Home   »   रणधीर जायसवाल बने विदेश मंत्रालय के...

रणधीर जायसवाल बने विदेश मंत्रालय के नए प्रवक्ता, अरिंदम बागची की लेंगे जगह

रणधीर जायसवाल बने विदेश मंत्रालय के नए प्रवक्ता, अरिंदम बागची की लेंगे जगह |_30.1

विदेश मंत्रालय (एमईए) के आधिकारिक प्रवक्ता अरिंदम बागची ने रणधीर जयसवाल को कमान सौंप दी है।

विदेश मंत्रालय (एमईए) में एक महत्वपूर्ण परिवर्तन में, आधिकारिक प्रवक्ता अरिंदम बागची ने रणधीर जयसवाल को कमान सौंप दी है। यह कदम अक्टूबर 2023 में जिनेवा में संयुक्त राष्ट्र और अन्य अंतरराष्ट्रीय संगठनों में भारत के अगले स्थायी प्रतिनिधि के रूप में अरिंदम बागची की नियुक्ति के बाद आया है। श्री बागची, 1995-बैच के अनुभवी भारतीय विदेश सेवा (आईएफएस) अधिकारी हैं, जो अतिरिक्त सचिव का पद संभाल रहे हैं। एमईए ने मार्च 2021 में प्रवक्ता का पद संभाला था।

अपने कार्यकाल के दौरान, जो कि कोविड-19 महामारी और अन्य महत्वपूर्ण घटनाओं के चुनौतीपूर्ण समय तक फैला रहा, श्री बागची ने भारत की विदेश नीति का प्रतिनिधित्व करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उनके कार्यकाल में पूर्वी लद्दाख में भारत-चीन गतिरोध, सितंबर में भारत द्वारा जी20 शिखर सम्मेलन की सफल मेजबानी और विभिन्न वैश्विक भागीदारों के साथ राजनयिक जुड़ाव की तीव्र गति देखी गई।

नये प्रवक्ता का परिचय

आधिकारिक प्रवक्ता की भूमिका रणधीर जयसवाल संभाल रहे हैं, जो 1998 बैच के आईएफएस अधिकारी हैं। श्री जयसवाल का ट्रैक रिकॉर्ड सराहनीय है, उन्होंने पहले जुलाई 2020 से न्यूयॉर्क में महावाणिज्य दूत के रूप में कार्य किया है। उन्हें वैश्विक स्वास्थ्य संकट में अभूतपूर्व समय के दौरान अपने राजनयिक कौशल का प्रदर्शन करते हुए, कोविड-19 महामारी के दौरान भारतीय अमेरिकियों के प्रत्यावर्तन प्रयासों में सक्रिय रूप से भाग लेने के लिए प्रशंसा मिली।

श्री जयसवाल के राजनयिक करियर में पुर्तगाल, क्यूबा, ​​दक्षिण अफ्रीका और न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी मिशन में कार्य शामिल हैं। उनका विविध अनुभव उन्हें विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता के रूप में अरिंदम बागची की जगह लेने के लिए उपयुक्त बनाता है, जहां उनसे उभरते वैश्विक परिदृश्य में भारत की विदेश नीति को निर्देशित करने और स्पष्ट करने की उम्मीद की जाती है।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

1. रणधीर जयसवाल से पहले विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता के रूप में किसने कार्य किया था?

(a) वी. मुरलीधरन
(b) अरिंदम बागची
(c) राजेश उइके
(d) रणधीर जयसवाल

2. अरिंदम बागची ने किस वर्ष विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता का पद संभाला था?

(a) 2020
(b) 2021
(c) 2022
(d) 2023

3. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता पद छोड़ने के बाद अरिंदम बागची की नई नियुक्ति क्या है?

(a) फ्रांस में राजदूत
(b) जिनेवा में संयुक्त राष्ट्र में स्थायी प्रतिनिधि
(c) विदेश सचिव
(d) प्रोटोकॉल प्रमुख

4. प्रवक्ता के रूप में अरिंदम बागची के कार्यकाल के दौरान कौन सी चुनौतीपूर्ण घटना घटी?

(a) जी20 शिखर सम्मेलन
(b) कोविड-19 महामारी
(c) भारत-चीन गतिरोध
(d) उपरोक्त सभी

5. रणधीर जयसवाल ने पहले किस शहर में महावाणिज्य दूत के रूप में कार्य किया था?

(a) लंदन
(b) टोक्यो
(c) न्यूयॉर्क
(d) बर्लिन

6. रणधीर जयसवाल ने अपनी पिछली भूमिका के दौरान किस राजनयिक संकट को संभाला था?

(a) चीन के साथ व्यापार युद्ध
(b) यूरोप में शरणार्थी संकट
(c) कोविड-19 के दौरान भारतीय अमेरिकियों की स्वदेश वापसी
(d) अफ्रीका में बंधक स्थिति

7. रणधीर जयसवाल किस वर्ष भारतीय विदेश सेवा में शामिल हुए?

(a) 1990
(b) 1995
(c) 1998
(d) 2000

8. रणधीर जयसवाल ने किन देशों में राजनयिक पदों पर कार्य किया है?

(a) पुर्तगाल, क्यूबा, ​​दक्षिण अफ्रीका, संयुक्त राष्ट्र (न्यूयॉर्क)
(b) पाकिस्तान, बांग्लादेश, श्रीलंका, नेपाल
(c) रूस, चीन, जापान, कोरिया
(d) फ्रांस, जर्मनी, इटली, स्पेन

9. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता के रूप में अपनी नई भूमिका में रणधीर जयसवाल से क्या अपेक्षा की जाती है?

(a) पड़ोसी देशों के साथ द्विपक्षीय संबंधों का प्रबंधन करना
(b) विश्व स्तर पर कांसुलर सेवाओं की निगरानी करना
(c) भारत की विदेश नीति को संचालित और स्पष्ट करना
(d) प्रेस वार्ता और मीडिया आउटरीच आयोजित करना

कृपया अपने उत्तर टिप्पणी अनुभाग में दें।

 

रणधीर जायसवाल बने विदेश मंत्रालय के नए प्रवक्ता, अरिंदम बागची की लेंगे जगह |_40.1

FAQs

जामनगर रिफाइनरी प्रति माह कितने टन तक पायरोलिसिस तेल का उत्पादन करने की क्षमता रखती है?

जामनगर रिफाइनरी प्रति माह 600 टन तक पायरोलिसिस तेल का उत्पादन करने की क्षमता रखती है।