Home   »   Ratan Tata ने Startup गुडफेलोज में...

Ratan Tata ने Startup गुडफेलोज में किया निवेश

Ratan Tata ने Startup गुडफेलोज में किया निवेश_3.1

रतन टाटा ने वरिष्ठ नागरिकों को सेवा के रूप में सहयोग प्रदान करने वाले स्टार्टअप गुडफेलोज में निवेश की घोषणा की। टाटा समूह से सेवानिवृत्त होने के बाद से रतन टाटा स्टार्टअप के सक्रिय समर्थक रहे हैं। इसका उद्देश्य युवाओं और शिक्षित स्नातकों को सार्थक सहयोग के लिए जोड़कर बुजुर्गों की मदद करना है। पिछले छह महीनों में, ‘गुडफेलो’ ने एक सफल बीटा पूरा कर लिया है और अब यह मुंबई और जल्द ही पुणे, चेन्नई और बेंगलुरु में उपलब्ध होगा। इस नवीनतम निवेश कंपनी की स्थापना शांतनु नायडू ने की है।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

कॉर्नेल विश्वविद्यालय से शिक्षित 25 वर्षीय नायडू टाटा के कार्यालय में महाप्रबंधक हैं और 2018 से टाटा की सहायता कर रहे हैं। नायडू ने टाटा को एक बॉस, एक संरक्षक और एक मित्र के रूप में संबोधित करते हुए कहा कि दुनिया में पांच करोड़ बुजुर्ग हैं, जो अकेले हैं। स्टार्टअप वरिष्ठ नागरिक ग्राहकों के साथी के रूप में काम करने के लिए युवा स्नातकों को काम पर रखता है। नायडू ने कहा कि वह पूरे देश में विस्तार करना चाहते हैं, लेकिन वह गुणवत्ता से समझौता किए बिना धीमी गति से आगे बढ़ना पसंद करेंगे।

क्या है गुडफेलो का बिजनेस मॉडल?

गुडफेलो का बिजनेस मॉडल एक फ्रीमियम सब्सक्रिप्शन मॉडल है। बुजुर्गों को इस सेवा का अनुभव कराने के लक्ष्य के साथ पहला महीना मुफ्त है। दूसरे महीने के बाद एक छोटा सा सदस्यता शुल्क है जो पेंशनभोगियों की सीमित सामथ्र्य के आधार पर तय किया गया है। स्टार्टअप ने कहा कि भारत में 1.5 करोड़ बुजुर्ग अकेले रह रहे हैं, या तो साथी के खोने के कारण, या परिवार अपरिहार्य कार्य कारणों से दूर जा रहे हैं। गुडफेलो उनके लिए कुछ सार्थक करने की दिशा में आगे बढ़ रहा है।

Find More Business News Here

Ola introduces India's first indigenously made lithium ion-cell_90.1

TOPICS:

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *