Home   »   आरबीआई ने 19 अवैध विदेशी मुद्रा...

आरबीआई ने 19 अवैध विदेशी मुद्रा व्यापार संस्थाओं पर चेतावनी जारी की

आरबीआई ने 19 अवैध विदेशी मुद्रा व्यापार संस्थाओं पर चेतावनी जारी की |_30.1

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने 19 अतिरिक्त संस्थाओं सहित अनधिकृत विदेशी मुद्रा व्यापार प्लेटफार्मों की अपनी अलर्ट सूची को अपडेट किया है, जिससे कुल संख्या 75 हो गई है।

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने अनधिकृत विदेशी मुद्रा व्यापार प्लेटफार्मों की अपनी ‘अलर्ट सूची’ को अपडेट करके निवेशकों के हितों की सुरक्षा में एक महत्वपूर्ण कदम उठाया है। नवीनतम अपडेट में 19 अतिरिक्त संस्थाएं शामिल हैं, जिससे कुल संख्या 75 हो गई है। इस कदम का उद्देश्य अवैध विदेशी मुद्रा व्यापार गतिविधियों पर अंकुश लगाना और उपभोक्ताओं को संभावित वित्तीय जोखिमों से बचाना है।

चेतावनी सूची को समझना

आरबीआई द्वारा बनाई गई अलर्ट सूची उन संस्थाओं के व्यापक रिकॉर्ड के रूप में कार्य करती है जो न तो विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम, 1999 (फेमा) के तहत विदेशी मुद्रा लेनदेन में संलग्न होने के लिए अधिकृत हैं, और न ही इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म (रिज़र्व बैंक) दिशानिर्देश, 2018 के तहत विदेशी मुद्रा लेनदेन के लिए इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म (ईटीपी) संचालित करने की अनुमति है।

चेतावनी सूची में नए जोड़े गए

हाल ही में अलर्ट सूची में जोड़ी गई 19 संस्थाओं में एफएक्स स्मार्टबुल, जस्ट मार्केट्स, गोडो एफएक्स, एडमिरल मार्केट, ब्लैकबुल, ईज़ी मार्केट्स, एन्क्लेव एफएक्स, फिनोविज फिनटेक, एफएक्स ट्रे मार्केट, फॉरेक्स4यू, ग्रोइंग कैपिटल सर्विसेज, एचएफ मार्केट्स, एचवाईसीएम कैपिटल मार्केट्स, जेजीसीएफएक्स, पीयू प्राइम, रियल गोल्ड कैपिटल, टीएनएफएक्स, या मार्केट्स और गेट ट्रेड शामिल हैं।

यहां सारणीबद्ध प्रारूप में सम्पूर्ण जानकारी दी गई है:

क्रमांक ब्रोकरेज फर्में
1 एफएक्स स्मार्टबुल
2 जस्ट मार्केट्स
3 गोडो एफएक्स
4 एडमिरल मार्केट
5 ब्लैकबुल
6 ईज़ी मार्केट्स
7 एन्क्लेव एफएक्स
8 फिनोविज फिनटेक
9 एफएक्स ट्रे मार्केट
10 फॉरेक्स4यू
11 ग्रोइंग कैपिटल सर्विसेज
12 एचएफ मार्केट्स
13 एचवाईसीएम कैपिटल मार्केट्स
14 जेजीसीएफएक्स
15 पीयू प्राइम
16 रियल गोल्ड कैपिटल
17 टीएनएफएक्स
18 या मार्केट्स
19 गेट ट्रेड

आरबीआई का बयान

अपने आधिकारिक बयान में, रिज़र्व बैंक ने इस बात पर प्रकाश डाला कि अलर्ट सूची में उन संस्थाओं, प्लेटफार्मों और वेबसाइटों के नाम भी शामिल हैं जिन पर अनधिकृत संस्थाओं को बढ़ावा देने का संदेह है। केंद्रीय बैंक ने इस बात पर जोर दिया कि सूची संपूर्ण नहीं है और आगाह किया कि सूची से किसी इकाई की अनुपस्थिति को आरबीआई द्वारा प्राधिकरण के रूप में नहीं समझा जाना चाहिए।

