Home   »   प्रसिद्ध जैन भिक्षु आचार्य विद्यासागर महाराज...

प्रसिद्ध जैन भिक्षु आचार्य विद्यासागर महाराज का 77 वर्ष की आयु में निधन

प्रसिद्ध जैन भिक्षु आचार्य विद्यासागर महाराज का 77 वर्ष की आयु में निधन_3.1

77 वर्षीय प्रसिद्ध जैन भिक्षु आचार्य विद्यासागर महाराज, छत्तीसगढ़ के राजनांदगांव के डोंगरगढ़ में चंद्रगिरि तीर्थ में ‘सल्लेखना’ के माध्यम से शांतिपूर्वक प्रस्थान कर गए।

प्रसिद्ध जैन भिक्षु आचार्य विद्यासागर महाराज, 77 वर्ष की आयु, ने रविवार, 18 फरवरी को छत्तीसगढ़ के राजनांदगांव जिले के चंद्रगिरि तीर्थ में अंतिम सांस ली। श्रद्धेय आध्यात्मिक नेता ने आध्यात्मिक शुद्धि के लिए स्वैच्छिक आमरण उपवास से जुड़ी एक जैन धार्मिक प्रथा ‘सल्लेखना’ की शुरुआत की।

सल्लेखना: एक जैन धार्मिक अभ्यास

‘सल्लेखना’ एक गहन जैन प्रथा है जिसमें व्यक्ति आध्यात्मिक शुद्धि के साधन के रूप में, स्वेच्छा से भोजन और तरल पदार्थों से परहेज करते हैं और मृत्यु तक उपवास करते हैं। आचार्य विद्यासागर महाराज ने पिछले तीन दिनों तक ‘सल्लेखना’ का पालन किया, जिसका समापन चंद्रगिरि तीर्थ में उनकी समाधि में हुआ।

प्रारंभिक जीवन और आध्यात्मिक यात्रा

आचार्य विद्यासागर महाराज का जन्म 10 अक्टूबर 1946 को कर्नाटक के सदलगा में हुआ था। उनके प्रारंभिक जीवन में आध्यात्मिकता के प्रति गहरा झुकाव था, जिसने उनकी उल्लेखनीय यात्रा के लिए मंच तैयार किया।

मठवासी व्यवस्था में दीक्षा

1968 में, 22 वर्ष की अल्प आयु में, आचार्य श्री विद्यासागर महाराज ने दिगंबर भिक्षुओं के श्रद्धेय संप्रदाय में दीक्षा प्राप्त करके अपने जीवन का एक महत्वपूर्ण अध्याय शुरू किया। उनकी आध्यात्मिक यात्रा का मार्गदर्शन पूज्य आचार्य ज्ञानसागर जी महाराज ने किया।

आचार्य पद की प्राप्ति

अपनी दीक्षा के चार वर्षों के भीतर, आचार्य विद्यासागर महाराज ने 1972 में आचार्य का प्रतिष्ठित दर्जा प्राप्त किया, जो उनके समर्पण, अनुशासन और आध्यात्मिक कौशल का एक प्रमाण है।

जैन शास्त्रों और भाषाओं में निपुणता

अपने पूरे जीवनकाल में, आचार्य विद्यासागर महाराज ने जैन धर्मग्रंथों और दर्शन के अध्ययन और व्यावहारिक अनुप्रयोग में गहराई से अध्ययन किया। उनकी महारत संस्कृत, प्राकृत और अन्य भाषाओं तक फैली, जिससे उन्हें स्पष्टता और गहराई के साथ जटिल आध्यात्मिक अवधारणाओं को समझने और समझाने में मदद मिली।

साहित्यिक योगदान

आचार्य विद्यासागर महाराज की साहित्यिक विरासत उनकी गहन आध्यात्मिक अंतर्दृष्टि और विद्वतापूर्ण कौशल का एक स्थायी प्रमाण बनी हुई है। उन्होंने कई व्यावहारिक टिप्पणियाँ, कविताएँ और आध्यात्मिक ग्रंथ लिखे, जिनमें निरंजना शतक, भावना शतक, परिषह जया शतक, सुनीति शतक और श्रमण शतक जैसी मौलिक रचनाएँ शामिल हैं। ये कार्य पीढ़ी-दर-पीढ़ी आध्यात्मिक साधकों को प्रेरित और प्रबुद्ध करते रहेंगे।

वकालत और नेतृत्व

अपनी विद्वतापूर्ण गतिविधियों से परे, आचार्य विद्यासागर महाराज भाषाई और न्यायिक सुधार के एक कट्टर समर्थक के रूप में उभरे। उन्होंने हिंदी के उपयोग को बढ़ावा देने के उद्देश्य से अभियानों का नेतृत्व किया और राज्यों में न्याय वितरण प्रणाली में आधिकारिक भाषा के रूप में इसे अपनाने की वकालत की, जिससे सामाजिक और सांस्कृतिक क्षेत्रों पर एक अमिट छाप पड़ी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की संवेदना

पिछले वर्ष 5 नवंबर को, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव से पहले डोंगरगढ़ का दौरा किया और आचार्य विद्यासागर महाराज का आशीर्वाद लिया। पीएम मोदी ने साधु के निधन को ”अपूरणीय क्षति” बताते हुए शोक व्यक्त किया। उन्होंने आध्यात्मिक जागृति, गरीबी उन्मूलन और स्वास्थ्य एवं शिक्षा में योगदान के लिए आचार्य विद्यासागर महाराज के प्रयासों की प्रशंसा की।

प्रसिद्ध जैन भिक्षु आचार्य विद्यासागर महाराज का 77 वर्ष की आयु में निधन_4.1

 

FAQs

प्रसिद्ध उर्दू कवि गुलजार और संस्कृत विद्वान जगद्गुरु रामभद्राचार्य को किस पुरस्कार से सम्मानित किया जायेगा?

58वें ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित किया जायेगा।

TOPICS: