBA सुविधा को द्वितीय बाजार व्यापार के लिए भी लागू किया जा सकता है, जिससे वास्तविक समय पर सेटलमेंट प्रक्रिया का परिणाम हो सकता है। इस तरीके से निवेशक अपने खातों में फंड ब्लॉक करते हुए एक आदेश देते हैं। आदेश को पूरा करने के बाद, शेयर डेमैट खाते में क्रेडिट होने तक फंड ब्लॉक रहेंगे। यह दृष्टिकोण निवेशकों के लिए कई लाभ प्रदान कर सकता है, जैसे पारदर्शिता, अपने फंडों पर बढ़ाया नियंत्रण और वास्तविक डेबिट के समय तक ब्लॉक किए गए फंड पर ब्याज की कमाई।

फिर भी, द्वितीय बाजार व्यापार में ASBA जैसी सुविधा के लागू होने के लिए वर्तमान बुनियादी संरचना में काफी परिवर्तन की आवश्यकता होगी। दलालों और डिपॉजिटरियों की वर्तमान प्रणाली को वास्तविक समय पर सेटलमेंट को समर्थन करने के लिए अपग्रेड किया जाना होगा, और यह तकनीक और प्रशिक्षण में विशाल निवेशों की आवश्यकता होगी। यह फैसला दलालों को भी प्रभावित कर सकता है क्योंकि यह उनकी फ्लोट अर्थात जमा खाते में रखे गए ग्राहक के फंडों कमाई में कमी ला सकता है। नुकसान को पूर्ण करने के लिए दलाल अधिक लेनदेन शुल्क ले सकते हैं।

चुनौतियों के बावजूद, ASBA जैसी सुविधा भारतीय द्वितीय बाजार व्यापार को वैश्विक सर्वश्रेष्ठ अभ्यासों से मेल खाने की समर्थन कर सकती है और भारतीय बाजार की विश्वसनीयता को बढ़ावा देगी। यह भारत के स्टॉक मार्केट में निवेशकों के बेस को गहरा करेगा और विस्तार करेगा, जो स्वयं में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि होगी। निवेशकों और दलालों दोनों ASBA जैसी सुविधा का द्वितीय बाजार लेनदेन के लिए विकल्प चुन सकते हैं, और सेबी ने इसके लागू होने के लिए विस्तृत ढांचा मंजूर किया है, जिससे सदस्यों के कामकाज के पूंजी आवश्यकताओं में कमी आने की उम्मीद है।

समाप्ति में, द्वितीयक बाजार ट्रेडिंग के लिए ASBA जैसी सुविधा भारतीय निवेशकों के लिए एक गेम-चेंजर हो सकती है, जो उनके धन की सुरक्षा और स्टॉक ट्रेडिंग की समूची प्रक्रिया को सुगम बनाए रखने की गारंटी देती है। हालांकि, इसके लागू होने के लिए वर्तमान बुनियादी ढांचे में काफी बदलाव की आवश्यकता होगी और कानूनी ढांचे में परिवर्तनों की आवश्यकता होगी। भारतीय बाजार को वैश्विक सर्वश्रेष्ठ प्रथाओं के साथ अनुरूप बनाने के लाभ को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। यह भारतीय स्टॉक मार्केट में निवेशकों के आधार को गहरा और विस्तृत करेगा, जो खुद में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि होगी। निवेशकों और दलालों दोनों को द्वितीयक बाजार संचालन के लिए ASBA जैसी सुविधा का चयन कर सकते हैं, और सेबी ने इसके लागू होने के लिए व्यापक ढांचा स्वीकृत किया है, जिससे सदस्यों के कामकाज के लिए काम की जरूरत कम होने की उम्मीद है।

Find More Business News Here

International Day of Persons with Disabilities 2022: 3 December_90.1

FAQs

एएसबीएका पूरा नाम क्या है ?

एएसबीएका पूरा नाम एप्लिकेशन सपोर्टेड बाई ब्लॉक्ड अमाउंट है।