Home   »   रमेश बाबू वी. ने केंद्रीय विद्युत...

रमेश बाबू वी. ने केंद्रीय विद्युत विनियामक आयोग के सदस्य के रूप में शपथ ली

रमेश बाबू वी. ने केंद्रीय विद्युत विनियामक आयोग के सदस्य के रूप में शपथ ली_3.1

श्री रमेश बाबू वी. ने 21 मई, 2024 को केंद्रीय विद्युत नियामक आयोग (सीईआरसी) के सदस्य के रूप में पद और गोपनीयता की शपथ ली है। शपथ केंद्रीय विद्युत और नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री श्री आर. के. सिंह ने दिलाई।

प्रख्यात पृष्ठभूमि

श्री रमेश बाबू वी. के पास थर्मल इंजीनियरिंग में एम.टेक. और मैकेनिकल इंजीनियरिंग में बी.टेक. की डिग्री है। CERC में उनकी नियुक्ति से पहले, उन्होंने मई 2020 से अपनी सेवानिवृत्ति तक NTPC में निदेशक (संचालन) के रूप में सेवा दी। उनका व्यापक अनुभव NTPC के भीतर विभिन्न पदों पर फैला हुआ है।

सीईआरसी: नियामक प्राधिकरण

केंद्रीय विद्युत विनियामक आयोग (CERC) की स्थापना भारत सरकार द्वारा विद्युत विनियामक आयोग अधिनियम, 1998 के प्रावधानों के तहत की गई थी। CERC भारतीय विद्युत क्षेत्र के लिए केंद्रीय नियामक निकाय है, जिसे विद्युत अधिनियम, 2003 द्वारा अधिदेशित किया गया है।

रचना और संरचना

आयोग में एक अध्यक्ष और तीन सदस्य होते हैं। इसके अतिरिक्त, केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण के अध्यक्ष आयोग के पदेन सदस्य के रूप में कार्य करते हैं।

मुख्य कार्य और जिम्मेदारियां

विद्युत अधिनियम, 2003 के तहत CERC के प्रमुख कार्यों में शामिल हैं:

  • केंद्र सरकार के स्वामित्व या नियंत्रण वाली उत्पादन कंपनियों और ऐसी अन्य उत्पादन कंपनियों के टैरिफ को विनियमित करना, जो एक से अधिक राज्यों में बिजली के उत्पादन और बिक्री की समग्र योजना रखती हैं।
  • अंतर-राज्य बिजली पारेषण को विनियमित करना और अंतर-राज्य पारेषण के लिए टैरिफ निर्धारित करना।
  • अंतर-राज्य पारेषण और बिजली के व्यापार के लिए लाइसेंस जारी करना।
  • बिजली क्षेत्र से संबंधित विवादों का निपटारा करना।
  • राष्ट्रीय विद्युत नीति और टैरिफ नीति के निर्माण पर केंद्र सरकार को सलाह देना।
  • बिजली उद्योग में प्रतिस्पर्धा, दक्षता और अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देना।
  • बिजली क्षेत्र में निवेश को बढ़ावा देना।

निष्पक्ष और पारदर्शी विनियमन सुनिश्चित करना

CERC भारत में बिजली क्षेत्र के निष्पक्ष और पारदर्शी विनियमन को सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। श्री रमेश बाबू वी. की नियुक्ति के साथ, आयोग को थर्मल इंजीनियरिंग और पावर जेनरेशन के क्षेत्र में बहुमूल्य विशेषज्ञता और अनुभव प्राप्त होता है।

जैसे-जैसे देश ऊर्जा की बढ़ती मांग से निपटता रहता है, CERC की भूमिका उपभोक्ताओं को पूरे देश में टिकाऊ, विश्वसनीय और किफायती बिजली आपूर्ति सुनिश्चित करने में और भी महत्वपूर्ण हो जाती है।

रमेश बाबू वी. ने केंद्रीय विद्युत विनियामक आयोग के सदस्य के रूप में शपथ ली_4.1

FAQs

केंद्रीय विद्युत विनियामक आयोग (CERC) की स्थापना किस के तहत की गई थी?

केंद्रीय विद्युत विनियामक आयोग (CERC) की स्थापना भारत सरकार द्वारा विद्युत विनियामक आयोग अधिनियम, 1998 के प्रावधानों के तहत की गई थी।