Home   »   यूसीबी की ताकत बढ़ाने के चार...

यूसीबी की ताकत बढ़ाने के चार महत्वपूर्ण उपाय: सहकार से समृद्धि की ओर एक कदम

यूसीबी की ताकत बढ़ाने के चार महत्वपूर्ण उपाय: सहकार से समृद्धि की ओर एक कदम |_30.1

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने केंद्र सरकार के सहयोग से देश में 1,514 शहरी सहकारी बैंकों (यूसीबी) की ताकत बढ़ाने के लिए चार महत्वपूर्ण उपाय शुरू किए हैं। इन पहलों की घोषणा केंद्रीय गृह मंत्री और सहकारिता मंत्री अमित शाह, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और आरबीआई गवर्नर के बीच विस्तृत चर्चा के बाद की गई थी, जिसका उद्देश्य प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘सहकार से समृद्धि’ के दृष्टिकोण को प्राप्त करना था।

यूसीबी के पास अब आरबीआई की पूर्व मंजूरी के बिना नई शाखाएं खोलकर अपनी पहुंच बढ़ाने का अवसर है। वे अपने परिचालन के अनुमोदित क्षेत्र के भीतर पिछले वित्तीय वर्ष में शाखाओं की कुल संख्या का 10% (अधिकतम 5 शाखाएं) तक खोल सकते हैं। हालांकि, यूसीबी को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि उनकी नीतियां उनके संबंधित बोर्डों द्वारा अनुमोदित हैं और वित्तीय रूप से मजबूत और अच्छी तरह से प्रबंधित (एफएसडब्ल्यूएम) मानदंडों का पालन करती हैं।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

एक महत्वपूर्ण कदम के तहत, यूसीबी को वाणिज्यिक बैंकों के बराबर वन टाइम सेटलमेंट (ओटीएस) की पेशकश करने का अधिकार दिया गया है। अपने बोर्ड की मंजूरी के साथ, सहकारी बैंक अब उधारकर्ताओं के साथ तकनीकी राइट-ऑफ और निपटान के लिए एक प्रक्रिया प्रदान कर सकते हैं। यह विकास यूसीबी को अन्य वाणिज्यिक बैंकों के बराबर लाता है और उन्हें अपनी उधार प्रथाओं को सुव्यवस्थित करने और खराब ऋणों को अधिक प्रभावी ढंग से पुनर्प्राप्त करने में सक्षम बनाता है।

प्राथमिकता प्राप्त क्षेत्र के ऋण लक्ष्यों को पूरा करने में यूसीबी के सामने आने वाली चुनौतियों को स्वीकार करते हुए, आरबीआई ने समय सीमा दो साल तक बढ़ा दी है। निर्धारित लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए यूसीबी के पास अब 31 मार्च, 2026 तक का समय है। यह विस्तार इन बैंकों को कृषि, सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों (एमएसएमई), शिक्षा, आवास और अधिक जैसे प्राथमिकता वाले क्षेत्रों के साथ अपनी उधार गतिविधियों को संरेखित करने के लिए अतिरिक्त समय प्रदान करता है। यह यूसीबी को इन क्षेत्रों की वृद्धि और विकास में महत्वपूर्ण योगदान देने में सक्षम करेगा।

यूसीबी और आरबीआई के बीच बेहतर संचार और समन्वय की सुविधा के लिए, केंद्रीय बैंक के भीतर एक नोडल अधिकारी नामित किया जाएगा। संपर्क का यह समर्पित बिंदु एक संपर्क के रूप में काम करेगा और यूसीबी द्वारा उठाए गए प्रश्नों, चिंताओं और शिकायतों को संबोधित करेगा। नोडल अधिकारी की भूमिका यूसीबी और नियामक प्राधिकरण के बीच संबंधों को मजबूत करने, पारदर्शिता को बढ़ावा देने और सुचारू संचालन को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी।

Find More News Related to Banking

यूसीबी की ताकत बढ़ाने के चार महत्वपूर्ण उपाय: सहकार से समृद्धि की ओर एक कदम |_40.1

FAQs

आरबीआई के गवर्नर कौन हैं ?

आरबीआई के गवर्नर शक्तिकांत दास (Shaktikanta Das) हैं।