Home   »   पीटी उषा को एसजेएफआई और डीएसजेए...

पीटी उषा को एसजेएफआई और डीएसजेए ने दिया लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड

पीटी उषा को एसजेएफआई और डीएसजेए ने दिया लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड |_30.1

महान धाविका और भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) की वर्तमान अध्यक्ष पीटी उषा को प्रतिष्ठित ‘लाइफटाइम अचीवमेंट’ पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

महान धाविका और भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) की वर्तमान अध्यक्ष पीटी उषा को प्रतिष्ठित ‘लाइफटाइम अचीवमेंट’ पुरस्कार से सम्मानित किया गया। यह सम्मान उन्हें भारतीय एथलेटिक्स में उनके असाधारण योगदान को मान्यता देते हुए स्पोर्ट्स जर्नलिस्ट फेडरेशन ऑफ इंडिया (एसजेएफआई) और दिल्ली स्पोर्ट्स जर्नलिस्ट एसोसिएशन (डीएसजेए) द्वारा प्रदान किया गया था। पुरस्कार समारोह में सम्मानित अतिथियों में राज्यसभा सदस्य और भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के उपाध्यक्ष राजीव शुक्ला और पूर्व भारतीय निशानेबाज जसपाल राणा सहित उल्लेखनीय हस्तियों की उपस्थिति देखी गई।

उत्कृष्टता को सम्मान

पीटी उषा, जिन्हें अक्सर “भारतीय ट्रैक और फील्ड की रानी” कहा जाता है, को एक पदक, एक प्रशस्ति पत्र और एक स्मृति चिन्ह भेंट किया गया, जो उनके शानदार खेल करियर के लिए उनके उच्च सम्मान का प्रतीक है। इस कार्यक्रम ने न केवल उनकी उपलब्धियों का जश्न मनाया बल्कि उस विरासत पर भी प्रकाश डाला जो उन्होंने वर्षों से बनाई है, जिससे देश भर के अनगिनत एथलीटों को प्रेरणा मिली है।

दिग्गजों में शामिल

उषा एसजेएफआई और डीएसजेए ‘लाइफटाइम अचीवमेंट’ पुरस्कार प्राप्त करने वाली पांचवीं प्रतिष्ठित खिलाड़ी बन गई हैं, जो टेनिस के दिग्गज विजय अमृतराज, बैडमिंटन आइकन प्रकाश पदुकोण, क्रिकेट के दिग्गज सुनील गावस्कर और साथी धावक मिल्खा सिंह की श्रेणी में शामिल हो गई हैं। यह सम्मान उन्हें एथलेटिक्स में उनके अद्वितीय योगदान और समर्पण को स्वीकार करते हुए, भारतीय खेल दिग्गजों की कतार में खड़ा करता है।

एक शानदार कैरियर

1977 और 2000 के बीच, पीटी उषा का करियर उनकी असाधारण प्रतिभा और दृढ़ता का प्रमाण था। उन्होंने वैश्विक मंच पर अपनी क्षमता का प्रदर्शन करते हुए भारत के लिए 103 अंतरराष्ट्रीय पदक जीते। उनकी उल्लेखनीय उपलब्धियों में ओलंपिक के तीन संस्करणों में उनकी भागीदारी के साथ-साथ एशियाई खेलों में चार स्वर्ण पदक और सात रजत पदक शामिल हैं। केरल की एक युवा एथलीट से भारतीय खेलों के लिए आशा और प्रेरणा की किरण बनने तक उषा की यात्रा दृढ़ संकल्प, कड़ी मेहनत और अद्वितीय सफलता की कहानी है।

पीढ़ियों के लिए एक प्रेरणा

पीटी उषा की विरासत उनके पदकों और रिकॉर्डों से भी आगे है। यह एथलीटों की एक पीढ़ी को जुनून और लचीलेपन के साथ अपने सपनों को आगे बढ़ाने के लिए प्रेरित करने की उनकी क्षमता में निहित है। उनकी यात्रा कई युवा खेल प्रेमियों के लिए आशा की किरण रही है, जिससे साबित होता है कि समर्पण और कड़ी मेहनत से वैश्विक पहचान हासिल करना संभव है।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

  1. हाल ही में स्पोर्ट्स जर्नलिस्ट फेडरेशन ऑफ इंडिया और दिल्ली स्पोर्ट्स जर्नलिस्ट एसोसिएशन से ‘लाइफटाइम अचीवमेंट’ पुरस्कार किसे मिला?
  2. भारतीय एथलेटिक्स में उनके उल्लेखनीय योगदान को मान्यता देते हुए पीटी उषा को कौन सा प्रतिष्ठित सम्मान प्रदान किया गया?
  3. पीटी उषा पुरस्कार समारोह में एक संसद सदस्य और एक पूर्व भारतीय निशानेबाज सहित उल्लेखनीय सम्मानित अतिथि कौन थे?
  4. भारतीय ट्रैक और फील्ड के क्षेत्र में पीटी उषा को अक्सर किस प्रकार संदर्भित किया जाता है?
  5. पीटी उषा की तरह किन प्रतिष्ठित हस्तियों को पहले एसजेएफआई और डीएसजेए ‘लाइफटाइम अचीवमेंट’ पुरस्कार मिला है?

कृपया अपनी प्रतिक्रियाएँ टिप्पणी अनुभाग में साझा करें।

पीटी उषा को एसजेएफआई और डीएसजेए ने दिया लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड |_40.1

FAQs

BARC के अनुसार दुनिया की दूसरी सबसे ज्यादा देखी जाने वाली टी-20 लीग बनीं?

इंटरनेशनल लीग T-20 (ILT-20). इस लीग को एक हफ्ते के अंदर 11.3 करोड़ की व्यूअरशिप मिली है।

TOPICS: