Home   »   आरबीआई को ‘चेंजमेकर ऑफ द ईयर’...

आरबीआई को ‘चेंजमेकर ऑफ द ईयर’ पुरस्कार

आरबीआई को ‘चेंजमेकर ऑफ द ईयर’ पुरस्कार_3.1

भारतीय रिजर्व बैंक को ‘चेंजमेकर ऑफ द ईयर’ पुरस्कार से सम्मानित किया गया, जिसने देश की वित्तीय स्थिरता बनाए रखने के लिए केंद्रीय बैंक की अटूट प्रतिबद्धता पर बल दिया।

हाल ही में, भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) को ‘चेंजमेकर ऑफ द ईयर’ पुरस्कार से सम्मानित किया गया। आरबीआई की ओर से गवर्नर शक्तिकांत दास ने इसे प्राप्त किया। यह सम्मान 3 नवंबर को नई दिल्ली में आईटीसी मौर्य में आयोजित हिंदू बिजनेसलाइन चेंजमेकर अवार्ड्स 2023 का भाग था।

‘चेंजमेकर ऑफ द ईयर’ पुरस्कार

‘चेंजमेकर ऑफ द ईयर’ पुरस्कार लेते हुए, गवर्नर शक्तिकांत दास ने स्वीकार किया कि यह सम्मान आरबीआई के 13,000 से अधिक अधिकारियों और कर्मचारियों की कड़ी मेहनत और समर्पण के लिए एक सम्मान है।

उनके अथक प्रयास और टीम वर्क यह सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण थे कि केंद्रीय बैंक ने कोविड-19 महामारी से उत्पन्न चुनौतियों का प्रभावी ढंग से प्रबंधन किया और देश की वित्तीय स्थिरता की रक्षा करना जारी रखा।

कोविड-19 संकट के दौरान सक्रिय उपाय

गवर्नर दास ने कोविड-19 महामारी के जवाब में आरबीआई के सक्रिय दृष्टिकोण पर प्रकाश डाला। केंद्रीय बैंक ने एक संगरोध सुविधा स्थापित की और उस चुनौतीपूर्ण अवधि के दौरान मुद्रा बाजार के निर्बाध कामकाज को सुनिश्चित करने के लिए उपाय शुरू किए। इसने देश की वित्तीय स्थिरता बनाए रखने और अर्थव्यवस्था की समृद्धि सुनिश्चित करने के लिए केंद्रीय बैंक की अटूट प्रतिबद्धता पर बल दिया।

सेंट्रल बैंकर के गुण

गवर्नर दास ने उन आवश्यक गुणों पर अपना दृष्टिकोण साझा किया जो एक केंद्रीय बैंकर में होने चाहिए। उन्होंने तीन प्रमुख विशेषताओं को रेखांकित किया:

I. मजबूत सामान्य ज्ञान और प्रभाव को देखने की क्षमता: केंद्रीय बैंकरों को इस बात की गहन समझ होनी चाहिए कि मौद्रिक नीति उपाय वास्तविक अर्थव्यवस्था को किस प्रकार से प्रभावित करेंगे। मजबूत सामान्य ज्ञान होने से उन्हें वित्तीय स्थिरता और आर्थिक विकास को बढ़ावा देने वाले सूचित निर्णय लेने की अनुमति मिलती है।

II. खुले दिमाग और संकट की आशंका: केंद्रीय बैंकरों के लिए खुले दिमाग रखने की क्षमता महत्वपूर्ण है। उन्हें संकट को समझने और संभावित समस्याओं का अनुमान लगाने में सक्षम होना चाहिए, जिससे उन्हें आर्थिक जोखिमों को कम करने के लिए सक्रिय उपाय करने की अनुमति मिल सके।

III. टीम वर्क और सामूहिक नेतृत्व को प्रोत्साहित करना: प्रभावी केंद्रीय बैंकर अपने संस्थानों के भीतर टीम वर्क और सामूहिक निर्णय लेने की प्रक्रियाओं को बढ़ावा देते हैं। संपूर्ण अर्थव्यवस्था को लाभ पहुंचाने वाली ठोस मौद्रिक नीतियों को विकसित करने और लागू करने के लिए सहयोग आवश्यक है।

सरकार और आरबीआई के बीच तालमेल

शक्तिकांत दास ने नीतिगत उपायों की प्रभावशीलता सुनिश्चित करने के लिए सरकार और आरबीआई के बीच समन्वय और सहयोग के महत्व पर बल दिया। उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि दोनों संस्थाएं परस्पर निर्भर हैं, सरकार को संकटों और विधायी परिवर्तनों को संबोधित करने के लिए आरबीआई के समर्थन की आवश्यकता है, जबकि आरबीआई को नियामक परिवर्तनों और संकट प्रबंधन के लिए सरकारी समर्थन की आवश्यकता है।

Find More Awards News Here

आरबीआई को ‘चेंजमेकर ऑफ द ईयर’ पुरस्कार_4.1

FAQs

आरबीआई के गवर्नर कौन हैं?

आरबीआई के गवर्नर शक्तिकांत दास हैं।