Home   »   प्रसिद्ध वैज्ञानिक डॉ. एन. गोपालकृष्णन का...

प्रसिद्ध वैज्ञानिक डॉ. एन. गोपालकृष्णन का 68 वर्ष की आयु में निधन

प्रसिद्ध वैज्ञानिक डॉ. एन. गोपालकृष्णन का 68 वर्ष की आयु में निधन |_30.1

भारतीय वैज्ञानिक विरासत संस्थान (आईआईएसएच) के निर्माता और वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) के पूर्व वैज्ञानिक एन. गोपालकृष्णन का 68 वर्ष की आयु में निधन हो गया है। गोपालकृष्णन ने रसायन विज्ञान में मास्टर ऑफ साइंस की डिग्री, समाजशास्त्र में मास्टर ऑफ आर्ट्स की डिग्री और बायोकैमिस्ट्री में पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उनका जन्म केरल के एर्नाकुलम जिले के कोच्चि शहर में हुआ था, और उनके माता-पिता नारायणन एम्ब्रांतिरी और सत्यभामा थे।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

करियर :

1982 में शुरू होने वाले 25 वर्षों की अवधि के लिए, उन्होंने भारत सरकार के तहत वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) में एक वरिष्ठ वैज्ञानिक के रूप में काम किया। उन्होंने 1993 से 1994 तक कनाडा में अल्बर्टा विश्वविद्यालय में विजिटिंग साइंटिस्ट के रूप में पदों पर भी काम किया, साथ ही तिरुपति में राष्ट्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय में विजिटिंग साइंटिस्ट भी रहे।

इसके अतिरिक्त, उन्होंने भारतीय वैज्ञानिक विरासत संस्थान (आईआईएसएच-पंजीकृत चैरिटेबल ट्रस्ट) के निदेशक के रूप में कार्य किया और विभिन्न भारतीय और विदेशी विश्वविद्यालयों और संस्थानों में अतिथि संकाय सदस्य थे। कुल मिलाकर, उन्होंने भारत और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर वैज्ञानिक अनुसंधान और शिक्षा के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान दिया है।

पेशेवर योगदान:

अपने पूरे करियर के दौरान, उन्होंने विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। उन्होंने विभिन्न राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय वैज्ञानिक पत्रिकाओं में 50 शोध पत्र प्रकाशित किए हैं और विज्ञान और प्रौद्योगिकी में छह पेटेंट प्राप्त किए हैं। उनके योगदान को व्यापक रूप से मान्यता दी गई है, क्योंकि उन्हें विज्ञान और प्रौद्योगिकी वैज्ञानिक समाजों से नौ राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर के पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है, साथ ही विज्ञान और संस्कृति को लोकप्रिय बनाने के लिए तेरह पुरस्कार भी दिए गए हैं।

अपने शोध कार्य के अलावा, उन्होंने अंग्रेजी और मलयालम में 135 से अधिक पुस्तकें लिखी हैं, जिसमें वैज्ञानिक और सांस्कृतिक दोनों विषय शामिल हैं। उनकी पुस्तकों को विज्ञान और संस्कृति के क्षेत्र में उनकी अंतर्दृष्टि और योगदान के लिए व्यापक रूप से पढ़ा और सराहा गया है। कुल मिलाकर, उनके काम ने विज्ञान और प्रौद्योगिकी की उन्नति के साथ-साथ सांस्कृतिक समझ और प्रशंसा को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है।

Find More Obituaries News

 

प्रसिद्ध वैज्ञानिक डॉ. एन. गोपालकृष्णन का 68 वर्ष की आयु में निधन |_40.1

FAQs

डॉ. एन. गोपालकृष्णन का जन्म कहाँ हुआ था ?

उनका जन्म केरल के एर्नाकुलम जिले के कोच्चि शहर में हुआ था, और उनके माता-पिता नारायणन एम्ब्रांतिरी और सत्यभामा थे।