निवेशकों की सुरक्षा

अलर्ट सूची को अपडेट करने का प्राथमिक उद्देश्य निवेशकों और व्यापारियों को धोखाधड़ी वाली विदेशी मुद्रा व्यापार गतिविधियों का शिकार होने से बचाना है। अनधिकृत संस्थाओं की एक समेकित सूची प्रदान करके, आरबीआई का लक्ष्य जनता के बीच जागरूकता पैदा करना और व्यक्तियों को किसी भी विदेशी मुद्रा व्यापार मंच से जुड़ने से पहले उचित परिश्रम करने के लिए प्रोत्साहित करना है।

विनियामक उपायों को बढ़ाना

अलर्ट सूची में अतिरिक्त संस्थाओं को शामिल करना विदेशी मुद्रा व्यापार क्षेत्र में नियामक उपायों को बढ़ाने के लिए आरबीआई की प्रतिबद्धता को दर्शाता है। केंद्रीय बैंक बाजार की बारीकी से निगरानी करना जारी रखता है, वित्तीय प्रणाली और निवेशकों के लिए जोखिम पैदा करने वाली कानूनी ढांचे के बाहर कार्य करने वाली संस्थाओं की पहचान करता है और उनके खिलाफ कार्रवाई करता है।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

1. हाल ही में कितनी संस्थाओं को अलर्ट सूची में जोड़ा गया था?

उत्तर: नवीनतम अपडेट ने अलर्ट सूची में 19 संस्थाओं को जोड़ा है जिसमें एफएक्स स्मार्टबुल, जस्ट मार्केट्स, गोडो एफएक्स, एडमिरल मार्केट, ब्लैकबुल, ईज़ी मार्केट्स, एन्क्लेव एफएक्स, फिनोविज फिनटेक, एफएक्स ट्रे मार्केट, फॉरेक्स4यू, ग्रोइंग कैपिटल सर्विसेज, एचएफ मार्केट्स, एचवाईसीएम कैपिटल मार्केट्स, जेजीसीएफएक्स, पीयू प्राइम, रियल गोल्ड कैपिटल, टीएनएफएक्स, या मार्केट्स और गेट ट्रेड शामिल हैं।

2. आरबीआई द्वारा बनाई गई अलर्ट सूची का उद्देश्य क्या है?

उत्तर: आरबीआई द्वारा अनुरक्षित अलर्ट सूची उन संस्थाओं के व्यापक रिकॉर्ड के रूप में कार्य करती है जो न तो विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम, 1999 (फेमा) के तहत विदेशी मुद्रा लेनदेन में संलग्न होने के लिए अधिकृत हैं, और न ही विदेशी मुद्रा लेनदेन के लिए इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म संचालित करने की अनुमति है। यह अनधिकृत संस्थाओं के खिलाफ जनता को पहचानने और सावधान करने में सहायता करता है।

3. आरबीआई द्वारा अलर्ट सूची को अपडेट करने का प्राथमिक उद्देश्य क्या है?

उत्तर: अलर्ट सूची को अपडेट करने का प्राथमिक उद्देश्य निवेशकों और व्यापारियों को धोखाधड़ी वाली विदेशी मुद्रा व्यापार गतिविधियों का शिकार होने से बचाना है।

Find More News Related to Banking

आरबीआई ने 19 अवैध विदेशी मुद्रा व्यापार संस्थाओं पर चेतावनी जारी की |_40.1

FAQs

आरबीआई ने किन बैंकों पर 10.34 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है?

आरबीआई ने सिटीबैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, इंडियन ओवरसीज बैंक पर 10.34 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है।

TOPICS: