Home   »   ब्रिटिश अंटार्कटिक क्षेत्र में रूस ने...

ब्रिटिश अंटार्कटिक क्षेत्र में रूस ने की तेल और गैस खोज

ब्रिटिश अंटार्कटिक क्षेत्र में रूस ने की तेल और गैस खोज |_3.1

रूस ने ब्रिटिश अंटार्कटिक क्षेत्र में बड़े पैमाने पर तेल और गैस भंडार की खोज करने का दावा किया है, जो वर्तमान में 1959 अंटार्कटिक संधि के तहत संरक्षित क्षेत्र है।

रूस ने ब्रिटिश अंटार्कटिक क्षेत्र में बड़े पैमाने पर तेल और गैस भंडार की खोज करने का दावा किया है, जो वर्तमान में 1959 अंटार्कटिक संधि के तहत संरक्षित क्षेत्र है। कॉमन्स एनवायरनमेंट ऑडिट कमेटी को सौंपे गए सबूतों के अनुसार, रूसी अनुसंधान जहाजों द्वारा खोजे गए भंडार में लगभग 511 बिलियन बैरल तेल है, जो पिछले 50 वर्षों में उत्तरी सागर के उत्पादन के लगभग 10 गुना के बराबर है।

अंटार्कटिक संधि का संभावित उल्लंघन

रूस सहित कई देशों द्वारा हस्ताक्षरित अंटार्कटिक संधि, इस क्षेत्र में सभी तेल विकास पर रोक लगाती है, इसे “विशेष रूप से शांतिपूर्ण उद्देश्यों के लिए” उपयोग किए जाने वाले क्षेत्र के रूप में नामित करती है। रूस की खोज और इन भंडारों के दोहन के संभावित इरादे संभावित रूप से इस संधि की शर्तों का उल्लंघन कर सकते हैं।

विशेषज्ञों द्वारा जताई गई चिंता

रॉयल होलोवे विश्वविद्यालय में भू-राजनीति के प्रोफेसर क्लॉस डोड्स ने अंटार्कटिक क्षेत्र में रूस की गतिविधियों के निहितार्थ के बारे में चिंता व्यक्त की। उन्होंने तर्क दिया कि अंटार्कटिक नीति का माहौल “यकीनन 1980 के दशक के अंत और 1990 के दशक की शुरुआत के बाद से सबसे चुनौतीपूर्ण है।”
डोड्स ने आगे अपने विश्वास को बताया कि क्षेत्र में रूसी गतिविधि वैध वैज्ञानिक अनुसंधान करने के बजाय तेल और गैस के शिकार के बराबर है, जैसा कि रूसी अधिकारियों ने दावा किया है।

ब्रिटेन के क्षेत्रीय दावे और अंतर्राष्ट्रीय तनाव

ब्रिटेन के 14 विदेशी क्षेत्रों में से एक, ब्रिटिश अंटार्कटिक क्षेत्र को अतीत में अर्जेंटीना और चिली के प्रतिस्पर्धी दावों का सामना करना पड़ा है। रूस द्वारा इस क्षेत्र में विशाल ऊर्जा भंडार की कथित खोज संभावित रूप से क्षेत्रीय विवादों को फिर से जन्म दे सकती है और अंटार्कटिक महाद्वीप के आसपास अंतरराष्ट्रीय तनाव बढ़ा सकती है।

जबकि ब्रिटेन के मंत्री डेविड रटले ने संसद सदस्यों (सांसदों) को आश्वासन दिया कि रूस इस क्षेत्र में वैज्ञानिक अनुसंधान कर रहा है, बड़े पैमाने पर तेल और गैस भंडार के खुलासे ने अंटार्कटिक संधि के संभावित उल्लंघन और भू-राजनीतिक तनाव बढ़ने की संभावना के बारे में चिंताएं बढ़ा दी हैं।

पर्यावरणीय चिंताएँ और वैश्विक प्रभाव

प्राचीन अंटार्कटिक क्षेत्र में तेल और गैस की ड्रिलिंग की संभावना ने भी पर्यावरण कार्यकर्ताओं और संगठनों के बीच चिंता पैदा कर दी है। ऐसी गतिविधियों से अंटार्कटिका का नाजुक पारिस्थितिकी तंत्र गंभीर रूप से प्रभावित हो सकता है, जिससे संभावित रूप से क्षेत्र की अद्वितीय वनस्पतियों और जीवों को अपरिवर्तनीय क्षति हो सकती है।

चूँकि दुनिया जलवायु परिवर्तन की चुनौतियों और टिकाऊ ऊर्जा स्रोतों की आवश्यकता से जूझ रही है, अंटार्कटिका में इन भंडारों के दोहन की संभावना के पर्यावरणीय और राजनीतिक रूप से दूरगामी वैश्विक प्रभाव हो सकते हैं।

सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण तथ्य:

  • रूस की राजधानी: मास्को;
  • रूस की मुद्रा: रूसी रूबल;
  • रूस के प्रधान मंत्री: मिखाइल मिशुस्टिन;
  • रूस के राष्ट्रपति: व्लादिमीर व्लादिमीरोविच पुतिन।

List of Cricket Stadiums in Andhra Pradesh_70.1

FAQs

वित्त वर्ष (2023-24) में द्विपक्षीय व्यापार में भारत का सबसे बड़ा व्यापारिक भागीदार रहा है?

चीन, 2022-23 में भारत और चीन के बीच 118.4 अरब डॉलर का द्विपक्षीय व्यापार रहा।