Home   »   ओडिशा की रेड आंट चटनी को...

ओडिशा की रेड आंट चटनी को मिला भौगोलिक संकेत (जीआई) टैग

ओडिशा की रेड आंट चटनी को मिला भौगोलिक संकेत (जीआई) टैग |_30.1

ओडिशा के मयूरभंज जिले के मध्य में, एक अनोखी पाक परंपरा सदियों से पनप रही है। स्थानीय रूप से ‘काई चटनी’ के रूप में जाना जाने वाला यह स्वादिष्ट व्यंजन वैज्ञानिक रूप से रेड वीवर चींटियों का उपयोग करके तैयार किया जाता है।

ओडिशा के मयूरभंज जिले के मध्य में, एक अनूठी पाक परंपरा सदियों से पनप रही है। स्थानीय रूप से ‘काई चटनी’ के रूप में जाना जाने वाला यह स्वादिष्ट व्यंजन रेड वीवर चींटियों का उपयोग करके तैयार किया जाता है, जिन्हें वैज्ञानिक रूप से ओकोफिला स्मार्गडीना के रूप में पहचाना जाता है। अपने दर्दनाक डंक के लिए प्रसिद्ध इन चींटियों को मयूरभंज के हरे-भरे जंगलों से लाया जाता है, जिसमें एशिया के दूसरे सबसे बड़े जीवमंडल के प्रसिद्ध सिमिलिपाल जंगल भी शामिल हैं।

विशिष्ट पहचान: भौगोलिक संकेत (जीआई) टैग

2 जनवरी, 2024 को, मयूरभंज की रेड आंट की चटनी को भौगोलिक संकेत (जीआई) टैग के रूप में एक महत्वपूर्ण प्रशंसा मिली। यह मान्यता पाक रचना की विशिष्टता और क्षेत्रीय पहचान को उजागर करती है, इसके सांस्कृतिक और आर्थिक महत्व को जोड़ती है।

पाककला प्रक्रिया: जंगल से प्लेट तक

मयूरभंज में स्थानीय आदिवासी परिवार पीढ़ियों से इन उल्लेखनीय कीड़ों और उनकी स्वादिष्ट चटनी को इकट्ठा करके और बेचकर अपना भरण-पोषण कर रहे हैं। चींटियों और उनके अंडों को सावधानीपूर्वक घोंसलों से इकट्ठा किया जाता है, पूरी तरह से सफाई प्रक्रिया से गुज़रा जाता है, और फिर चटनी के लिए आवश्यक सामग्री बन जाते हैं। नमक, अदरक, लहसुन और मिर्च का मिश्रण पूर्णता के साथ पीसा जाता है, जिससे ‘काई चटनी’ का विशिष्ट स्वाद तैयार होता है।

स्वाद से परे: औषधीय और पोषण संबंधी गुण

अपने विशिष्ट स्वाद के अलावा, रेड आंट की चटनी अपने संभावित स्वास्थ्य लाभों के लिए प्रसिद्ध है। आयरन, मैग्नीशियम, पोटेशियम, कैल्शियम, जिंक, प्रोटीन और विटामिन बी-12 से भरपूर, यह पाक रचना पोषण संबंधी पंच प्रदान करती है। इसके अतिरिक्त, ऐसा माना जाता है कि यह एक मजबूत न्यूरोलॉजिकल सिस्टम और मस्तिष्क के विकास में योगदान देता है, जो संभावित रूप से अवसाद, थकावट और स्मृति हानि जैसी बीमारियों को संबोधित करने में सहायता करता है।

सस्टेनेबल गैस्ट्रोनॉमी: प्रोटीन स्रोत के रूप में कीट

मानव आहार में कीड़ों को शामिल करने से स्थायी गैस्ट्रोनॉमी पर वैश्विक चर्चा में ध्यान आकर्षित हुआ है। अध्ययनों से पता चलता है कि रेड वीवर आंट जैसे कीड़े, गाय जैसे पारंपरिक पशुधन की तुलना में अधिक पर्यावरण अनुकूल प्रोटीन स्रोत के रूप में कार्य कर सकते हैं। कम पर्यावरणीय प्रभावों के साथ, यह पाक विकल्प ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन से संबंधित चिंताओं को संबोधित करते हुए एक स्थायी खाद्य प्रणाली बनाने के प्रयासों के साथ संरेखित होता है।

मयूरभंज से परे: समान पाक परंपराएँ

मयूरभंज को अपनी रेड आंट की चटनी पर गर्व है, परंतु इसी तरह की पाक परंपराएं झारखंड और छत्तीसगढ़ सहित भारत के अन्य पूर्वी राज्यों में भी पाई जा सकती हैं। इन अनूठी कृतियों की व्यापक उपस्थिति भारतीय पाक-कला की सांस्कृतिक विविधता और समृद्धि को दर्शाती है।

संक्षेप में, भौगोलिक संकेत टैग के साथ मयूरभंज की रेड आंट की चटनी की मान्यता न केवल एक पाक परंपरा का जश्न मनाती है, बल्कि इस अद्वितीय गैस्ट्रोनॉमिक आनंद के सांस्कृतिक, आर्थिक और पर्यावरणीय आयामों को भी रेखांकित करती है। चूँकि ‘काई चटनी’ स्वाद कलिकाओं को लुभाती रहती है, यह भारत के हृदय में टिकाऊ और सांस्कृतिक रूप से समृद्ध पाक प्रथाओं के प्रतीक के रूप में भी कार्य करती है।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

Q1. ओडिशा के मयूरभंज जिले की पारंपरिक व्यंजन ‘काई चटनी’ में अद्वितीय सामग्री क्या है?
(a) बांस की कोंपलें
(b) रेड वीवर आंट
(c) जंगली मशरूम
(d) ताड़ का फल

Q2. मयूरभंज की रेड आंट की चटनी को भौगोलिक संकेत (जीआई) टैग कब मिला?
(a) 2 जनवरी, 2024
(b) 25 दिसंबर, 2023
(c) 1 अप्रैल, 2024
(d) 15 जून, 2023

Q3. ‘काई चटनी’ में प्रयुक्त रेड वीवर आंट का वैज्ञानिक नाम क्या है?
(a) फॉर्मिका रूफा
(b) सोलेनोप्सिस इनविक्टा
(c) ओकोफिला स्मार्गडीना
(d) कैम्पोनोटस फेलाह

Q4. मयूरभंज का कौन सा जंगल ‘काई चटनी’ के लिए रेड वीवर आंट के स्रोत के रूप में जाना जाता है?
(a) नंदनकानन वन
(b) भितरकणिका वन
(c) सिमिलिपाल वन
(d) डेब्रीगढ़ वन

Q5. रेड आंट की चटनी खाने के संभावित स्वास्थ्य लाभ क्या हैं?
(a) कार्बोहाइड्रेट और वसा में उच्च
(b) आयरन और विटामिन बी-12 जैसे विटामिन और खनिजों से भरपूर
(c) प्रोटीन कम लेकिन फाइबर अधिक
(d) शर्करा और स्टार्च में उच्च

कृपया अपनी प्रतिक्रियाएँ टिप्पणी अनुभाग में साझा करें।

 

ओडिशा की रेड आंट चटनी को मिला भौगोलिक संकेत (जीआई) टैग |_40.1

FAQs

यक्षगान किस राज्य का लोकनृत्य है?

यक्षगान कर्नाटक का लोकनृत्य है।